विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्रि पर कन्या पूजन से होंगी मां प्रसन्न, करेंगी सभी मनोकामनाएं पूरी
Astrology Services

नवरात्रि पर कन्या पूजन से होंगी मां प्रसन्न, करेंगी सभी मनोकामनाएं पूरी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

यूपी में मिले सात नए कोरोना पॉजिटिव मिले, 103 पहुंची संख्या, बाहर से आने वाले रहेंगे क्वारंटीन में

नोवेल कोरोना वायरस संक्रमित सात नए मरीज मंगलवार को भी सामने आए।

1 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

चित्रकूट

बुधवार, 1 अप्रैल 2020

जिले में तीन हजार छह सौ लोग होम क्वारंटीन

परदेश से आए 3500 लोगों का होम क्वारंटीन
:- परीक्षण के बाद हाथ में लगाएं चिन्ह: डीएम
- दिल्ली, गाजियाबाद व महाराष्ट्र से आने वालों की जिले की सीमा पर जांच
संवाद न्यूज एजेंसी
चित्रकूट। परदेश से आए 3500 से अधिक लोगों को परीक्षण के बाद होम क्वारंटीन कराया गया है। अधिकांश के घर के बाहर नोटिस चस्पा कराकर एएनएम व आशा को देखरेख को निर्देशित किया है। डीएम ने बताया कि दिल्ली, गाजियाबाद व महाराष्ट्र की ओर से आने वालों के लिए जिले की सीमा पर ही जांच की व्यवस्था की गई है। वहीं जिले में फंसे लोगों के लिए प्रयागराज व बांदा के लिए एक एक रोडवेज बस लगाई गई।
सीएमओ डा. विनोद कुमार ने बताया कि अबतक मिली सूची के अनुसार जिले में बाहर से आए तीन हजार छह सौ से धिक लोगों को चिंहित कर होेम क्वारंटीन करा दिया गया है। गांव में आशा व एएनएम की डयूटी लगा दी गई है। सदर ब्लाक के तीन गांव के तीन घरों में विशेष संदेह होने पर स्वास्थ्य विभाग ने नोटिस चस्पा कराया है। घर पर रहने की सलाह दी है। निगरानी के लिए आशा, एएनएम तैनात हैं। मुख्यालय के शंकर ढाबा के मालिक जयशंकर मिश्रा ने दूरदराज से आए लोगों को भोजन का पैकेट देने का बीड़ा उठाया है। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन एक हजार भोजन पैकेट मुहैया कराया जाएगा। इस अभियान में नगर पालिका परिषद के ईओ नरेंद्र मोहन मिश्र ने भी मदद की बात कही है। इसी क्त्रस्म में स्टेशन रोड निवासी समाजसेवी गणेश मिश्रा ने दूरदराज से आने वाले लोगों को पांच सौ लंच पैकेट वितरित किया है।
इनसेट
500 लोगों को बसों से भेजा
चित्रकूट। लॉकडाउन के पंाचवें दिन जिले में बाहर से आने वाले लोगों की जांच के लिए रविवार को जिले की सीमा से लेकर बस स्टैंड पर चलित स्वास्थ्य वाहन में मौजूद स्वास्थ्यकर्मियों ने लगभग 500 लोगों का परीक्षण किया। किसी में भी कोरोना वायरस के लक्षण नहीं मिले। बाहरी जिले से आए लोगों को गंतव्य तक भेजने व उनके भोजन का इंतजाम जिला प्रशासन व समाजसेवियों ने किया। लगभग एक हजार भोजन के पैकेट बांटे गए। प्रयागराज व बांदा के लिए एक एक रोडवेज बस भेजी गई। मुख्यालय के बस स्टैंड कर्वी पर रविवार की सुबह तैनात स्वास्थ्य टीम ने 500 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। यहां एसपी के साथ पहुंचे जिलाधिकारी ने कहा कि इनके परीक्षण के उपरांत इनके हाथों में चिन्ह भी लगाया जाए। बस स्टैंड कर्वी से प्रयागराज व बांदा की ओर जाने वाले यात्रियों की जांच के बाद बसों से रवाना किया गया है। इसके साथ ही कुछ स्थानों पर पुलिसकर्मियों ने बेवजह घर से बाहर निकले युवकों को मुर्गा बनाकर सबक सिखाया।
----------------इनसेट
51-51 हजार के दिए चेक
चित्रकूट। कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए मुख्यालय के डॉ सुधीर अग्रवाल तथा सर्राफा व्यापारी राजू बनारसी ने मुख्यमंत्री राहत सहायता कोष में जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय को कलक्ट्रेट सभाकक्ष में 51-51 हजार रुपये के चेक प्रदान किए। इस दौरान व्यापार मंडल के पंकज अग्रवाल, अर्पित अग्रवाल आदि मौजूद रहे। इसके अलावा समाजसेवी विवेक अग्रवाल (विक्की) ने एक लाख रुपये का चेक मुख्यमंत्री राहत कोष में दिया है।
-----------------इनसेट
बुंदेली सेना जिलाध्यक्ष ने बांटे लंच पैकेट
चित्रकूट। बुंदेली सेना के जिलाध्यक्ष अजीत सिंह ने लाक डाउन पर 25 गरीबों को लंच पैकेट मुहैया कराया है। उन्होंने जिलाधिकारी के अथक प्रयास से गुजरात के तीन, महाराष्ट्र के 18 तीर्थ यात्रियों को वाहन मुहैया कराने पर प्रशंसा की है। इसके अलावा पहाडी थाना क्षेत्र के पनौटी गांव के एक परिवार के मुखिया के मुम्बई में फंसे होने से परेशान है। ऐसे में उन्हें भी घर वापसी की व्यवस्था की जाए। बताया कि लंच पैकेट समाजसेवी जयशंकर मिश्रा ने उपलब्ध कराए हैं। सक्षम लोगों से गरीबों की मदद करने को कहा है।
... और पढ़ें

चित्रकूट: हाईवे पर बेकाबू होकर पलटी सीएचसी प्रभारी अधीक्षक की कार, बाल-बाल बचे

चित्रकूटः लाकडाउन का उल्लघंन पर बने मुर्गा, परेशान यात्रियों की समस्या पर चेता प्रशासन

चित्रकूट। लॉकडाउन के चौथे दिन आखिरकार जिला प्रशासन ने सुदूर क्षेत्रों के फंसे भूख से तड़पते यात्रियों की सुध ली। कुछ स्थानों पर लॉकडाउन का उल्लघंन करने पर पुलिस ने युवकों को मुर्गा बनाकर सबक सिखाया। ग्रामीण इलाकों में भोजन सामग्री के पैकेट बंटवाए गए। सड़क पर दूर-दूर के शहरों से पैदल चलकर आए यात्रियों को भी आते जाते देखा गया। सांसद से लेकर कई समाजसेवियों ने नियमित रूप से निशुल्क कैंटीन चलाने की घोषणा की है। नयागांव थाना क्षेत्र में राजकोट राजस्थान से पहुंचे डेढ़ दर्जन लोगों को पुलिस ने रोककर मेडीकल चेकअप कराया। स्वास्थ्य विभाग ने बस स्टैंड के पास भी चेकअप करने वाली मेडिकल टीम लगाई है।
डीएम शेषमणि पांडेय तथा पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल ने शनिवार को ट्रैफिक चौराहा, पुरानी बाजार, बेड़ी पुलिया चौराहा, शिवरामपुर आदि विभिन्न जगहों पर भ्रमण कर जनपद में लागू लॉकडाउन की व्यवस्था का जायजा लिया है। लोगों से खानपान आदि व्यवस्थाओं की जानकारी करते हुए घर में रहने को कहा। तरौहा स्थित वार्ड में नगर पालिका परिषद के उपलब्ध कराएं भोजन पैकेट का वितरण असहाय एवं निराश्रित लोगों के मध्य किया गया। उन्होंने अधिशासी अधिकारी तथा सभासदों से कहा कि निराश्रित तथा असहाय लोगों को चिह्नित कर प्रतिदिन खाने-पीने की व्यवस्था सुनिश्चित कराएं।
शनिवार को डीएम ने कलक्ट्रेट स्थित कंट्रोल रूम का औचक निरीक्षण किया। जिला कृषि अधिकारी वसंत दुबे से विभिन्न बिंदुओं के बारे में विस्तृत जानकारी की। उन्होंने शासन से प्राप्त दिशा निर्देशों के तहत तत्काल कार्रवाई करने के निर्देश दिए। कहा कि जनपद स्तर पर जो भी समस्याएं मिलें उन्हें निस्तारित कराएं। किसी भी दशा में कहीं पर कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। जिला अस्पताल में शनिवार को 21 मरीजों की जांच हुई, जिनमें कोरोना वायरस के लक्षण न पाए जाने पर इलाज कर घर भेजा गया है। इसी प्रकार जिले की सीमा से सटे नयागांव थाना क्षेत्र के प्रमोद वन के पास चार वाहनों से राजस्थान से आ रहे यात्रियों को पुलिस ने चेकिंग के दौरान रोक लिया। इसके बाद सभी का मेडीकल चेकअप कराया गया। शहर में दतिया जाने के िलए एक परिवार दो दिन से स्टेशन के पास बैठा रहा। शनिवार को वह पैदल ही जाने को निकला। इसकी जानकारी होने पर शहर कोतवाल अनिल सिंह ने तीन वाहनों से जा रहे कुछ लोगों को रोककर इस परिवार को भी ले जाने को कहा है। स्टेशन रोड पर कुछ समाजसेवियों ने इन यात्रियों को नमकीन व बिस्कुट खिलाया।
यात्री ले सकते हैं बस सेवा
चित्रकूट। रोडवेज बस स्टैंड के इंचार्ज सुरेश निगम ने कहा कि चित्रकूट में फंसे सतना व अन्य जगहों के यात्री बस सेवा ले सकते हैं। राष्ट्रीय जन उद्योग व्यापार संगठन के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री ने प्रधानमंत्री से मांग किया कि कोरोना महामारी के चलते देश में 21 दिनों के लॉकडाउन से खुदरा व्यापारी खुद को खतरे में डालकर आमजन को खाद्यान्न आदि सामग्री मुहैया करा रहे हैं। ऐसे में किराना, फल, सब्जी व्यापारियों को 50 लाख का बीमा अविलंब कराया जाए।
50 बंदियों की हो सकती है रिहाई
चित्रकूट। कोरोना वायरस से लड़ने के लिए जिले में हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। ऐसे में जिला जेल रगौली में बंद लगभग 50 बंदियों को भी राहत मिल सकती है। इन बंदियों को 42 दिन की छुटटी मिलने की संभावना है। जिला जेलर श्रीप्रकाश त्रिपाठी ने बताया कि अभी इसका फैसला नहीं हुआ है। रविवार को अदालत व उच्चाधिकारी इस पर कुछ फैसला ले सकते हैं।
... और पढ़ें

चित्रकूट: आटा मिल पर छापा, जांच टीम पर हमला

चित्रकूट। लॉकडाउन के दौरान कालाबाजारी की शिकायत पर जांच करने पहुंची टीम पर आटा मिल मालिक के परिजनों ने हमला कर दिया। मिल मालिक के भाई ने एसडीएम व सीओ पर बाइक चढ़ाने की कोशिश की। मंडी सचिव पर भी हमला किया। हंगामे के बीच कुछ ग्रामीणों ने आरोपी को पुलिस के कब्जे से छुड़ा लिया। पुलिस मिल मालिक व दो अन्य को पकड़कर कोतवाली ले गई। आरोपियों के खिलाफ सरकारी अधिकारियों पर हमला करने व मिल पंजीयन के कागजात न होने की रिपोर्ट दर्ज की गई है।
सदर कोतवाली क्षेत्र के सिद्धपुर गांव के रास्ते पर स्थित बजरंग आटा मिल पर कई दिनों से गेहूं व आटा का स्टाक कर कालाबाजारी करने की शिकायत मिली। एसडीएम एके पांडेय ने बताया कि इसी शिकायत पर मंगलवार की शाम को गल्लामंडी सचिव विपुल कुमार केे साथ सीओ सिटी रजनीश यादव, जिला पूर्ति अधिकारी ध्रुवकुमार, डिप्टी आरएमओ संजय श्रीवास्तव सुरक्षाकर्मियों के साथ मिल पर जांच करने पहुंचे। मिल मालिक जानकी सिंह से मिल पंजीयन के कागजात व उत्पादन के स्टाक का रजिस्टर मांगा। मिल मालिक कोई सही कागजात नहीं दिखा पाया। अधिकारी पूछताछ कर रहे थे तभी मिल मालिक का भाई भीम सिंह बाइक से आया और एसडीएम व सीओ पर चढ़ाने की कोशिश की। दोनों अधिकारी अपने स्थान से हटकर बच सके। सुरक्षाकर्मियों ने जब पकड़ने की कोशिश की तो भीम ने हंगामा करते हुए स्थानीय लोगों को बुला लिया। इसी बीच आरोपी ने गल्लामंडी सचिव विपुल कुमार का हाथ पकड़कर मोड़ दिया और ग्रामीणों की मदद से पुलिस की पकड़ से भाग निकला।
सूचना पर कोतवाल अनिल सिंह फोर्स के साथ पहुंचे। पुलिस ने मिल मालिक समेत दो अन्य को पकड़ लिया है। गल्ला मंडी सचिव ने बताया कि मिल को सीज करा दिया गया है। मिल में प्रथम दृष्टया 80 बोरी आटा, 25 बोरी गेहूं, 35 बोरी चावल व भारी मात्रा में चोकर मिला है। इन सबके कागजात नहीं मिले। आरोपी ने सरकारी काम में बाधा डालकर मारपीट की है। कोतवाल अनिल सिंह ने बताया कि मिल मालिक समेत उसके भाई पर दोनों मामले की रिपोर्ट दर्ज की गई है। आरोपी की तलाश की जा रही है।
... और पढ़ें

चित्रकूट में दो सौ लोगों की जांच कर किया क्वारंटीन

चित्रकूट। जिला प्रशासन का अब पूरा ध्यान जहां लॉकडाउन का सख्ती से पालन करवाना, वहीं बाहर से आ रहे लोगों को सीमा में ही रोककर होम क्वारंटीन करना। लॉकडाउन के सातवें दिन प्रशासन ने सीमा में प्रवेश करने वालों के लिए सीमा क्षेत्र में बनाए गए 21 अस्थायी होम क्वारंटीन पर विशेष नजर रखी। मंगलवार को बार्डर से जिले में घुस रहे दो सौ लोगों का जिला अस्पताल में स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया। इन सभी को बनाए गए अस्थायी क्वारंटीन सेंटरों में भर्ती करा दिया गया। ये सभी लोग रेल पटरी किनारे पैदल चलकर आए। वहीं बाजार में कालाबाजारी रोकने के लिए प्रशासन की टीमों ने कई जगह छापे मारे।
उधर, मंगलवार को जिलाधिकारी शेषमणि पांडेय और पुलिस अधीक्षक अंकित मित्तल ने फोर्स संग किराना व सब्जी की दुकानों में जाकर लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने और तय रेट पर सामग्री बेचने की हिदायत दी। दोनों अफसरों ने बेचे जा रहे सामान व मूल्य के बारे में जानकारी ली, साथ ही दुकानदारों को कालाबाजारी न करने की हिदायत दी। जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने सीडीओ और सीएमओ संग राजापुर, मानिकपुर, मऊ व सदर तहसील में बनाए गए अस्थायी क्वारंटीन सेंटर में मौजूद ग्रामीणों के भोजन, नाश्ता व स्वास्थ्य की जानकारी ली। अफसरों ने वहां ठहरे मजदूरों को भोजन के पैकेट दिए। कई स्थानों पर अव्यवस्थाएं देख सही कराने की हिदायत दी।
कुछ केंद्रों के बाहर ही मजदूर जमीन पर लेटे देखे गए। उधर, लॉकडाउन के सातवें दिन मंगलवार को भी अन्य प्रांतों में रहने वाले मजदूरों का पलायन जिले की ओर जारी रहा। सुबह से मुख्यालय समेत जिले के कई कस्बोें में बाहर से आए कई युवक सड़कों में घूमते हुए नजर आए। नगर पालिका, रुकमणि सेवा संस्थान, बुंदेली सेना व समाजसेवी जयशंकर मिश्रा आदि ने भोजन खिलाया। उधर, अपना दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष व विधान परिषद सदस्य आशीष सिंह ने कोरोना क्वारंटीन वार्ड के लिए 50 बेड देने की घोषणा की। जिले में कई स्थानों पर ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि बाहर से गांव पहुंचे कुछ संदिग्ध लोगों के बारे में अफसरों को जानकारी दी गई, लेकिन अभी तक इन बाहरियों के स्वास्थ्य की जांच तक नहीं की गई।
जरूरी समान लेने निकले बाशिंदे
चित्रकूट। लॉकडाउन होने पर जिले में मंगलवार को शहर व ग्रामीण क्षेत्र में जरूरी सामान लेने बाशिंदे अपने अपने घरों से निकले। बाकी समय अपने घर के अंदर ही रहे। जिले के मानिकपुर, राजापुर, मऊ व पहाड़ी, भरतकूप व शिवरामपुर में भी लॉकडाउन का असर देखा जा रहा है। हालांकि, कई युवक घरों से निकाल कर बाहर घूमते रहते हैं। गली-मोहल्ले में क्रिकेट व घरों में एक साथ परिजन कैरम आदि खेलते नजर आते हैं।
सात बंदियों को पैरोल पर छोड़ा गया
चित्रकूट। जिला जेल के जेलर श्रीप्रकाश त्रिपाठी ने बताया कि मंगलवार को गजाधर उर्फ अजय, दीपक कुमार यादव, गंगाप्रसाद, नंदकिशोर, शिवमिलन, बादल और भानू को 42 दिन की अंतरिम जमानत पर छोड़ा गया है। गौरतलब है कि सोमवार को 18 बंदियों को जमानत पर छोड़ा गया था। जेलर के अनुसार, अभी और बंदी जमानत पर छोडे़ जाएंगे।
डीएम बोले, दो सौ शय्या अस्पताल में व्यवस्थाएं दुरुस्त रहें
संवाद न्यूज एजेंसी
चित्रकूट। डीएम शेषमणि पांडेय ने कलक्ट्रेट में कोरोना वायरस के रोकथाम एवं बचाव के लिए संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक कर सीएमओ को 200 शय्या अस्पताल पर भी सभी व्यवस्थाएं चाक-चौबंद करने के निर्देश देते हुए दूरदराज के प्राथमिक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खुले रखने को कहा। जिला पूर्ति अधिकारी और अधिशासी अधिकारियों से होम डिलीवरी कराने की बात कही। डीएम ने सभी एसडीएम को जरूरी वस्तुओं की कमी न होने देने को कहा और इस बाबत समय-समय पर चेकिंग कर रिपोर्ट एडीएम को उपलब्ध कराने को कहा।
उन्होंने कहा कि अन्न वितरण में जो नोडल अधिकारी लगाए गए हैं, वह सभी गांव में मौजूद हर वितरण कराएं। कहीं से शिकायत मिलने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। डीएम ने गोशाला संचालन पर कोई असुविधा न होने के भी निर्देश दिए। कहा कि जिन अधिकारियों को जो दायित्व दिए गए, उनका निर्वहन करें। कहीं पर कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। डीएम ने एसडीएम को बाहरी जिलों से आने वाले लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण करा क्वारंटीन करने के निर्देश दिए। डीआईओएस से कहा कि आवासीय स्कूलों की सूची तत्काल सीडीओ को उपलब्ध करा जो कमियां हो उन्हें दुरुस्त कराएं। उन्होंने सीएमओ से चेक प्वाइंटों पर चिकित्सा टीम तैनात करने और अस्पतालों में दवाएं मुहैया कराने के निर्देश दिए। बैठक में सीडीओ डॉ महेंद्र कुमार, एडीएम जीपी सिंह, एएसपी बलवंत चौधरी, एसडीएम, बीडीओ आदि मौजूद थे।
... और पढ़ें

शासनादेश का उल्लघंन कर रहे बीएमएम कार्यालय के कर्मचारी

मानिकपुर(चित्रकूट)। लॉकडाउन के दौरान सभी कार्यालय खोलने व ग्रामीण क्षेत्र में जागरूकता फैलाने में प्रशासन के काम में मदद करने की बजाए राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन कार्यालय में ताला बंद है। स्थानीय लोगों की मानें तो देश में लॉकडाउन की घोषणा होने के बाद से इस कार्यालय का ताला नहीं खुला है। एडीओ ने भी माना कि कार्यालय खुलना चाहिए पर संबंधित अधिकारी कार्यालय फोन भी नहीं उठा रहे हैं। डीएम का आदेश हैं कि बिना अनुमति कोई मुख्यालय नहीं छोड़ेगा।
मानिकपुर ब्लाक परिसर में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (बीएमएम) का कार्यालय संचालित है। कार्यालय के प्रभारी मनीष नाथ जोगी हैं। इनके साथ कुल छह कर्मचारी कार्यरत हैं। इस कार्यालय का काम ग्रामीण इलाकों मेें इस वायरस से बचने के लिए जागरूकता फैलाना व गरीब ग्रामीणों के आजीविका में आ रही परेशानी को दूर कराना है। स्थानीय लोगाें की माने तो 24 मार्च से ही इस कार्यालय का ताला नहीं खुला है जबकि डीएम के आदेश हैं कि बिना अनुमति कोई मुख्यालय नहीं छोडे़गा।
इस मामले में एडीओ (आईएसबी) बलराम सिंह ने बताया कि इस कार्यालय के अधिकारी कर्मचारी को फोन किया जा रहा है लेकिन कोई फोन नहीं उठ रहा। यह सही है कि 24 से लगातार यह कार्यालय बंद चल रहा है। इसकी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को दी जाएगी।
... और पढ़ें

रोजी रोटी के लिए परदेश कमाने गए युवक जुगाड़ से लौटे घर

मानिकपुर/राजापुर/मऊ(चित्रकूट)। रोजी रोटी के जुगाड़ में जिले से परदेस कमाने गए युवक और मजदूर लॉकडाउन होने के बाद अपने-अपने घर वापस लौट रहे हैं। इससे ग्रामीण और प्रशासनिक अधिकारी परेशान हैं। जिले में आने वाले परदेसियों की मेडिकल जांच भी कराई जा रही है। इसके बाद भी कई मजदूर बिना जांच कराए ही अपने अपने गांव पहुंच जा रहे हैं। इससे ग्रामीण डरे हुए हैं कि परदेसियों के कारण कहीं कोरोना न फैल जाए।
जिले में बेरोजागारी के कारण बड़ी संख्या में युवक व मजदूर शहरों में काम करते है। इसमें सबसे अधिक गुजरात व महाराष्ट्र में काम करते हैं। जब से कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन कर दिया गया है। कंपनियां बंद होने से बेरोजागर हो गए। इससे अब परदेसी वापस घर लौट रहे हैं। सीएमओ डा. विनोद कुमार यादव का कहना कि बाहर से आने वालों को मेडिकल चेकअप रास्ते में किया जा रहा है। कुछ लोग जो गांव पहुंच रहे उनका भी चेकअप किया जा रहा है।
शिलरामपुर व बरगढ़ में रोके जा रहे मजदूर
चित्रकूट। जिले की सीमा में बरगढ़, राजापुर , भरतकूप क्षेत्र आता है। इसके अलावा मप्र की सीमा भी पड़ रही है। जहां से मजदूर आ रहे हैं। आने वाले अधिकतर मजदूरों को जिले क े राष्ट्रीय राजमार्ग किनारे स्थित शिवरामपुर व बरगढ़ में रोका जा रहा है।
बाहर से आने वालों की ब्लाकवार स्थिति
कर्वी 1180
पहाड़ी 924
मऊ 772
रामनगर 380
मानिक पुर 1132
कुल 4388
... और पढ़ें

लॉकडाउन में फंसे मथुरा, अयोध्या, एटा व फर्रुखाबाद के सैकड़ों संत

चित्रकूट। मथुरा सहित कई तीर्थ क्षेत्र से सैकड़ों साधु संत एक माह पहले चित्रकूट तीर्थ क्षेत्र में 84 कोसी परिक्रमा के लिए आए थे। जो लॉकडाउन के बाद फंस गए हैं। वह अपने-अपने आश्रम, मंदिरों में जाना चाहते हैं। साधन न मिलने के कारण इधर उधर भटक रहे हैं।
भगवान श्रीराम की तपो भूमि से हर साल 84 कोसी परिक्रमा निकाली जाती है। इसमें हजारों साधु संत शामिल होते हैं। यह परिक्रमा लगातार एक माह तक चलती है। जिसमें कई तीर्थ क्षेत्रों में साधु संत रुकते हैं। 23 फरवरी को महंत गोविंददास के नेतृत्व में यात्रा जानकीकुंड के पास से निकली थी। जिसमें सैकड़ों साधु संत मथुरा व अयोध्या सहित अन्य तीर्थ स्थानों से पहुंचे थे। जिन्होंने 84 कोसी परिक्रमा लगाया था। एक माह से अधिक उनको यहां आए हो गया। जिनको खाने पीने का इंतजाम धर्मनगरी के आश्रम के साधु संतों व समाज सेवी कर रहे थे। अब बाहर से आए साधु संत अपने-अपने आश्रम व मंदिर जाना चाहते हैं, लेकिन लॉकडाउन होने से समस्या खड़ी हो गई है। जाने के लिए कोई साधन ही नहीं बचा। जिला मुख्यालय आने पर व्यापारी नेता विष्णु गुप्ता ने साधु संतों को फलों का वितरण किया।
इन जिलों के फंसे संत
चित्रकूट। लॉकडाउन होने से चित्रकूट तीर्थ स्थल में फंसे साधु संतों में मथुरा जिले के वृंदावन के श्याम दास, राधा कुंज के बाल गोपाल, गोवर्धन के प्रीतम दास, राधेश्याम, आगरा शहर के गिरदधरदास, अलीगढ़ जिले के फुलावली के ताराचंद्र, भगावती, शाहजहांपुर के रामवती शर्मा, एटा जिले के भीरामप्रातप, राजपाल सिंह, गोविंद दास, मुरैना मप्र उधौलि के साधु दास, कृष्ण प्रकाश, फर्रुखाबाद जिले के भैसरी के प्रेमलाल, फरीदाबाद जिले के गंगाराम, औरैया के ज्ञान प्रकाश, व वीरेंद्रदास आदि साधु संत हैं। जो एक माह से अधिक समय से चित्रकूट आए थे। जो अपने घर नहीं जा पा रहे हैं।
... और पढ़ें

बाहर से आए 500 ग्रामीणों को अस्थायी होम क्वारंटीन में रखा

चित्रकूट। लॉकडाउन के कारण दिल्ली महाराष्ट्र और गुजरात से आने वाले वाहनों को जिले की सीमा पर ही रोका गया। इन वाहनों में सवार लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण कराने के बाद चिह्नित स्कूल और कॉलेज के भवनों में होम क्वारंटीन कराया गया है। मुख्यालय के शिवरामपुर व बेडीपुलिया में 284 लोगों को रखा गया है। पूरे जिले में ऐसे लोगों की संख्या लगभग पांच सौ है। डीएम शेषमणि पांडेय, एसपी अंकित मित्तल, सीडीओ डा. महेंद्र कुमार व सीएमओ डा. विनोद कुमार ने ग्रामीणों से मिलकर हालचाल जाना उनके खाने व ठहरने के इंतजाम का निरीक्षण किया। इसी बीच राजापुर व मऊ क्षेत्र के सीमा क्षेत्र में रात को बाहरी जनपद से आए चार बसों के ग्रामीणों को अधिकारियों ने स्वास्थ्य परीक्षण कराकर गांव भेज दिया है। इन अस्थाई कैंप में ठहरे कुछ ग्रामीणों ने खाने पानी का सही इंतजाम न होने की बात कही है। इस संबध में अधिकारियों ने जानकारी न होने की बात कही है।
लॉकडाउन कड़ाई से लागू कराने के लिए प्रदेश सरकार के आदेश के बाद रविवार की रात से ही जिले की सभी सीमाओं पर अधिकारी व पुलिस बल ने सख्ती अपनाई। दिल्ली, महाराष्ट्र, गुजरात व अन्य प्रांत जिलों से ग्रामीणों की आने की सूचना पर स्वास्थ्य टीम भी मौके पर तैनात रही। बांदा कानपुर लखनऊ की ओर से आने वाले वाहनों को भरतकूप में रोका गया। सीडीओ डा. महेंद्र कुमार ने बताया कि 148 ग्रामीणों को बेडीपुलिया के इंटर कालेज व 136 को शिवरामपुर आईटीआई में ठहराया गया है। सरधुआ व चकौंध के कस्तूरबा कालेज मेें भी ऐसे ग्रामीणों को ठहराया गया है। मऊ एसडीएम राजबहादुर ने बताया कि बरगढ के पास इंटर कालेज व पालीटेक्टिनक कालेज में ऐसे ग्रामीणों को ठहराया जा रहा है। राजापुर एसडीएम राहुल विश्वकर्मा ने बताया कि सरधुआ व आसपास के कालेज अधिकृत किए गए हैं। पूरे जिले में लगभग 500 से अधिक ग्रामीणों को ऐसे स्थानों पर अस्थाई होम क्वारंटीन में रखा गया है। डीएम शेषमणि पांडेय के साथ एसपी अंकित मित्तल ने इन अस्थाई होम क्वारंटीन का सुबह से निरीक्षण कर स्वास्थ्य परीक्षण की रिपोर्ट चेक की। सभी ग्रामीणों को नाश्ता व भोजन के साथ दवाओं की उपलब्धता कराने के निर्देश जारी किए गए हैं। सुरक्षा के लिए इन स्थानों पर पुलिस बल भी तैनात किया गया है।
स्वास्थ्य परीक्षण कराकर सीधे भेजा गांव
चित्रकूट। बरगढ़ व राजापुर प्रतिनिधि के अनुसार रात को बाहरी जनपद से कई वाहनों में अन्य प्रांत के मजदूर आदि आए। जिनका सिर्फ स्वास्थ्य परीक्षण कराकर सीधे उनके गांव भेज दिया गया है। इस मामले में सीडीओ डा. महेंद्र कुमार ने बताया कि इसकी जानकारी नहीं है। संबंधित क्षेत्र के एसडीएम से जानकारी ली जाएगी।
सुरक्षित गांव पहुंचने की चिंता
चित्रकूट। अस्थाई होम क्वारंटीन में ठहरे बरियारी मऊ गांव की रामपति ने बताया कि उसके बच्चे दो दिन से भूखे थे। दिनरात सुरक्षित गांव पहुंचने की चिंता थी। यहां आकर खुद को सुरक्षित तो महसूस कर रहे हैं लेकिन अपने गांव जल्द जाने की इच्छा है। मौके पर नन्हेें श्रीकेश, राजू व रमिया ने तोतली भाषा में कहा कि भूख लगी है। वह इससे अंजान हैं कि कहां हैं और किस कारण यहां ठहरे हैं। इनके परिजनों ने बताया कि हम सब दिल्ली के पास क्रशर मिल में काम करते हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते काम बंद हो गया है, जिससे उनके सामने जीवन यापन का संकट आ गया। एक सप्ताह से गांव लौटने के लिए परेशान थे। इटखरी गांव की गोमती देवी ने बताया कि भरपेट भोजन नहीं मिला है। भोपाल से लौटे छात्र अमर सिंह, अंकित ओझा ने बताया कि वह मऊ के रहने वाले हैं। किसी तरह यहां पहुंचे हैं लेकिन भोजन न मिलने से वह परेशान हैं।
इनसेट...
प्रशासन कर रहा है भोजन का इंतजाम
चित्रकूट। शिवरामपुर के अस्थाई होम क्वारंटीन आईटीआई में इन ग्रामीणों की देखरेख के लिए नियुक्त सेक्टर मजिस्ट्रेट संजय मिश्रा ने बताया भोजन आदि का इंतजाम प्रशासन द्वारा किया जा रहा है। उनसे इससे मतलब नहीं है। यह भी बताया कि उनका मोबाइल काम नहीं करता है। इन ग्रामीणों को कहां भेजा जाना है इसकी भी जानकारी नहीं है।
... और पढ़ें

चित्रकूट में न समय से भुगतान न ही मास्क सैनिटाइजर

चित्रकूट। कोरोना वायरस के संक्रमण के दौरान स्वास्थ्य विभाग सतर्क है लेकिन वहीं 108 व 102 एंबुलेंस चालकों को इस बात का आक्रोश है कि उन्हें समय से मानदेय नहीं दिया जा रहा। इन दिनों महामारी से निपटने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के बाद भी उन्हें मास्क व सैनिटाइजर नहीं दिया जिससे वह सब परेशान हैं। किसी एंबुलेंस में कोरोना से बचने की पूरी किट उपलब्ध नहीं है।
सोमवार को जिला अस्पताल में एंबुलेंस चालक व टेक्नीशियनों ने विरोध किया। रोष जताते हुए कहा कि गांवों में मरीजों को एंबुलेंस से लाते हैं। ऐसे में उनके पास न तो सेनेटाइजर है और न ही मास्क। जिससे खतरा बना रहता है। बावजूद इसके विभागीय अधिकारी कोई ध्यान नहीं दे रहे। कई बार सीएमओ समेत विभागीय अधिकारियों को पत्र के माध्यम से अवगत कराया है। जीवनदायनी 108-102 एवं एलेक्स स्वास्थ्य विभाग उप्र की चित्रकूट ईकाई के जिलाध्यक्ष राजेंद्र कुमार, उपाध्यक्ष अवनीश पटेल, मंत्री राघवेंद्र व मीडिया प्रभारी आमिर ने बताया कि दो माह का मानदेय नहीं मिला है। कोरोना वायरस से निपटने के लिए तीन एंबुलेंस लगी हैं। तीनों में पूरी किट नहंी है। मास्क व सैनिटाइजर मांगने पर नहीं मिल रहा है। इन समस्याओं का समाधान न हुआ तो एक अप्रैल से हडताल की जाएगी। यह जानकारी मिलने पर सीएमओ डा विनोद कुमार ने जल्द सेनेटाइजर व मास्क उपलब्ध कराने की बात कही है।
चोट लगने से महिला की हुई मौत
राजापुर। थाना अंतर्गत सरधुवा गांव के खटकाना मोहल्ले मेेें कुंए में मिले शव का पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पीठ में चोट लगना बताया जा रहा है। इस मामले में अभी तक किसी ने रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई।
राजापुर कस्बे की सविता 30 की शादी सरधुवा निवासी अखिलेश सोनकर के साथ हुई थी जिसका शव शनिवार को मिला था। जिसके शव का पोस्टमार्ट कराया गया। थानाध्यक्ष गुलाब त्रिपाठी का कहना कि पोस्टमार्टम में चोट लगी बतायी गई है। कुआ में गिर से चोट लगी है। इस मामले किसी ने रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई। संवाद
... और पढ़ें

चित्रकूट में छात्रा ने आग लगाकर दी जान

चित्रकूट। बहिलपुरवा थाना क्षेत्र के बड़ी मड़ैय्यन में इंटर की छात्रा ने खुद पर मिट्टी का तेल छिड़कर आग लगा ली। आग का गोला बनी छात्रा को बचाने के लिए दादी ने गुहार लगाई। आसपास के लोगों ने आग बुझाकर छात्रा को जिला अस्पताल पहुंचाया। वहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। पिता का आरोप है कि घटना के पहले बेटी ने गांव के ही एक युवक से बात की थी। इसी के बाद आत्मघाती कदम उठाया है।
बडी मडै़य्यन गांव निवासी इंटर की छात्रा शांति देवी (17) पुत्री श्रीकेश ने रविवार की देर शाम कमरे के अंदर मिट्टी का तेल डाल कर आग लगा लिया। यह देखकर घर में मौजूद दादी रतरनिया ने चिल्लाकर बचाने की गुहार लगाई। उसकी चीखपुकार सुन पहुंचे पड़ोसियों ने दरवाजा तोड़कर आग बुझाया और जिला अस्पताल ले गए। वहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। मां ज्ञानमती व पिता ने बताया कि शांति का गैर बिरादरी के एक युवक से मधुर संबंध थे। दोनों के परिजन इस रिश्ते का विरोध कर समझाने का प्रयास करते थे। आरोप लगाया कि युवक दो दिन पूर्व ही उनकी बेटी को ले भी गया था, लेकिन रास्ते में नयागांव थाना पुलिस कर्मियों ने उन्हें पकड़ लिया। परिजनों के पहुंचने पर समझाकर गांव भेज दिया था। इस घटना के बाद पुत्री को बहुत समझाने का प्रयास किया गया। यह भी बताया कि रविवार की शाम को जब वह सब खेत में फसल काट रहे थे तब घर में पुत्री शांति व उसकी दादी घर में थी। इसी बीच पुत्री ने गांव के युवक से फोन पर बात की थी। उसने शादी करने से इनकार कर दिया तो क्षुब्ध होकर उसने यह कदम उठाया है। इसकी थाने में भी जानकारी दी गई है। थानाध्यक्ष चित्रसेन सिंह ने बताया कि घटना की जानकारी मिली है। सोमवार को शव का पोस्टमार्टम कराया गया है। फिलहाल कोई तहरीर नहीं मिली है। मृतका चार भाइयों के बीच अकेली बहन थी।
आग से युवती झुलसी
चित्रकूट। मुख्यालय से सटे गोलतालाब के समीप की चांदनी मौर्या (28) पत्नी राकेश अज्ञात कारणों के चलते आग से झुलस गई। उसकी चीखपुकार सुन पहुंचे परिजनों ने आनन-फानन जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। संवाद
... और पढ़ें

प्यार में बेवफाई मिलने से क्षुब्ध इंटर की छात्रा ने जान दी, आखिरी बार प्रेमी से फोन पर की थी ये बात

यूपी के चित्रकूट जिले में इंटर की छात्रा ने प्यार में बेवफाई मिलने से क्षुब्ध होकर घर के कमरे में आग लगा ली। यह देखकर घर के बाहर मौजूद उसकी दादी ने चिल्लाकर बचाने का प्रयास किया लेकिन दरवाजा बंद होने से वह अंदर नहीं जा सकी।

आसपास के लोगों ने आकर कुंडी तोड़कर लड़की को बाहर निकाला और इलाज के लिए जिला अस्पताल ले गए। यहां इलाज के दौरान छात्रा ने दम तोड़ दिया। मृतक छात्रा के पिता ने बताया कि गांव के ही एक युवक से उसका प्रेम प्रसंग चल रहा था।

जिसे लेकर कई बार उसे मना किया गया लेकिन वह नहीं मानी। एक दिन पूर्व छात्रा की प्रेमी से मोबाइल पर बातचीत हुई थी। जिसने शादी करने से इनकार कर दिया था। बेवफाई से क्षुब्ध होकर बेटी ने यह कदम उठाया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
Banda + Chitrakoot Ad
Banda + Chitrakoot Ad
Banda + Chitrakoot Ad

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us