सीडीओ की जांच में पंचायत के कामों की खुली पोल

विज्ञापन
Kanpur	 Bureau कानपुर ब्यूरो
Updated Sat, 25 May 2019 12:19 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
इटावा। चकरनगर ब्लॉक क्षेत्र की कोला पंचायत क्षेत्र में विकास कार्यों में 6 लाख 35 हजार 519 रुपये की सरकारी रकम हजम कर ली गई। सीडीओ राजा गणपति आर ने गत बुधवार को गलियों, पंचायत भवन, स्कूल आदि स्थलीय निरीक्षण किया। जिसमें यह वित्तीय अनियमितता पकड़ में आई। उन्होंने जिला पंचायतराज अधिकारी को निर्देश दिए कि पंचायत सचिव व प्रधान से यह रकम वसूलें और 10 दिन के अंदर सरकारी खजाने में जमा कराएं।
विज्ञापन


कोला पंचायत के कामों में गड़बड़ी की शिकायत गांव के ही मिरेंद्र सिंह ने की थी। इस पर सीडीओ ने मौके पर जाकर जांच की। गांव में मुलायम व राजेंद्र के घरों के बीच 3.85 लाख रुपये की लागत वाली 110 मीटर लंबी गली में इंटरलॉकिंग का जायजा लिया। तकनीकी टीम ने ईंटें खोदकर सीमेंट, बालू व डस्ट की जांच की। नाली निर्माण देखा। इसमें मिट्टी भराई का प्रावधान न होने के बावजूद 109850 रुपये और तकनीकी स्वीकृति से पूर्व कई अन्य मदों के भुगतान कर दिए जाने की बात सामने आई। इस गली के निर्माण कार्य में कुल 150350 रुपये का दुरुपयोग पकड़ा गया। नाली के निर्माण में 14445 रुपये की पुरानी ईंटें लगी मिलीं। इंटरलॉकिंग ईंट की मोटाई भी एक सेमी कम पाई। जिस पर लागत से 22600 रुपये की कटौती की। इस निर्माण कार्य में कुल एक लाख 87 हजार 395 रुपये की वसूली पंचायत सचिव पूरन सिंह व प्रधान शिवकुमार से किए जाने के निर्देश दिए।


इसी तरह कोला गांव के मेन रोड से अमर सिंह के घर तक हुए इंटरलॉकिंग कार्य का जायजा लेते वक्त ग्रामीणों ने बताया कि यह सड़क अमरसिंह की निजी जमीन पर बनाई गई है। इस कार्य पर खर्च 119162 रुपये की वसूली भी पूरन सिंह व शिवकुमार से करने को कहा गया। कोला गांव में ही मेन रोड से विनोद के घर तक इंटरलॉकिंग कार्य बगैर किसी तकनीकी अधिकारी के हस्ताक्षर पर मिला। यह सीसी रोड विनोद के घर के परिसर में बनी पाई गई। ग्रामीणों ने बताया कि इस मार्ग का लाभ उन्हें नहीं मिल रहा। इस कार्य पर हुए 75474 रुपये के भुगतान की वसूली भी पूरन सिंह व शिवकुमार से करने के निर्देश दिए।

सरकारी रकम सिर्फ गलियों के निर्माण में ही हजम नहीं की गई। बल्कि पंचायत घर की मरम्मत व रंगाई पुताई के कार्य में भी हुई है। जिस पर 28287 रुपये पूरन सिंह व शिवकुमार से वसूलने को कहा गया। कोला गांव के प्राथमिक विद्यालय में बाल पेंटिंग के भुगतान का कोई प्राक्कलन व माप पुस्तिका उपलब्ध नहीं कराई गई। न ही तकनीकी अनुमोदन लिया गया और कोटेशन संलग्न किए गए। इस पर फर्म को भुगतान किए गए 72994 रुपये और इसी विद्यालय के लिए खरीदे गए मेज कुर्सी में गड़बड़ी को लेकर 52800 रुपये भी पंचायत सचिव पूरन सिंह व प्रधान शिवकुमार से करने के निर्देश दिए गए हैं।

इसी पंचायत के सिरसा गांव के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में हुई बाल पेंटिंग भी बगैर कोटेशन कराई गई। इस पर सीडीओ ने भुगतान की गई 99407 रुपये की रकम पंचायत सचिव पूरन सिंह व प्रधान शिवकुमार से वसूले जाने के निर्देश डीपीआरओ को दिए हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X