डे-नाइट मैच के लिए तैयार हुआ अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम

Kanpur	 Bureauकानपुर ब्यूरो Updated Thu, 29 Oct 2020 12:06 AM IST
विज्ञापन
ड्रोन कैमरा से खींची गई इटावा के सैफई में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम की तस्वीर
ड्रोन कैमरा से खींची गई इटावा के सैफई में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम की तस्वीर - फोटो : ETAWHA

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
इटावा। मेजर ध्यानचंद्र स्पोर्ट्स कॉलेज के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम सैफई मंगलवार की शाम दूधिया रोशनी से नहा उठा। दरअसल, यहां बजाज कंपनी के दिल्ली से आए अधिकारियों ने डे-नाइट मैचों के मद्देनजर यहां लगीं छह फ्लड लाइटों की दिशा व रोशनी की तीव्रता को परखी।
विज्ञापन

325 करोड़ से ज्यादा की लागत से इसे राजकीय निर्माण निगम बनवा रहा है। अधिकारियों ने यहां फायर सिक्योरिटी सिस्टम भी चेक किया गया। अब यहां पिच बनाने का काम जारी है, अन्य सुविधाओं-व्यवस्थाओं आदि की जांच पूरी होते ही नवंबर में स्टेडियम खेल विभाग को सौंप दिया जाएगा। नौ पिचों वाले इस स्टेडियम को बनने में लगभग चार साल का वक्त लग गया। विश्वस्तरीय खेल मानकों से युक्त इस स्टेडियम में बड़े स्तर के क्रिकेट मैच होने की संभावना प्रबल हो गई है। यहां आईपीएल, वन-डे, टेस्ट आदि क्रिकेट के हर फॉरमेट के मैच खेले जा सकेंगे।
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में यह है खास
यहां लगाया गया स्कोर बोर्ड देश के सबसे बड़े स्कोर बोर्ड में से एक है। यह 17 मी. लंबा व 9 मी. चौड़ा है तथा इसमें 2 गुणा 3 मीटर के 100 पैनल लगे हुए हैं। डिजिटल प्रणाली पर आधारित इस थ्री-डी स्कोर बोर्ड पर स्टेडियम में किसी भी स्थान पर बैठकर स्कोर देखा जा सकता है। अभी तक कोलकाता, रायपुर, मोहाली, हैदराबाद, पुणे, नागपुर व ग्वालियर के स्टेडियम में बड़े स्कोर बोर्ड हैं।
स्टेडियम में 43 हजार की दर्शक क्षमता
सैफई के इस अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में एक साथ 43 हजार दर्शक बैठकर मैच का नजारा ले सकते हैं। कानपुर के ग्रीनपार्क से यहां की दर्शक क्षमता महज दो हजार कम है।
कितनी भी बारिश हो, जल्द सूखेगा मैदान
इस स्टेडियम का मैदान इस प्रकार का बनाया गया है कि चाहे कितनी बारिश हो जाए, जल्द ही मैदान सूख जाएगा। मैदान में बालू, मिट्टी और कंकड़ों की कई सतहें हैं। जमीन के नीचे इस प्रकार का ढांचा बनाया गया है जो बारिश होने के कुछ ही समय में पूरा पानी सोख लेगा। जमीन के अंदर ही ड्रैनेज सिस्टम भी है जो सोखे गए पानी को स्टेडियम से बाहर बहा देगा।
मैदान में हैं नौ पिच
यहां मैदान में नौ पिचें तैयार की गई हैं। इन पर टी-ट्वेंटी, वन-डे व टेस्ट आदि सभी फॉरमेट के मैचों के आयोजित हो सकेंगे। मैदान पर विशेष प्रकार की बरमूडा घास लगाई गई है। मैदान की त्रिज्या 60 मीटर (120 मीटर बाउंड्री से बाउंड्री) है।
- लगभग 1800 मजदूर व स्टाफ ने बनाया स्टेडियम
कार्यदायी संस्था राजकीय निर्माण निगम द्वारा हैदराबाद की नागार्जुना कंस्ट्रक्शन कंपनी (एनसीसी) ने इस स्टेडियम का निर्माण किया है जिसमें लगभग 1800 मजदूर, इंजीनियर व अन्य स्टाफ को लगाया गया था। इसके आर्किटेक्ट अरुण कुमार लुंबा है जिन्होंने इससे पहले देश में 10 क्रिकेट स्टेडियम बनाए हैं। स्टेडियम का निर्माण कार्य मोहाली के चीफ क्यूरेटर दलजीत सिंह की देखरेख में हुआ है।
- इसके साथ ही दोनों टीमों के बैठने के लिए अलग-अलग साउथ पवेलियन, अंपायर रूम, खिलाड़ियों के ड्रेसिंग रूम व चेंज रूम, मीडिया सेंटर, कमेंट्री बॉक्स, पवेलियन आदि भी तैयार हैं।
जल्द ही खेल विभाग करेगा टेकओवर
सैफई में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम बनकर तैयार है, सभी चीजों की टेस्टिंग अंतिम दौर में है। यदि कोई खामी होगी तो संबंधित कंपनी उसको सुधारेगी। एसी, लिफ्ट आदि सभी काम पूरे हो चुके हैं। सभी जांचों के प्रमाण पत्र आते ही नवंबर में स्टेडियम का हैंडओवर खेल विभाग को हो जाएगा।
- एसके लहरी, जिला क्रीड़ाधिकारी।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X