बीस प्रतिशत से कम रिजल्ट है तो नहीं बनेंगे परीक्षा केंद्र

Etawah Updated Sat, 10 Nov 2012 12:00 PM IST
इटावा। वर्ष 2012-13 की माध्यमिक शिक्षा परिषद की हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षा के लिए केंद्रों के निर्धारण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। माध्यमिक शिक्षा विभाग में इस बाबत कार्य शुरू कर दिया गया है। वर्ष 2012 की बोर्ड परीक्षा में जिन विद्यालयों का परीक्षाफल 20 प्रतिशत से कम होगा, उन विद्यालयों को परीक्षा केंद्र नहीं बनाया जाएगा। भले ही पिछले वर्ष शांतिपूर्ण परीक्षा कराने के कारण केंद्र बनाए जाने के लिए अनिवार्य श्रेणी में क्यों न आते हों।
परीक्षा केंद्रों के निर्धारण के लिए माध्यमिक शिक्षा सचिव ने नीति निर्धारण कर दिया है। इन्हीं नीतियों के आधार पर जनपदीय समिति को केंद्रों का निर्धारण करना होगा। जनपदीय समिति में अध्यक्ष डीएम तथा डीआईओएस सदस्य सचिव है। लिहाजा डीआईओएस स्तर से ही केंद्र निर्धारण की पूरी प्रक्रिया करनी होगी। इसका अनुमोदन जनपदीय समिति करेगी। निर्धारित नीति के अनुसार राजकीय एवं सहायता प्राप्त विद्यालयों में अधिकतम 1200 परीक्षार्थी आवंटित होंगे जबकि वित्तविहीन केंद्रों पर अधिकतम छात्र संख्या 500 निर्धारित की गई है। नीति में साफ उल्लेख है कि पहले राजकीय उसके बाद अशासकीय सहायता प्राप्त और उसके बाद वित्तविहीन विद्यालयों को केंद्र बनाया जाए। 1200 से अधिक धारण क्षमता वाले राजकीय एवं अशासकीय सहायता प्राप्त विद्यालयों में ‘अ’ एवं ‘ब’ दो परीक्षा केंद्र निर्धारित किए जाएं।
ऐसा नहीं है कि डिबार विद्यालय केंद्र नहीं बन सकते। राजकीय और अशासकीय सहायता प्राप्त विद्यालय केंद्र बन सकते हैँ। परंतु इसके लिए व्यवस्था है कि उस विद्यालय का पूरा स्टाफ बदल दिया जाएगा। ऐसे विद्यालयों को केंद्र बनाए जाने से मनाही की गई है जिन विद्यालयों में पिछले वर्ष केंद्र बने होने के दौरान शिक्षा विभाग, जिला प्रशासन के निरीक्षण/ पर्यवेक्षक अधिकारियों अथवा सचल दल के सदस्याें के साथ अभद्र व्यवहार किया गया हो अथवा केंद्र पर हिंसात्मक एवं आगजनी की घटनाएं हुई हों। प्रबंध तंत्र और प्रधानाचार्य के मध्य विवाद वाले विद्यालय भी केंद्र नहीं बन सकेंगे। उधर, गत वर्ष की परीक्षा में जिन परीक्षार्थियों को जिन केंद्रों पर आवंटित किया गया था। उन परीक्षार्थियों का इस वर्ष उन केंद्रों पर आवंटित नहीं किया जाएगा। वित्तविहीन विद्यालयों के छात्रों का आवंटन सर्वप्रथम राजकीय एवं सहायता प्राप्त विद्यालयों में किया जाएगा।
माध्यमिक शिक्षा सचिव की ओर से जारी पत्र में परीक्षा केंद्रों के निर्धारण का विधिवत कार्यक्रम घोषित किया गया है। इसके तहत जनपदीय समिति द्वारा परीक्षा का केंद्रों का निर्धारण 16 नवंबर तक किया जाएगा। 21 नवंबर को जनपदीय समिति चयनित केंद्रों क ा सार्वजनिक प्रकाशन करेगी। 26 नवंबर तक चयनित केंद्रों के संबंध में आपत्तियां/प्रत्यावेदन प्राप्त किए जाएंगे। पहली दिसंबर को प्राप्त प्रत्यावेदनों का सम्यक परीक्षण करके केंद्र निर्धारण के औचित्य के संबंध में समिति द्वारा परीक्षा केंद्रों का अनुमोदन एवं मंडलीय समिति के विचारार्थ प्रस्तुत कर दिया जाएगा।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

RLA चंडीगढ़ में फिर गलने लगी दलालों की दाल, ऐसे फांस रहे शिकार

रजिस्टरिंग एंड लाइसेंसिंग अथॉरिटी (आरएलए) सेक्टर-17 में एक बार फिर दलाल सक्रिय हो गए हैं, जो तरह-तरह के तरीकों से शिकार को फांस रहे हैं।

21 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में शौचालय भी हुए भगवा, पूर्व सीएम अखिलेश ने ली चुटकी

इटावा के एक गांव में बन रहे शौचालयों को भगवा रंग में रंगा जा रहा है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत बन रहे 350 शौचालयों में से सौ शौचालयों को भगवा में रंगा जा चुका है।

13 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper