सफाई व्यवस्था पर उबल पड़े सभासद

Etawah Updated Tue, 07 Aug 2012 12:00 PM IST
इटावा। प्रस्ताव संख्या 11 के तहत जब इस बात का उल्लेख हुआ कि पालिका सीमा के अंतर्गत सफाई व्यवस्था को मौजूदा समय में पूरी तरह कारगर बनाने के लिए पब्लिक हैल्थ मैन्यूअल के अनुसार 734 सफाई कर्मचारी होने चाहिए, जबकि अभी सिर्फ 482 सफाई कर्मचारी ही है। इसलिए 252 सफाई कर्मी व 10 सफाई नायकों की जरूरत है।
तभी तमाम सभासद उबल पड़े और शहर की सफाई व्यवस्था की खुद ही पोल खोलने लगे। कटरा साहब खां वार्ड से सभासद दिलीप दुबे ने सवाल किया कि यह बताया जाए कि आखिर सफाई की व्यवस्था क्या और कैसे लागू है। कितने सफाई कर्मी स्थाई और कितने ठेके या संविदा पर लगे हैं। इस पर मुख्य सफाई निरीक्षक राजेंद्र कुमार ने बताया कि 177 स्थाई, 145 संविदा व 160 ठेका प्रथा पर लगे हैं। अशोक नगर प्रथम वार्ड से सभासद रत्नेश भदौरिया ने कड़े तेवर दिखाते हुए कहा कि सफाई कर्मियों की हाजिरी सभासदों को सौंपी जाए। तभी वह सभासदों के अनुसार काम करेंगे। यदि ऐसा नहीं होता है तो वह धरना तक देंगे।
सभासद शरद बाजपेई ने कहा कि वह पांच बार सफाई कर्मियों की सूची मांग चुके हैं। लेकिन अब तक नहीं दी गई। दीपक भदौरिया ने कहा कि जलभराव वाले स्थान चिह्नित हों और स्थाई निदान किया जाए। मुहम्मद साबिर ने कहा कि सफाई न होने के लिए सफाई नायक जिम्मेदार हैं। सभी सभासदों की राय जानने के बाद अध्यक्ष कुलदीप गुप्ता ने कहा कि सभासद यदि ईमानदारी से काम चाहते हैं तो वैसे ही होगा। हर क्षेत्र में मेंबरों की कमेटी बना देंगे। इस प्रस्ताव पर सबसे अधिक करीब 20 मिनट तक चर्चा चली।

सबमर्सिबल पंप लगाने का आधार क्या है
इटावा। बोर्ड की बैठक में प्रस्ताव 13 के तहत जब मोटर पंप आदि क्रय किए जाने का प्रस्ताव रखा गया तो सभासदों ने अब लगाए गए सबमर्सिबल पंपों को लेकर सवाल दागने शुरू कर दिए। सभासद रत्नेश ने सवाल किया कि आखिर सबमर्सिबल पंप लगाने का आधार क्या है। यदि एक सबमर्सिबल पंप एक व्यक्ति के लिए है तो उन्हें अपने वार्ड के लिए दो हजार सबमर्सिबल पंप चाहिए है। कई लोगों ने नगर पालिका सबमर्सिबल पंपों को सिर्फ अपने लिए सीमित कर रखा है।
मुहम्मद अनीस ने कहा कि पिछले समय में हुए कार्यो की जांच की जाए। मुहम्मद साबिर ने कहा कि जो पाइप लाइन बिछाई गई है उसकी जांच होनी चाहिए। एक सभासद ने 16-17 साल की उम्र वाले लड़कों को ट्यूबवेल आपरेटर के तौर नियुक्त किए जाने पर एतराज उठाया।
इस पर चेयरमैन कुलदीप गुप्ता ने कहा कि सभासद अपनी शिकायत लिखित में दें, उस पर कार्रवाई की जाएगी। यदि कार्रवाई न हो तो उसे अगली बैठक में रखें। उन्होंने सबमर्सिबल पंप की पिछली लागत को लेकर भी सवाल उठाया। पंप की लागत 30 हजार रुपए है, उसके लिए एक लाख 11 हजार रुपए का एस्टीमेट बना है। ईओ जनार्दन राय ने बताया कि उन्होंने अपने कार्यकाल में सिर्फ तीन सबमर्सिबल पंपों के लिए करीब 2 लाख 12 हजार रुपए का चेक काटा है। पिछली बोर्ड की बैठक में करीब 200 सबमर्सिबल पंपों के प्रस्ताव पास हुए हैं। 6 माह तक प्रस्ताव पर अमल न होने पर वह महत्वहीन हो जाता है।

बगैर बैठक किए दो लाख खर्च कर सकेंगे चेयरमैन
इटावा। सभासदों की ओर से बैठक में चेयरमैन के द्वारा खर्च की जाने वाली अधिकतम धनराशि संबंधी अधिकार का प्रस्ताव रखा गया। इस प्रस्ताव पर सिर्फ दो सभासदों ने विरोध दर्ज कराया और प्रस्ताव पास हो गया।
सभासद लीलावती राजपूत, शफीक मुस्तफा, विमल, गंभीर सिंह आदि ने प्रस्ताव रखा कि निर्माण, जलापूर्ति, प्रकाश व्यवस्था एवं अन्य आकस्मिक कार्यों के लिए बिना बोर्ड की स्वीकृति के चेयरमैन को दो लाख रुपए तक खर्च करने का अधिकार दिया जाए। इस पर चौगुर्जी वार्ड के सभासद दीपक भदौरिया, शाहग्रान के मुहम्मद साबिर ने यह कहते हुए एतराज दर्ज किया कि यह धनराशि अधिक है। चेयरमैन संटू ने अन्य सभासदों से भी प्रस्ताव पर राय मांगी, लेकिन किसी ने विरोध नहीं किया। बाद में यह प्रस्ताव पास हो गया। इसी के साथ चेयरमैन को सभी प्रस्तावों पर निविदा आमंत्रित करने, स्वीकृत करने तथा कार्य के उपरांत भुगतान करने का अधिकार भी सदन से पास किया।

सभासद कक्ष बनेगा
सभासदों ने नगर पालिका परिसर की दशा सुधारने की मांग रखी। इसके तहत रैदास सभागार में एसी लगाने व सभासदों के लिए कक्ष निर्माण कराया जाना रहा। चेयरमैन संटू ने कहा कि वह सभासदों के लिए जन्म-मृत्यु प्रमाणपत्र कक्ष के ऊपर कमरा बनवाएंगे। इसके लिए वह इस्टीमेट बनवा रहे हैं।

यमुना घाट के सुंदरीकरण की मांग उठाई
सभासद शरद बाजपेई व मंजू देवी ने बैठक में अध्यक्ष की अनुमति से अन्य प्रस्ताव के जरिए यमुना घाट के सुंदरीकरण की मांग उठाई। सभासदों ने कहा कि आधुनिक तकनीक से युक्त शव दाह घर बनवाया जाए। क्षेत्र को प्रदूषण मुक्त कराया जाए। सबमर्सिबल पंप लगवाया जाए। टूटे टिन शेड ठीक कराए जाए। घाट पर पानी के ठहराव के लिए उचित कदम उठाए जाए। चेयरमैन ने आश्वस्त किया कि सभी धार्मिक स्थलों का समान रूप से सुंदरीकरण कराया जाएगा। जहां तक यमुना घाट पर पानी के ठहराव का प्रश्न है तो उसके लिए इस्टीमेट तैयार करवाएंगे।
जिला योजना के लिए प्रस्तावित कार्य और उनकी लागत
इटावा। बैठक में जिला योजना के लिए 13.44 करोड़ रुपए के प्रस्तावों को पास किया गया। इसमें 14 सड़कों की इंटरलॉकिंग के लिए 4.47 करोड़ रुपए, जल निकासी व नालों के निर्माण के लिए 1.53 करोड़ रुपए, पर्यावरण की दृष्टि से ईको पार्क के लिए 1.68 करोड़ रुपए, 14 बस्तियों में मिनी नलकूप अधिष्ठापन के लिए 1.40 करोड़ रुपए, इन बस्तियों में पीवीसी पाइप लाइन बिछाने के लिए 1.17 करोड़ रुपए, प्रकाश व्यवस्था के लिए 99 लाख रुपए, 150 हैंडपंप की स्थापना के लिए 75 लाख रुपए और सालिड वेस्ट मैनेजमेंट उपकरण खरीदने के लिए 93 लाख रुपए के प्रस्ताव शामिल हैं। ईओ जर्नादन राय ने बताया कि बैठक में पास हुए प्रस्ताव जिला योजना की बैठक में रखे जाएंगे। यदि शासन से उक्त प्रस्ताव स्वीकृत हो जाते हैं तो शहर का काफी अच्छा विकास हो जाएगा।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में शौचालय भी हुए भगवा, पूर्व सीएम अखिलेश ने ली चुटकी

इटावा के एक गांव में बन रहे शौचालयों को भगवा रंग में रंगा जा रहा है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत बन रहे 350 शौचालयों में से सौ शौचालयों को भगवा में रंगा जा चुका है।

13 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper