वर्ष में दो बार होनी चाहिए नहरों की सफाई

Etah Updated Thu, 09 Aug 2012 12:00 PM IST
एटा। जिला पंचायत अध्यक्ष जुगेंद्र सिंह यादव ने कहा कि शासन के निर्देशानुसार नहरों की सफाई का कार्य वर्ष में दो बार किया जाना चाहिए। साथ ही आखिरी टेल तक भी पानी पहुंचना चाहिए। पानी बीच में क्यों रुकता है। इसका सर्वे कराया जाए। कहीं पर वैट ऊंचा हो गया है, उसे तोड़कर नीचा किया जाए।
यादव बुधवार को जिला पंचायत सभाकक्ष में जिला सिंचाई बंधु की बैठक की अध्यक्षता करते संबंधित अधिकारियों को निर्देशित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि काली नदी पर प्रत्येक पांच किमी पर चैक डेम बनाये जाने के लिए प्रस्ताव तैयार किया जाय, नहरों की दोनों साइडों की पटरिया पक्की होनी चाहिए। 312 में से 59 नलकूप खराब थे, जिनमें से आठ चालू हो गए हैं, शेष 51 को शीघ्र ठीक कराया जाए। ग्राम सरौंठ पंवाया के चरन सिंह के नलकूप की केबल चक्की चलाना दिखाकर विद्युत विभाग द्वारा काट ली गई है, इसकी जांच समिति बना दी गई है जो 15 दिन में अपनी रिपोर्ट देगी। बैठक में पीडीडीआरडीए केके वैश्य के साथ ही सिंचाई नलकूप, विद्युत, कृषि आदि विभागों के अनेक अधिकारी मौजूद थे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में एक नवजात की इस बात पर दी बलि

शुक्रवार को एटा के सरकारी अस्पताल से लापता बच्चे का शव मिला। मृतक के पिता ने पड़ोसी पर बच्चे की बलि के लिए हत्या करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

13 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls