आखिर किसके टारगेट पर था राजेश?

Deoria Updated Mon, 10 Sep 2012 12:00 PM IST
भागलपुर/मईल। बीडीसी सदस्य राजेश यादव के ऊपर हुए जानलेवा हमले और उसके ड्राइवर कोमल यादव की हत्या के मामले में पुलिस घटना की वजह को लेकर माथापच्ची कर रही है। सूत्रों की मानें तो पुलिस पुरानी आपराधिक घटनाओं की पृष्ठभूमि से जुड़े मामलाें और हाल की राजनीतिक घटनाओं के विवाद को भी टटोल रही है। फिलहाल उसे राजेश के होश में आने का इंतजार है। जो घटना के असली सूत्रधार तक पहुंचाने में उसकी मदद कर सकता है।
कभी अपराध की दुनिया में कुख्यात रहा राजेश दस वर्षों से सफेदपोश नेताओं के संपर्क में आने के बाद अपना रास्ता बदलने में लगा था। वह अपराध के दलदल से उबरने की कोशिश कर रहा था। अपनी सुरक्षा को लेकर भी वह बेहद चौकन्ना था। लेकिन शनिवार को भागलपुर में बाइक सवार अज्ञात बदमाशों के जानलेवा हमले में उसकी जान तो बच गई लेकिन उसी के गांव नरसिंहड़ाड़ निवासी बेकसूर ड्राइवर कोमल यादव (35) अपनी जान गंवा बैठा। गंभीर रूप से घायल राजेश का उपचार सावित्री नर्सिंग होम गोरखपुर में चल रहा है। बेहोशी में होने के कारण पुलिस घटना के अहम बिंदु को स्पष्ट नहीं कर पा रही है। हालांकि पुलिस सूत्रों की मानें तो कुछ सुराग हाथ लगे हैं लेकिन राजेश के होश में आने के बाद ही कुछ कहना ठीक होगा। फिलहाल उसके दो दशक के आपराधिक घटनाओं में संलिप्तता व ब्लाक प्रमुख चुनाव में राजेश के बढ़ते कद से लोगों की बढ़ी परेशानियों को भी पुलिस जांच का केंद्र मानकर चल रही है। इसमें 12 वर्ष पूर्व हुए मटरू हत्याकांड, गिरधारी चौधरी हत्याकांड के अलावा जमीन विवाद में हुई हत्या के मामले से जुड़े विवाद की भी जांच की जा रही है। लोगों के मुताबिक, सत्ता पक्ष से जुड़े होने के चलते राजेश छोटे बड़े मामलों में पैरवी कर पंचायतन हल कराने में अहम भूमिका निभाता रहा है। अविश्वास प्रस्ताव के कुछ दिन पूर्व एक बीडीसी सदस्य को धमकाने के आरोप में क्षेत्र के एक हिस्ट्रीशीटर की गिरफ्तारी के मामले को भी पुलिस टटोल रही है। सूत्रों के मुताबिक पुलिस ने बलिया जिले के मधुवन थाने के एक गांव में छापेमारी भी की है। लेकिन वहां कुछ हाथ नहीं लगा। इस बाबत एसओ उपेंद्र राय ने बताया कि राजेश के होश में आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। कुछ अहम सुराग मिले हैं। कई टीमें लगी हैं। अन्य बिंदुओं पर भी गहराई से जांच की जा रही है।
इन्सेट में
पुलिस को तहरीर का इंतजार
मईल। बीडीसी सदस्य राजेेश यादव पर हुए जानलेवा हमले और उसके ड्राइवर कोमल यादव की हत्या के मामले में 24 घंटे बाद भी एफआईआर दर्ज नहीं हो सकी है। पुलिस का कहना है कि उसे अभी तक तहरीर नहीं मिली है। तहरीर मिलने पर केस दर्ज किया जाएगा।
इनसेट में
दहशत में है चौराहे के लोग
भागलपुर। भागलपुर चौराहे के लोग घटना के बाद दहशत में हैं। चौराहे के लोगों का कहना था कि भागलपुर चौराहे पर आजतक ऐसी घटना कभी नहीं हुई। इस तरह का अपराध आज तक टीवी में ही देखा था।
इनसेट में
एक साल के मासूम ने दी पिता को मुखागिभन
मईल। ड्राइवर कोमल यादव का शव शनिवार की आधी रात को गांव नरसिंहड़ाड़ में पहुंचते ही कोहराम मच गया। स्याह रात में परिजनों की चीख पुकार सन्नाटे को चीर रही थी। गांव के सटे बगल में बह रही घाघरा नदी के तट पर मृतक के मासूम एक वर्षीय पुत्र नंदलाल ने पिता को मुखागिभन दी। घाट पर मौजूद लोगों की आंखें नम हो र्गइं। हर आंख में बस यही प्रश्न था कि आखिर कोमल के परिवार का पालन पोषण कैसे होगा?

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

16 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: अलाव तापते वक्त हुआ विस्फोट, पुलिसकर्मी के खोए हाथ

देवरिया के जनपद रामपुर में अलाव तापते वक्त एक पुलिसकर्मी के साथ दर्दनाख हादसा हो गया। इस हादसे में पुलिसकर्मी के दोनों हाथ बुरी तरह झुलस गए।

14 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper