‘सेतुबंधन बना बताया संगठन का महत्व’

Chitrakoot Updated Sat, 25 Aug 2012 12:00 PM IST
चित्रकूट। एलेन मानधना परिवार द्वारा बैकुंठवासी लक्ष्मीनारायण जी माहेश्वरी की पुण्यस्मृति में हो रही रामकथा के दूसरे दिन व्यासपीठ से बोलते हुए युवराज स्वामी भूदेवाचार्य जी महाराज ने कहा कि राम का वनवास तो सिर्फ एक लीला थी, उसके उद्देश्य कई थे। उन्होंने कहा कि सेतुबंधन से भगवान ने जगत में समन्वय और संगठन की महिमा बताई।
स्वामी भूदेवाचार्यने कहा कि राम ने अपनी लीलाओं से जीवन के हर कष्ट को दूर कैसे किया जाए, यह शिक्षा दी। उनकी हर लीला में कोई न कोई भेद छिपा है, शिक्षा छिपी है। आवश्यकता इसे समझने और जीवन में उतारने की है। उन्होंने उदाहरण देकर समझाया कि सेतुबंधन से भगवान ने बताया कि कैसे एकजुट होकर छोटे से छोटे घटक का प्रयोग कर असाधारण को भी संभव बनाया जा सकता है। सेतुबंध में जहां बलशाली वानर लगे थे वहीं छोटे छोटे जीवों जलचरों ने भी सहयोग किया। रामनाम साधन है, जिससे भवसागर पार किया जा सकता है। रामनाम से तात्पर्य है कि राम के आदर्शों पर चलो तभी नाम की सार्थकता है। कहा कि हजार बार रामकथा सुनने से अच्छा है कि एक बार सुनो और जीवन में उतार लो, यह हजार बार रामकथा श्रवण के बराबर है। कथा में भावविभोर होकर कई बार भक्त नाचने लगे।

Spotlight

Most Read

Dehradun

देहरादून: 24 जनवरी को कक्षा 1 से 12 तक बंद रहेंगे सभी स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र

मौसम विभाग की ओर से प्रदेश में बारिश की चेतावनी के चलते डीएम ने स्कूल और आंगनबाड़ी केंद्र बंद करने के निर्देश जारी किए हैं।

23 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कोहरे का कहर जारी, ट्रक और कार की टक्कर में तीन की मौत

कन्नौज के तालग्राम में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर कोहरे के चलते एक भीषण सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से पीछे से आ रही कार के चालक को सड़क पर खड़ा ट्रक  नजर नहीं आया और उनमें कार जा टकराई। हादसे में तीन की मौत हो गई।

10 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper