सौतेले बेटे की पीट-पीट कर हत्या

Etawah Updated Mon, 02 Jul 2012 12:00 PM IST
इटावा। सिविल लाइन थाना क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम चौगान में महिला ने अपने बेटों के साथ मिलकर सौतेले बेटे की लाठी डंडों व ईंटों से पीट-पीट कर हत्या कर दी। युवक का कसूर सिर्फ इतना था कि उसने अपनी बाइक की मांग कर दी थी। युवक की हत्या करने के बाद सौतेली मां सहित चार आरोपी फरार हो गए। जानकारी पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लिया। मृतक के चाचा की तहरीर पर पुलिस ने चार लोगों के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।
ग्राम चौगान निवासी राजू (26) पुत्र रुस्तम सिंह के नाम एक बाइक थी लेकिन उसे उसका सौतेला भाई बबलू चलाता था। शनिवार की रात को राजू ने बबलू से अपनी बाइक यह कहकर मांगी कि उसे कहीं जाना है। बबलू ने इंकार कर दिया। जब उसने जोर देकर बाइक मांगी तो बबलू, उसकी मां कुसुमा देवी व भाई किशनकुमार भड़क उठे और उन्होंने बबलू के साले रवी पुत्र सोनेलाल निवासी राहतपुरा के सहयोग से उसको लाठी डंडों व ईंट से पीटना शुरू कर दिया।
जान बचाने के लिए राजू भागकर अपने चाचा शंकर सिंह के घर में जा घुसा। वहां भी उक्त लोग जा पहुंचे और उसकी फिर जमकर पिटाई की। शंकर सिंह ने उसको बचाने का प्रयास किया तो उक्त लोगों ने उनके साथ भी मारपीट की। बुरी तरह पीटने के बाद उक्त लोग वहां से निकल आए। लहूलुहान राजू गश खाकर वहीं गिर पड़ा। शंकर सिंह गांव वालों की मदद से राजू को जिला अस्पताल लाए जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना के बाद आरोपी फरार हो गए। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। शंकर सिंह ने बबलू व किशन कुमार पुत्रगण रुस्तम सिंह, कुसुमा देवी पत्नी रुस्तम व रवी के खिलाफ गैर इरादतन हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई है।
पिता की मौत के बाद मदद भी की थी राजू ने
- ग्राम चौगान निवासी पीडब्लूडी में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी रुस्तम की पत्नी सुखरानी से दो पुत्र राजू व सर्वेश हुए। सुखरानी की मौत के बाद रुस्तम ने कुसुमा देवी से शादी कर ली थी। उससे भी दो पुत्र बबलू व किशनकुमार हुए। डेढ़ वर्ष पूर्व रुस्तम की मौत हो गई। उसके बाद राजू ने पिता के स्थान पर बबलू की नौकरी लगवाने में मदद की थी। इसी दौरान ने एक बाइक अपने नाम खरीदी लेकिन चलाता बबलू ही था।
पत्नी व बच्ची हुईं बेसहारा
- राजू की मौत से उसकी पत्नी कमलेश और एक वर्ष की बच्ची खुशबू बेसहारा हो गईं। तीनों ही एक साथ पैतृक मकान में रहते थे। उसी मकान में उसकी सौतेली मां अपने बेटों के साथ रहती थी। राजू की हत्या के बाद से कमलेश का रो रोकर बुरा हाल है। गांव की महिलाएं उसको ढाढस बंधाती रहीं।
मौके पर नहीं पहुंची पुलिस
- राजू की हत्या के बाद पुलिस ने गांव भी जाना जरूरी नहीं समझा। राजू को लहूलुहान अवस्था में उसके चाचा व गांव के लोग अस्पताल लेकर आए थे। डाक्टरों के मृत घोषित किए जाने के बाद थाना पुलिस अस्पताल पहुंची और वहीं शव को कब्जे में लेकर उसे मरचरी में रखवा दिया। रविवार को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया लेकिन। मौके पर न जाने से ग्रामीणों में पुलिस के प्रति गुस्सा दिखा।

Spotlight

Most Read

Lucknow

ओपी सिंह कल संभालेंगे यूपी के डीजीपी का पदभार, केंद्र ने किया रिलीव

सीआईएसएफ के डीजी ओपी सिंह को रिलीव करने की आधिकारिक घोषणा रविवार को हो गई।

21 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में शौचालय भी हुए भगवा, पूर्व सीएम अखिलेश ने ली चुटकी

इटावा के एक गांव में बन रहे शौचालयों को भगवा रंग में रंगा जा रहा है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत बन रहे 350 शौचालयों में से सौ शौचालयों को भगवा में रंगा जा चुका है।

13 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper