बारिश से जलभराव, घर गिरी, फाल्ट और फसलें बर्बाद

Kanpur	 Bureau कानपुर ब्यूरो
Updated Sat, 18 Sep 2021 12:03 AM IST
सीतापुर से बालापुर गांव के मार्ग की हालत मुख्य मार्ग पर दो दिन से जलभराव होने पर इसी से होकर गुजरत?
सीतापुर से बालापुर गांव के मार्ग की हालत मुख्य मार्ग पर दो दिन से जलभराव होने पर इसी से होकर गुजरत? - फोटो : CHITRAKOOT
विज्ञापन
ख़बर सुनें
चित्रकूट/खोही/मानिकपुर/मऊ। जिले में दो दिनों से रुक-रुक कर हो रही बारिश से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। सड़कों पर वाहनों की रफ्तार थमी नजर आई। गलियों व सड़कोें में जलभराव होने से लोग परेशान हैं। फसलों को नुकसान हो रहा है। वहीं धान किसानों को बारिश से फायदा हुआ है। वहीं कई मकान गिरे हैं।
विज्ञापन

शुक्रवार को दिनभर रिमझिम बारिश होती रही। जिससे लोग घरों से बाहर नहीं निकल सके। कामकाजी लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कों में जलभराव होने व गंदगी होने से लोगों को परेशान होना पड़ रहा है। जिले के राजापुर, मानिकपुर, मऊ, भरतकूप, भौरी, खोही, शिवरामपुर के इलाके मेें ग्रामीण क्षेत्र की कई सड़कें दलदल में बदल गई है। यही हाल बस्तियों मेें पानी भरने से भी समस्या हो गई है। जिसमें मच्छर का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है।

बालापुर गांव मेें बारिश के कारण चुकू प्रसाद का कच्चा घर गिर गया। इसी तरह से मानिकपुर क्षेत्र में बहिलपुरवा निवासी राजेश कुमार, मोहन कोल का घर गिर गया।
बरदहा नदी में जलस्तर बढ़ रहा
मानिकपुर। क्षेत्र के रानीपुर स्थित बरदहा नदी में दूसरे दिन भी जल स्तर बढ़ा रहा है। ग्रामीण राजेश द्विवेदी, राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि मप्र क्षेत्र में अधिक बारिश होने से हालत खराब हो गए है। बरदहा नदी में पानी अधिक होने से चमरौहा, सकरौंहा, निही, चिरैंया, कल्याणपुर व करौंहा गांव प्रभावित है। आने जाने मेें समस्या हो रही है।
कई गांवों में अंधेरा
चित्रकूट। बारिश व तेज हवा चलने से ग्रामीण क्षेत्रों मेें बिजली की आपूर्ति ठप है। विद्युत तारों में फाल्ट होने से रातरात भर बिजली नहीं आई। सबसे अधिक हाल भरतकूप व भौरी क्षेत्र का है। यही हाल मानिकपुर क्षेत्र के मारकुंड्री टिकरिया, कोलानपुरवा व बरगढ़ क्षेत्र के गांवों में बिजली की आपूर्ति नहीं होती। भौंरी कस्बे के भैरो प्रसाद, सुरेश, शिवम त्रिपाठी ने बताया कि जब से बारिश हो रही है। बिजली आने व जाने की कोई समय नहीं रह गया है।
तिल, बाजारा की फसल को नुकसान
चित्रकूट। जिला कृषि अधिकारी आरपी शुक्ला ने बताया कि अधिकतर किसान तिल, बाजारा व ज्वार, व अरहर की खेती करता है। इस वर्ष अधिक बारिश होने से इन फसलों को नुकसान अधिक हुआ है। जिसमेें कृषि विभाग की ओर से कराए गये सर्वेक्षण में तिल की फसल को 80 प्रतिशत तक नुकसान हुआ है। जबकि अरहर, बाजारा की फसल को भी अधिक नुकसान हुआ है।
 बारिश के बाद जलभराव जिससे पलटे वाहन। संवाद
बारिश के बाद जलभराव जिससे पलटे वाहन। संवाद- फोटो : CHITRAKOOT

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00