परिषदीय स्कूलों में शिक्षकों का रहेगा टोटा

Etawah Updated Mon, 02 Jul 2012 12:00 PM IST
इटावा। नवीन शैक्षिक सत्र में परिषदीय विद्यालयों में शिक्षण व्यवस्था को सुचारु ढंग से चलाना बीएसए के लिए बड़ी चुनौती होगी। पहले से ही शिक्षकों की कमी से जूझ रहे परिषदीय विद्यालयों में अब और अधिक शिक्षकों का टोटा होगा क्योंकि 120 शिक्षक शिक्षकाएं रिटायर हो गए है। इतने शिक्षकों की कमी के चलते विद्यालयों में पढ़ाई करा पाना किसी अग्निपरीक्षा से कम नहीं होगा।
जनपद के परिषदीय उच्च प्राथमिक एवं प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत 120 शिक्षक 30 जून को रिटायर हो गए हैं। इनमें प्राथमिक स्तर के 31 तथा जूनियर स्तर के 89 शिक्षक शिक्षकाएं शामिल हैं। उच्च प्राथमिक विद्यालयों में पहले से ही 529 शिक्षकों की कमी थी। 89 शिक्षकों के रिटायर होने से अब 618 शिक्षकों की कमी हो जाएगी। इसी तरह प्राथमिक विद्यालयों में 1717 शिक्षकों की कमी पहले से ही थी। अब1748 शिक्षकों की कमी हो जाएगी। पिछले शैक्षिक सत्र में ही तमाम विद्यालय एकल शिक्षक में संचालित तो कहीं कहीं पर शिक्षामित्रों के सहारे ही संचालित होते रहे। शिक्षकों की बढ़ी कमी से विद्यालयों में तालाबंदी की नौबत भी आ सकती है।
जिले में परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों में प्रधानाध्यापक के 1187 तथा सहायक अध्यापकों के 2937 पद सृजित हैं। इसके सापेक्ष पिछले सत्र में 890 प्रधानाध्यापक व 1517 सहायक अध्यापक रहे। इसके अलावा 1496 शिक्षामित्र भी कार्यरत हैं। इसी तरह जूनियर हाईस्कूल स्तर के विद्यालयों में प्रधानाध्यापक के 535 तथा सहायक अध्यापकों के 1332 पद हैं। इनके सापेक्ष पिछले सत्र में 284 प्रधानाध्यापक तथा 1054 सहायक अध्यापक रहे।

-शिक्षकों की कमी से शासन को अवगत करा दिया गया है। फिलहाल उपलब्ध शिक्षकों के जरिए विद्यालयों में शिक्षण कार्य सुचारु बनाने का प्रयास किया जाएगा। किसी भी विद्यालय में शिक्षण कार्य बाधित होने की स्थिति नहीं आने दी जाएगी।
-शिवप्रसाद यादव बीएसए इटावा
नए उच्चीकृत विद्यालयों में शिक्षकों की तैनाती
जनपद में इस वर्ष पांच उच्च प्राथमिक विद्यालय उच्चीकृत होकर उच्च माध्यमिक विद्यालय हुए है। नए शैक्षिक सत्र से इन पांचों विद्यालयों में कक्षा 9 की कक्षाएं संचालित होंगी। इनमें कक्षा 8 तक की कक्षाएं पूर्ववत बेसिक शिक्षा परिषद के अधीन ही रहेंगी जबकि कक्षा 9 की कक्षाएं माध्यमिक शिक्षा परिषद के अधीन चलेंगी। जिला विद्यालय निरीक्षक ओपी सिंह ने उमावि समसपुर भरथना, उमावि जौनानी चकरनगर, उमावि बाउथ व उमावि राजपुर जसवंतनगर, उमावि नगरिया कूकपुर सैफई में दो दो शिक्षकों को संबद्ध कर दिया है। यह शिक्षक राजकीय विद्यालयों से संबद्ध किए गए हैं।

स्कूल चलो अभियान की होगी शुरुआत
सबको शिक्षित करने के उद्देश्य से सर्व शिक्षा अभियान के तहत स्कूल चलो अभियान की शुरुआत भी होगी। विद्यालय खोलने के साथ ही इस अभियान को संचालित करने क ी जिम्मेदारी भी शिक्षकों पर होगी। इसके लिए शिक्षकों को घर घर जाकर बच्चों के अभिभावकों से संपर्क करना होगा। यदि उनका कोई बच्चा स्कूल नहीं जा रहा है तो उसका नामांकन कराया जाएगा। इस बार शिक्षकों को अभिभावकों के हस्ताक्षर भी लेने होंगे। शिक्षा अधिकार अधिनियम के अंतर्गत शिक्षा हक अभियान का श्रीगणेश भी होगा। फिलहाल इसके लिए वालेंटियर्स का चयन किया जाएगा।

-----------

Spotlight

Most Read

Rohtak

जीएसटी विभाग ने ई-वे बिल को लेकर जांच किया अवेयरनेस कैंपेन

जीएसटी विभाग ने ई-वे बिल को लेकर जांच किया अवेयरनेस कैंपेन

19 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में शौचालय भी हुए भगवा, पूर्व सीएम अखिलेश ने ली चुटकी

इटावा के एक गांव में बन रहे शौचालयों को भगवा रंग में रंगा जा रहा है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत बन रहे 350 शौचालयों में से सौ शौचालयों को भगवा में रंगा जा चुका है।

13 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper