विज्ञापन

कुलपति से मेडिकल छात्रों ने मांगा इस्तीफा, धरने पर बैठे

अमर उजाला ब्यूरो, इटावा Updated Sat, 16 Sep 2017 10:54 PM IST
सैफई आयुर्विज्ञान विवि में कुलपति के इस्तीफे कीमांग को लेकर धरने पर बैठे मेडिकल छात्र
सैफई आयुर्विज्ञान विवि में कुलपति के इस्तीफे कीमांग को लेकर धरने पर बैठे मेडिकल छात्र - फोटो : amarujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें
सैफई। सैफई आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय में शुक्रवार को कुलपति कार्यालय एवं आवास में की गई तोड़फोड़ के दूसरे दिन शनिवार को एमबीबीएस छात्रों ने एडमिन ब्लॉक परिसर में धरना-प्रदर्शन किया।
विज्ञापन
कुलपति के इस्तीफे की मांग पर अड़े एमबीबीएस छात्र दिन भर धरने पर बैठे रहे। हालांकि जूनियर डॉक्टरों के धरने में शामिल न होने से ओपीडी बहिष्कार का असर दिखाई नहीं दिया।

ओपीडी में रोजाना की भांति पर्चे बने और डॉक्टरों ने मरीज देखे। हालांकि इस झगड़े का असर ओपीडी में मरीजों की संख्या पर जरूर पड़ा। औसतन 3500 से 4500 तक होनेे वाली ओपीडी में शनिवार को लगभग 1500 मरीज ही आए।

वहीं विश्वविद्यालय की सुरक्षा के लिए दिन भर पुलिस मुस्तैद रही। एसडीएम सिद्धार्थ के समझाने पर भी छात्र धरने से नहीं हटे। कुछ सीनियर डॉक्टरों ने भी क्लासेस अटैच नहीं किए। कुलपति ने अपने कार्यालय में बैठकर कामकाज किया।

शुक्रवार दोपहर मेडिकल छात्र दिग्विजय सिंह की मां की सैफई अस्पताल में उपचार के दौरान मौत के बाद भड़के छात्रों एवं जूनियर डॉक्टरों ने जमकर बवाल मचाया था। एडमिन ब्लॉक, कुलपति कार्यालय एवं कुलपति आवास पर जमकर तोड़फोड़ एवं पथराव किया गया। कुलपति ने अपने कार्यालय की केबिन में छिपकर जान बचाई। इसके बाद से ही मेडिकल छात्रों ने एडमिन ब्लॉक में धरना शुरू कर दिया। छात्र कुलपति डॉ. बिग्रेडियर टी प्रभाकर को हटाने की मांग कर रहे थे।

शनिवार सुबह एडमिन ब्लॉक में मेडिकल छात्र हाथों में कुलपति हटाओ की तख्तियां लेकर धरने पर बैठ गए। हालांकि ओपीडी अपने निर्धारित समय पर शुरू हुई। इसके बाद एसडीएम सिद्धार्थ तीन बार मेडिकल छात्रों से बातचीत करने पहुंचे। दो तीन छात्रों को नाम देकर वार्ता के लिए बुलाने का आमंत्रण दिया। छात्रों ने वार्ता का आमंत्रण ठुकरा दिया।

उनका कहना था कि पहले कुलपति इस्तीफा दें तब कोई बात होगी। छात्रों ने अपने नाम बताने से भी इनकार कर दिया। वार्ता की कोशिशें विफल होती रहीं। छात्र धरने पर बैठे रहे। वहीं मेडिकल कक्षाओं पर भी आंशिक असर पड़ा। कुछ सीनियर डॉक्टरों ने क्लासेस अटैच नहीं किए। 


कुलपति ब्रिगेडियर टी प्रभाकर ने बताया कि ओपीडी में विधिवत काम हुआ। कुछ विपक्षी लोग उनके खिलाफ साजिश करके छात्रों को भड़काने का काम कर रहे हैं। उन्होंने मरीज हो या छात्र हमेशा सबकी हर संभव मदद की है। विपक्षी ही उनके खिलाफ छात्रों को आगे करके उन्हें बदनाम करने का षडयंत्र कर रहे हैं। उन्होंने मामले की पूरी जानकारी शासन को दे दी है।

 

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Etawah

बिजली गोदाम के चौकीदार की गला घोटकर हत्या

- भाई की तहरीर पर अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट, पुलिस ने एक युवक को हिरासत में लिया

18 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

इटावा से सामने आया मार-पिटाई का वीडियो, दबंगों ने सरेआम पीटा

इटावा से एक हैरान करने वाला वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में कुछ  लोग एक परिवार के साथ सरेआम मार-पिटाई करते नजर आ रहे हैं। पीड़ित परिवार का कहना है कि जब उन्होंने घटना की शिकायत पुलिस से की तो, कोई एक्शन लेने के बजाय उन्हें ही पकड़ लिया गया।

12 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree