विज्ञापन
विज्ञापन

छेड़ेंगे फर्जी विकलांगों के खिलाफ अभियान

Chitrakoot Updated Mon, 17 Sep 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
चित्रकूट विकलांग सेवा संस्थान के निदेशक ने बताया
विज्ञापन
विज्ञापन
चित्रकूट। चित्रकूट विकलांग सेवा संस्थान के निदेशक राजनारायण ने कहा है कि वह फर्जी श्रवणबाधित विकलांगों के खिलाफ अभियान छेड़ेंगे। इसके लिए वह पच्चीस सितंबर को बैठक कर आगे की रणनीति तैयार करेंगे। उन्होंने आक्रोश जताया कि राज्य सरकार के अलिखित आदेश का हवाला देकर अब राज्य परिवहन की बसों में विकलांगों को निशुल्क यात्रा से वंचित किया जा रहा है।
राजनारायण ने बताया कि पिछले एक साल में लगभग एक हजार विकलांगता प्रमाणपत्र सीएमओ ने जारी किए हैं। उन्होंने दावा किया कि इनमें से लगभग 200 ऐसे हैं, जिनकी प्रमाणिकता संदेह के घेरे में है। ज्यादातर फर्जी विकलांग श्रवणबाधित बनकर प्रमाणपत्र हासिल कर लेते हैं और ऐसे में जो सही विकलांग हैं, उनका हक मारा जाता है। बताया कि उन्होंने 2009 में जिले के सीएमओ से 1 जनवरी 2003 से 31 दिसंबर 2009 तक के विकलांगों का अलग-अलग ब्योरा जनसूचना अधिकार के तहत मांगा था, पर उन्हें नहीं दिया गया। तब उन्होंने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। इसके बाद सीएमओ ने लगभग सात महीने बाद जो ब्योरा उपलब्ध कराया वह भ्रमित करने वाला था। इसमें अस्थि, श्रवण और दृष्टिबाधित विकलांगों का अलग अलग विवरण नहीं था, कुल मिलाकर 11,531 विकलांगों की सूची देकर टरका दिया गया। उन्होंने बताया कि वह इस मुद्दे को लेकर आगामी 25 सितंबर को विकलांग बंधुओं की बैठक करने वाले हैं और इसमें आगे की रणनीति तय की जाएगी। उन्होंने कहा कि हाल ही में उनको विकलांगों ने बताया है कि कुछ महीनों से बस परिचालक सौ फीसदी विकलांगता पर ही बस में निशुल्क यात्रा करने की बात कहते हैं और दावा करते हैं कि इसके लिए शासनादेश आ चुका है। राजनारायण ने बताया कि यह सरासर विकलांगों के साथ अन्याय है, क्योंकि विकलांग जन संरक्षण अधिनियम 1995 में स्पष्ट कहा गया है कि चालीस फीसदी से ऊपर के विकलांगों को प्रदर्शित विकलांगता पर सारी सरकारी सुविधाएं निशुल्क दी जाएंगी।

हाईकोर्ट में याचिका भी दायर करेंगे विकलांग
विकलांगों में जमकर रोष है। राजनारायण ने बताया कि वह दो दिन के अंदर फिर से सीएमओ से जनसूचना अधिकार के तहत सूचना मांगेंगे और अलग-अलग विकलांगों की जानकारी हासिल करेंगे। उन्होंने कहा कि अगर फिर हीलाहवाली की गई तो वह हाईकोर्ट में याचिका दायर करेंगे। बताया कि अगर श्रवणबाधितों की जानकारी दी गई तो वह यह भी पूछेंगे कि किस मेडिकल बोर्ड से इनका परीक्षण कराया गया है, क्योंकि नियम है कि श्रवणबाधितों को जांच के लिए तीन दिन किसी मेडिकल बोर्ड भी भेजा जाता है।

Recommended

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्
Astrology

शनि जयंती (03 जून 2019, सोमवार) के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्

कैसे होगा करियर, कैसा चलेगा व्यापार, किसे मिलेगी तरक्की और किसे मिलेगा प्यार ! जानिए विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
Astrology

कैसे होगा करियर, कैसा चलेगा व्यापार, किसे मिलेगी तरक्की और किसे मिलेगा प्यार ! जानिए विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Kanpur

बांदा रूट के यात्रियों के लिए खुशखबरी, अगले महीने से चलेगी इलेक्ट्रिक ट्रेन

बांदा रूट के यात्रियों को जून से इलेक्ट्रिक ट्रेनों से यात्रा करने का मौका मिल सकता है। भीमसेन से मानिकपुर तक रेल लाइन के विद्युतीकरण का काम पूरा हो गया है।

24 मई 2019

विज्ञापन

संसदीय दल की बैठक में पीएम मोदी का संबोधन, लोकसभा चुनाव को बताया समाज को एक करने का जरिया

कैबिनेट गठन के लिए एनडीए की बैठक में पीएम मोदी का संबोधन। मोदी ने सहयोगी दलों से एकता से कार्य करने की अपील की।

25 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree