बिजली कटौती ने कर दिया जीना हराम

Chitrakoot Updated Sat, 06 Oct 2012 12:00 PM IST
फिर से रात में दो से चार घंटे रहती है बत्ती गुल
अफसर ऊपर से कटना बताकर कन्नी काट रहे
ग्रामीण इलाकों में तो हालात और भी बदतर
चित्रकूट। बिजली कटौती ने लोगों का जीना हराम कर दिया है। फिर दो दिनों से रात में लगभग चार से पांच घंटे की कटौती ने लोगों की नींद उड़ाकर रख दी है। उधर, अधिशासी अभियंता विद्युत का इस संबंध में रटा रटाया जवाब है, ऊपर से कटौती का निर्देश है, मैं कुछ नहीं कर सकता।
बिजली की निर्धारित के बाद अघोषित कटौती से लोग तंग आ चुके हैं। दो दिन से फिर से दिन के अलावा रात में कटौती जारी है। बिजली रात ग्यारह साढ़े ग्यारह बजे चली जाती है तो फिर तीन बजे के आसपास आती है। ग्रामीण इलाकों में तो हालात और बदतर हैं। राजापुर, मानिकपुर, मऊ, पहाड़ी, शिवरामपुर, सरैंया, भरतकूप आदि इलाकों में बिजली के लिए लोग बुरी तरह से परेशान हैं। मऊ प्रतिनिधि के अनुसार, रात में लगभग चार घंटे की कटौती होती है। दिन में बमुश्किल दो घंटे बिजली आ जाए तो बहुत। यहां के जेई मुनीर अहमद कभी भी फोन नहीं उठाते। कोई भी फोन करे पर वह फोन उठाकर वस्तुस्थिति की जानकारी नहीं देतेे। राजापुर प्रतिनिधि ने बताया कि यहां भी मुश्किल से चौदह घंटे बिजली मिल जाती है। यहां के ग्रामीण इलाकों का हाल बदतर है। दिन में बिजली रहती है तो रात में नहीं और रात में रहती है तो दिन में नहीं। जेई से पूछने पर कहा जाता है कि ऊपर से कटौती है। शिवरामपुर प्रतिनिधि के अनुसार, दिन और रात में बिजली की आवाजाही बरकरार रहती है। उस पर लो वोल्टेज की दिक्कत अलग से समस्या पैदा करती है। इसके अलावा अन्य स्थानों पर भी बिजली की दिक्कत बरकरार है। उधर, इस संबंध में अधिशासी अभियंता विद्युत सुनील कुमार का रटारटाया जवाब है, बिजली कटौती के ऊपर से निर्देश हैं। गौरतलब है कि जिलाधिकारी बलकार सिंह से भी यहां का पदभार ग्रहण करने के बाद लोगों ने सबसे बड़ी समस्याओं में बिजली समस्या को गिनाया था पर हुआ कुछ नहीं।

...पर चिंता नहीं राजनीतिक दलों को
बिजली कटौती बेतहाशा है। पर यहां के राजनीतिक दलों में कोई सुगबुगाहट नहीं। लोगों का कहना है कि विपक्षी पार्टियों की नेतागीरी सिर्फ बयानबाजी तक है। न तो अधिकारियों से मिलकर यहां की स्थिति सुधारने की बात कही जाती है और न कोई रणनीति बनाई जाती है। गौरतलब है कि पिछले दिनों एक वरिष्ठ नेता ने इस संबंध में आंदोलन की धमकी दी थी पर समयसीमा बीतने के बाद कुछ नहीं किया गया। लोगों का कहना है कि सांसद आरके सिंह पटेल और सदर विधायक वीर सिंह तो सत्ताधारी पार्टी के जनप्रतिनिधि हैं और इन लोगों ने आश्वासन भी दिया पर क्या हुआ पता नहीं चल सका।


बिजली बिल भरने के बाद भी काट दिया कनेक्शन
चित्रकूट। रैपुरवामाफी के भूरा यादव, रामपाल यादव, रामलखन श्रीवास्तव, शिवऔतार, गनेश प्रसाद, रामलखन यादव आदि ने एसडीएम को पत्र देकर शिकायत की कि गांव में वे लोग नियमित कनेक्शनधारक हैं और लगातार नियमानुसार बिल देते हैं। इसके बाद भी लगभग 25 दिन से बिजली कटी है। ऐसे में फसल भी नष्ट हो रही है। इस संबंध में बिजलीकर्मियों से बात करने पर कहा जाता है कि कुछ लोगों का बिल बाकी है और इसीलिए बिजली काट दी गई है। ग्रामीणों का कहना है कि जिसका बिल नहीं जमा उसकी बिजली काटी जानी चाहिए, सभी को दंड क्यों? उधर, इस संबंध में बात करने पर जेई राजेंद्र कुमार राजपूत ने बताया कि अधिशासी अभियंता के निर्देश पर इन लोगों की बिजली जोड़ी जा रही है।

बिजली कटौती को लेकर युवाओं ने शंकर बाजार और स्टेशन रोड तिराहे पर देर शाम जाम लगा दिया। इससे लगभग आधा घंटे तक यातायात बाधित रहा। बाद में इन लोगों ने विभाग का पुतला फूंका। सूचना पर पहुंचे एसडीएम और कोतवाल ने इनको समझाया-बुझाया। इसी बीच बिजली आ जाने पर भीड़ तितर-बितर हो गई।

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

MP निकाय चुनाव: कांग्रेस और भाजपा ने जीतीं 9-9 सीटें, एक पर निर्दलीय विजयी

मध्य प्रदेश में 19 नगर पालिका और नगर परिषद अध्यक्ष पद पर हुए चुनाव में कांग्रेस और भाजपा के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिला।

20 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कोहरे का कहर जारी, ट्रक और कार की टक्कर में तीन की मौत

कन्नौज के तालग्राम में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर कोहरे के चलते एक भीषण सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से पीछे से आ रही कार के चालक को सड़क पर खड़ा ट्रक  नजर नहीं आया और उनमें कार जा टकराई। हादसे में तीन की मौत हो गई।

10 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper