सिल्ट साफ न होने से किसान चिंतित

Chitrakoot Updated Wed, 10 Oct 2012 12:00 PM IST
जिले में हर जगह नहरों की हालत बदतर
राजापुर (चित्रकूट)। जिले में लगभग हर जगह नहरों की हालत बदतर है। सिल्ट सफाई न होने से किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें गाढ़ी होती जा रही हैं। राजापुर का हाल भी कोई जुदा नहीं, यहां नहरों के साथ-साथ पंप कैनालों की हालत भी बदतर है।
राजापुर पंप कैनाल किसानों की मानी जाए तो एक दिखावा मात्र है। पचास क्यूसेक क्षमता का पंप कैनाल केवल एक पंप तक सीमित रह गया है। विभागीय अधिकारियों के इस दावे कि 15 अक्तूबर से जिले की नहरों को चलाने का काम शुरू कर दिया जाएगा, किसानों की नजर में एक कहने की बात भर है। किसी समय पांच पंपों से पश्चिमी शाखा के टेल के गांव भटरी तथा दक्षिणी शाखा में नादिन कुर्मियान तक किसानों को पानी मुहैया हो जाता था। पर एक दशक से किसान पानी के लिए तरस रहे हैं। पंप कैनाल एक और कभी कभी दो पंपों के सहारे ही चलाया जा रहा है। एक पंप कैनाल चलने से नहर की पेटी तक ही पानी आता है और किसान कहते हैं कि यह पानी बमुश्किल तीन किमी तक पहुंचते पहुंचते गायब हो जाता है। दूसरी तरफ नहरों और माइनरों का भी यही हाल है। नहरें जगह जगह से कटी हैं। पेटी में सिल्ट, झाड़ी, घास और गोंद के पेड़ों की भरमार है। किसानों का आरोप है कि सफाई के नाम पर अनियमितता की जाती है। अभी अतिवृष्टि से अपनी तिल, मूंग, अरहर, उरद आदि की खेती खो चुके किसानों को रबी से उम्मीद है पर सिंचाई विभाग के जिम्मेदारों की लापरवाही से ऐसा भी मुश्किल दिखता हैं। पलेवा का पानी कैसे जुटाएंगे, अभी तो यही यक्ष प्रश्न है। चिल्ली राकस, रायपुर, बेराउर, उदघटा, कनकोटा, कुसेली, पटवरिया, महुवागांव, उत्तमपुर, भटरी, राजापुर, मझगवां, खटवारा, मलवारा, पराको, नादिन कुर्मियान, चनहट आदि गांवों की लगभग 11 सौ एकड़ भूमि की सिंचाई के लिए इन गांवों के किसान विभाग की ओर देख रहे हैं। चिल्लीराकस के सतेंद्र पांडे, संतोष यादव, लाला गर्ग, बेराउर के सदाशिव, दीपू सिंह, मनबोध सिंह, रायपुर के जंगबहादुर, ननकूराम, हीरालाल त्रिपाठी, उदघटा के महेंद्र द्विवेदी, कमलेश कुमार, कुसेली के अजय सिंह प्रधान, मंगल सिंह, महुवागांव के कंधई सिंह, लालू, पटवरिया के पप्पू सिंह, दिनेश सिंह, भटरी के वीरेंद्र द्विवेदी, श्रीराम और खटवारा के धीरेंद्र द्विवेदी और डा. आनंद आदि किसानों का कहना है कि लगातार बारिश होने से जुलाई का काम खेत में कर नहीं पाए और अब जुताई के बाद खेतों की नमी गायब है। अगर अब बारिश नहीं हुई तो नहर से ही पलेवा का सहारा रहेगा। लेकिन विभागीय जिम्मेदार इस उम्मीद पर कितना खरे उतरेंगे यह भविष्य बताएगा। राजापुर पंप कैनाल की जिम्मेदारी संभाले सिंचाई विभाग के अवर अभियंता राजेश मालवीय का कहना है कि एक सप्ताह के अंदर पंप कैनाल के सभी पंप चालू करा दिए जाएंगे। सिल्ट सफाई का काम अक्तूबर के अंत या नवंबर के पहले हफ्ते तक करा दिया जाएगा।

Spotlight

Most Read

Varanasi

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

19 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कोहरे का कहर जारी, ट्रक और कार की टक्कर में तीन की मौत

कन्नौज के तालग्राम में आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे पर कोहरे के चलते एक भीषण सड़क हादसा हो गया। कोहरे की वजह से पीछे से आ रही कार के चालक को सड़क पर खड़ा ट्रक  नजर नहीं आया और उनमें कार जा टकराई। हादसे में तीन की मौत हो गई।

10 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper