रैपुरा : जहां रावण वध होता है पुतला दहन नहीं

Chitrakoot Updated Wed, 24 Oct 2012 12:00 PM IST
सरैंया (चित्रकूट)। जिले में विजयादशमी पर जहां हर गांव कसबे में रावण का पुतला दहन किया जाएगा वहीं एक ऐसा गांव भी है जहां रामलीला होती है, रावण वध लीला का मंचन होता है पर पुतला दहन नहीं होता। गांव में कई लोगों का तो यहां तक मानना है कि रावण में बुराई थी तो वह बहुत बड़ा विद्वान भी था और इसके लिए उसका नमन भी किया जाना चाहिए।
रैपुरा एक ऐसा गांव है जहां पर लगभग डेढ़ सौ साल से रामलीला का मंचन हो आ रहा है। रामलीला में रावण वध भी होता है लेकिन रावण के पुतले को आग से नहीं जलाया जाता है। ग्रामीणों का कहना है कि रावण का चरित्र इतना खराब नहीं था, दूसरे वह बड़ा विद्वान भी था, इस वजह से उनके गांव में रावण के पुतले को जलाने का चलन नहीं है। ग्रामीण मधुसूदन सिंह ने बताया कि उनके गांव में अंग्रेजाें के समय में ज्यूरी मेंबर रहे कामता सेठ ने रामनगर (बनारस) निवासी रिश्तेदार के यहां रामलीला देखकर गांव में इसकी शुरुआत कराई। तबसे लेकर आज तक रामलीला होती है जो राघवेंद्र रामलीला समाज की देखरेख में होती है। यहां पर गांव के ही कलाकार रामलीला का मंचन करते हैं। पूर्व प्रधान जगदीश पटेल का कहना है कि नेशनल हाइवे के दोनों तरफ राम व रावण के सिंहासन बने हैं। इस पर एक तरफ राम दरबार व दूसरे तरफ रावण दरबार सजता है। दशहरे के दिन राम रावण लड़ाई के समय प्रशासन की मदद से नेशनल हाइवे को दो घंटे के लिए डाइवर्ट कर दिया जाता है। ग्रामीण आनंदी पांडे का कहना है कि वे जब भी कोई काम रावण का मन में स्मरण कर शुरू करते हैं तो वह अवश्य सफल होता है। अन्य ग्रामीणों ने भी इसी तरह की मान्यताएं व्यक्त कीं और कहा कि वे लोग इसी वजह से रावण का पुतला दहन शुभ नहीं मानते।

इनसेट -------------------
मेधावी होते हैं पुरस्कृ त
रामलीला के मौके पर गांव के मेधावियों को पुरस्कृ त किया जाता है लगभग दस हजार लोगों के सामने गांव के एक साल के प्रतियोगी परीक्षा को उत्तीर्ण करने वालों को सम्मानित किया जाता है। इसी की वजह से रैपुरा के छात्रों में प्रतियोगी भावना बढ़ती है।

इनसेट -------------------
जिला मुख्यालय में दो जगह पर होगा पुतला दहन
जनपद मुख्यालय में भी नवदुर्गा के भक्तिमय वातावरण के बाद आज पर बुराई सच्चाई का प्रतीक दशहरा का त्यौहार आज अपने पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जाएगा। पुरानी बाजार कर्वी में दशहरा मेले को लेकर तैयारियां पूरी हो गई है। जिला मुख्यालय में धुस के मैदान व रेलवे स्टेशन के पास रावण का पुतला दहन होगा। इसके लिए रावण के दो पुतले कलाकारों के द्वारा तैयार किए हैं। कलाकार रामरतन बताते हैं कि यह काम उनके पिता के जमाने से कर रहे हैं। उनका कहना है कि अब इस काम को भी मंहगाई का असर होने लगा है। उनके पुत्र बच्चालाल ने बताया कि अब उन्होने यह काम संभाल लिया है। रामरतन ने बताया कि पहले तो रावण के पुतले के साथ ही कुंभकर्ण, मेघनाद, जटायू, कौआ और हिरन का भी पुतला बनता था लेकिन मंहगाई की वजह से अब केवल रावण का ही पुतला बनवाते हैं। उसने बताया कि कस्बे के बाहर के लोग उनसे रावण का पुतला यहां से ले जाने में होने वाली दिक्कतों के नाते नहीं बनवाते हैं।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

16 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कोहरे का कहर जारी, ट्रक और कार की टक्कर में तीन की मौत

कन्नौज के तालग्राम में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर कोहरे के चलते एक भीषण सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से पीछे से आ रही कार के चालक को सड़क पर खड़ा ट्रक  नजर नहीं आया और उनमें कार जा टकराई। हादसे में तीन की मौत हो गई।

10 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper