295 रुपये महंगी हुई डीएपी

Etah Updated Sun, 21 Oct 2012 12:00 PM IST
एटा। जनपदीय किसानों को आगामी दिनों में महंगी डीएपी-एनकेपी खाद खरीदनी होगी। नए रेट लागू होने के साथ ही एक बैग पर 295 रुपये बढ़ गए हैं। सहकारिता विभाग के अनुसार फिलहाल जनपदीय सहकारी समितियों पर सदस्य किसानों के लिए पुराने रेट वाली खाद उपलब्ध करा दी गई है।
महंगाई की मार से जूझ रहे किसानों को एक और झटका लगने वाला है। आगामी दिनों में किसानों को महंगी डीएपी-एनकेपी खाद खरीदनी होगी। अभी तक 910.60 रुपये प्रति बैग बिकने वाली डीएपी का मूल्य बढ़कर 1205.60 रुपये हो गया है। हालांकि फिलहाल सहकारी समितियों पर पुराने रेट की खाद किसानों को उपलब्ध है। एआर कोआपरेटिव के अनुसार हर केंद्र पर 15-15 एमटी डीएपी भेजी जा रही है। जो सदस्य किसानों को 910.60 रुपये की दर पर मिलेगी।स्टाक बढ़ाने में जुटा सहकारिता विभाग। रबी की फसल को ध्यान में रखकर सहकारिता विभाग मांग के अनरूप जनपद में स्टाक करने में जुटा है। गुरुवार को जनपद में आई 2200 मीट्रिक टन यूरिया के साथ ही जनपदीय स्टाक बढ़कर 3396 मीट्रिक टन हो गया है। सहायक आयुक्त एवं सहायक निबंधक सहकारिता नरेंद्र कुमार ने बताया कि आगामी फसलों की बुआई के लिए जनपदीय सहकारी समितियों पर 1946 एमटी यूरिया, 3410 एमटी डीएपी और 683 एमटी एनपीके उपलब्ध करा दी गई है। जबकि बफर स्टाक में 3396 एमटी यूरिया, 4792 एमटी डीएपी व 4058 एमटी एनपीके उपलब्ध है।

Spotlight

Most Read

National

2019 में कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव नहीं लड़ेगी CPM

महासचिव सीताराम येचुरी की ओर से पेश मसौदे में भाजपा के खिलाफ लड़ाई में कांग्रेस समेत तमाम धर्मनिरपेक्ष दलों को साथ लेकर एक वाम लोकतांत्रिक मोर्चा बनाने की बात कही गई थी।

22 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में एक नवजात की इस बात पर दी बलि

शुक्रवार को एटा के सरकारी अस्पताल से लापता बच्चे का शव मिला। मृतक के पिता ने पड़ोसी पर बच्चे की बलि के लिए हत्या करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

13 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper