करवा चौथ:‘पवित्र रिश्ता’ सीरियल की अर्चना जैसी साड़ी मनभाई

Etawah Updated Thu, 01 Nov 2012 12:00 PM IST
इटावा। करवा चौथ का पर्व शुक्रवार को है। इसके लिए सजने संवरने से लेकर व्रत की सामग्री तक का बाजार सज गया है। इस समय बाजारों में खूब चहल-पहल है और मनपसंद सामान खरीदने के लिए महिलाओं की भीड़ उमड़ रही है। बाजारों में इस पर्व को ध्यान में रखते हुए ज्वैलरी, आर्टिफिशियल ज्वैलरी, साड़ी विक्रेताओं ने अपनी-अपनी दुकानें सजा ली हैं। सोने की कीमतों के आसमान छूने से महिलाओं में आर्टिफिशियल ज्वैलरी का क्रेज बढ़ा है। खास बात यह है कि बाजार में धारावाहिक व फिल्मों में प्रयुक्त सामान की मांग ज्यादा दिखी। कोई ‘पवित्र रिश्ता’ सीरियल की अर्चना जैसी साड़ी तलाश कर रहा था तो कोई ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ सीरियल की अक्षरा ब्रांड साड़ी व चूड़ियों की फरमाइश दुकानदार से करता दिखा। इस बाबत दुकानदारों का कहना है कि ग्राहक की रुचि को ध्यान में रखकर माल मंगाना पड़ता है। राजस्थानी काम वाली साड़ियां भी काफी पसंद की जा रही है। साड़ी विक्रेता प्रदीप अग्रवाल बताते है कि अब तो देहात क्षेत्र में भी इसका रुझान बढ़ा है। वहीं, पूजा में इस्तेमाल होने वाले करवा पर भी आधुनिकता का रंग दिखा। मिट्टी के परंपरागत करवे की जगह महिलाओं का रुझान पीतल व गिलट के करवे की ओर ज्यादा दिखा। रईस घरानों की महिलाएं चांदी का करवा खरीदती दिखीं। बाजार में पीतल का करवा 50 से 500 रुपए तक उपलब्ध हैं।
करवा चौथ का त्योहार सुहागिनों के सजने संवरने का है। इसके लिए ब्यूटी पार्लरों में साज-श्रृंगार के लिए अभी से बुकिंग शुरू हो गई है। इसके लिए तरह-तरह के पैकेज तैयार हैं। एक हाथ मेें मेहंदी का अलग रेट तो दोनों हाथ में बांह भर कर मेहंदी लगाने का अलग रेट है। इसके अलावा घरों में भी खूब तैयारी हो रही है। इस खास दिन पर अपने सजना के लिए सजने संवरने की ललक सभी में है। साजन की पसंद को देखते हुए महिलाएं सजने का बंदोबस्त करने में जुटी हैं। बाजार में खरीददारी कर रही एक विवाहिता ने इस बारे में पूछने पर तपाक से कहा कि इस दिन का तो उन्हें पूरे साल इंतजार रहता है। इसी दिन को सोलह श्रृंगार करने का भरपूर मौका मिलता है।
सोने-चांदी के दाम बढ़ने से बिक्री पर खास असर नहीं दिखा। सराफा की दुकानों पर खरीददारों की आवाजाही बराबर बनी है। यह जरूर है कि भारी जेवर की जगह महिलाएं लाइट वेट जेवर ज्यादा पसंद कर रही हैं। वैसे आर्टिफिशियल ज्वैलरी का क्रेज ज्यादा दिखा। वर्तमान में सोने की कीमतें 31400 रुपए प्रति दस ग्राम तथा चांदी की कीमत 60 हजार रुपए प्रति किलो है। सराफा कारोबारी मोहित सिंह बताते हैं कि कीमतें बढ़ने का ज्यादा असर नहीं है, बीते साल की तरह ही ग्राहकों की आवाजाही है।
चांदी की पायल व बिछिया के स्थान पर व्हाइट मेटल की पायल व बिछिया सुहागिनों की पहली पसंद बनकर उभरी है। बताते हैं कि इनका रंग पीला नहीं पड़ता है। चार बिछिया 60 रुपए से लेकर 300 रुपए तक, पायलें 100 रुपए से लेकर 500 रुपए तक उपलब्ध हैं। इसके अलावा सोने के आभूषणों के स्थान पर रोलेक्स ब्रांड के आभूषणों की मांग है। कानों के टॉप्स 100 से 200 रुपए तक, चेन व मंगलसूत्र 150 से 500 रुपए तक के उपलब्ध है। फार्मिंग अर्थात वन ग्राम के हार दो हजार से 5 हजार तक के उपलब्ध है। इसके अलावा अमेरिकन डायमंड के हार भी उपलब्ध है जिनकी कीमत एक हजार से 5 हजार तक है। आर्टीफिशियल विक्रेता राजू जैन बताते है कि सोने चांदी की बढ़ी कीमतों के कारण ही इनकी मांग काफी बढ़ी है।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

हरियाणाः यमुनानगर में 12वीं के छात्र ने लेडी प्रिंसिपल को मारी तीन गोलियां, मौत

हरियाणा के यमुनानगर में आज स्कूल में घुसकर प्रिंसिपल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मामले में 12वीं के एक छात्र को गिरफ्तार किया गया है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में शौचालय भी हुए भगवा, पूर्व सीएम अखिलेश ने ली चुटकी

इटावा के एक गांव में बन रहे शौचालयों को भगवा रंग में रंगा जा रहा है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत बन रहे 350 शौचालयों में से सौ शौचालयों को भगवा में रंगा जा चुका है।

13 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper