बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

43 करोड़ आय, फिर भी रेलवे स्टेशन बदहाल

Etah Updated Mon, 11 Feb 2013 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
एटा। विभाग को करोड़ों रुपये की आय देने वाला स्थानीय रेलवे स्टेशन अव्यवस्थाओं से जूझ रहा है। यहां यात्रियों की सुविधा के नाम पर कुछ भी नहीं है। एटीएम, वेइंग मशीन, कैंटीन, शीतल पेयजल आदि तो दूर यहां प्लेटफार्म शेड तक नहीं है।
विज्ञापन

जनपद के 18 लाख लोगों के लिए रेलवे सुविधाएं पर्याप्त नहीं हैं। पांच दशक पूर्व शुरू हुई एटा-टूंडला के बीच चलने वाली एकमात्र पैसेंजर शटल ट्रेन ही यहां की पहचान बनी हुई है। जबकि यह स्टेशन भारतीय रेल को हर वर्ष करोड़ों की आय दे रहा है। अव्यवस्थाओं से जूझ रहे लोगों का कहना है कि रिकार्ड आय के बाद भी विभाग यहां सुविधाएं नहीं बढ़ा रहा। शिक्षक अनुपम दुबे का कहना है कि करोड़ों की आय के बाद भी विभाग स्थानीय लोगों को सुविधाएं नहीं दे रहा। वे कहते हैं कि सिंगल विंडो के चलते आरक्षण खिड़की पर लंबी लाइन रहती है। इसके चलते लोग तत्काल सेवा का लाभ नहीं ले पाते। बैंक अधिकारी सत्य प्रवीन गुप्ता, प्रधानाचार्य एसके गहलोत आदि का कहना है कि दो बजे तक की आरक्षण सुविधा से नौकरपेशाओं को खासी असुविधा हो रही है। वे इसके समय विस्तार की मांग करते हैं।

शिक्षक राजेश यादव टीटू, सनी सक्सेना आदि का कहना है कि सीमित उपकरणों के चलते यहां आएदिन सरवर, नेटवर्क की समस्या रहती है। ऐसे में दो बजे तक का समय असुविधाजनक ही नहीं अव्यवहारिक भी है।
शिक्षक नेता यश कुमार सक्सेना कहते हैं कि यहां अन्य स्टेशन की भांति एटीएम, कैंटीन, वेइंग मशीन, शीतल पेयजल की सुविधाएं तो दूर यात्रियों की सुविधा और सुरक्षा के लिए प्लेटफार्म शेड तक नहीं है। बताते चलें कि स्थानीय स्टेशन ने गत वर्ष जहां 43 करोड़ से अधिक की शुद्ध आय दी है। वहीं, वर्तमान वित्तीय वर्ष में यह आधा अरब से ऊपर पहुंचने के अनुमान हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us