विद्युत दुर्व्यवस्था के खिलाफ भड़के वकील

Chandauli Updated Sat, 25 May 2013 05:30 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
चकिया। पिछले एक महीने से जारी विद्युत दुर्व्यवस्था तथा अनियमित रोस्टर से आजिज अधिवक्ताओं के सब्र का बांध शुक्रवार को टूट गया। इसके बाद लामबंद वकील बार एसोसिएशन के नेतृत्व में सुबह साढ़े आठ बजे सड़क पर उतर गए और सहदुल्लाहपुर तिराहे पर पहुंचकर चकिया- मुगलसराय मार्ग को जाम कर दिया। इस दौरान अधिवक्ताओं ने नगर में जुलूस निकालकर विरोध प्रदर्शित किया।
विज्ञापन

एक माह पुराने विद्युत आपूर्ति के रोस्टर अर्थात सायं सात से सुबह पांच बजे तक की बहाली की मांग को लेकर अधिवक्ता चकिया बार एसोसिएशन के अध्यक्ष रामकृत तथा महामंत्री पंकज सिंह के नेतृत्व में मुंसिफ कोर्ट से जुलूस निकाल कर नारेबाजी करते हुए सहदुल्लापुर तिराहे पर पहुंचे और चक्का जाम कर दिया। अधिवक्ताओं के जुलूस व प्रदर्शन के चलते नगर की फिजा सुबह ही गर्म हो गई। जाम से दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई।

इस अवसर पर हुई सभा में वकीलों ने कहा कि पिछले एक माह से पुराने विद्युत रोस्टर के बदले जाने से चकिया विद्युत उपकेंद्र से जुड़े लोगों का जीवन बेहाल हो गया है। भीषण गर्मी में मच्छरों के प्रकोप तथा पेयजल संकट से सभी परेशान हैं। लेकिन जनप्रतिनिधि तथा पावर कारपोरेशन के अधिकारी सिर्फ आश्वासन ही दे रहे हैं तथा इस मुद्दे पर होने वाले आंदोलनों को समाप्त करा रहे हैं। जिससे परेशानी यथावत है। अधिवक्ताओं ने कहा कि यदि शुक्रवार की शाम तक पुराने रोस्टर की बहाली नहीं होती है, तो शनिवार से आंदोलन और तेज किया जाएगा। तहसीलदार तथा कोतवाल के आश्वासन के बाद एक घंटे बाद जाम समाप्त हुआ। इस दौरान शंभूनाथ सिंह, लालचंद बृजराज सिंह, शिव प्रसाद सिंह, शंकर पटेल, मणिशंकर पांडेय, प्रदीप, नारायण सिंह, श्याम नारायण मौर्य, उमाशंकर सिंह, बैजनाथ राय, बनारसी सिंह, महेंद्र सिंह, जगदीश विश्वकर्मा, संतोष चौरसिया, अरविंद यादव, प्रदीप पाठक, सुशील कुमार सिंह आदि अधिवक्ता मौजूद रहे। सभा की अध्यक्षता रामकृत एवं संचालन पंकज सिंह ने किया।
इनसेट
पुराना रोस्टर चाहती हैं विधायक
अधिवक्ताओं के आंदोलन के बाद मोबाइल पर हुई बातचीत में क्षेत्रीय विधायक पूनम सोनकर ने कहा कि वे शुक्रवार को फिर सीएमडी से बातचीत करेंगी तथा एक माह पूर्व के विद्युत आपूर्ति के रोस्टर को लागू कराने का प्रयास करेंगी।
इनसेट
आंदोलन का अंत आश्वासन से
विद्युत दुर्व्यवस्था के विरोध में पिछले पखवारे चकिया नगर सहित तमाम क्षेत्रीय समस्याओं के लिए संघर्ष करने के लिए बनी जन संघर्ष समिति ने गांधी पार्क में अनिश्चितकालीन धरना तथा क्रमिक अनशन किया था। इस दौरान मशाल जुलूस तथा पावर कारपोरेशन की शवयात्रा भी निकाली गई थी। ऐसे में जनप्रतिनिधियों तथा प्रशासनिक अधिकारियों के साथ ही पावर कारपोरेशन के अधिकारियों ने भी दो घंटे अतिरिक्त बिजली देने का आश्वासन देकर आंदोलन समाप्त करा दिया। पर नतीजा ढाक के तीन पात ही रहा। जनता की समस्या को देखकर सपा विधायक सक्रिय हुईं। वे लखनऊ तक गईं तथा मुख्यमंत्री और पावर कारपोरेशन के सीएमडी तक को ज्ञापन दिया। फिर भी कोई सुनवाई नहीं हुई। जिससे जनप्रतिनिधि भी निष्प्रभावी होने की स्थिति में हैं। सांसद पकौड़ी कोल ने भी अपनी ओर से थोड़ा बहुत प्रयास किया, लेकिन कोई प्रगति नहीं हुई। जिससे नागरिकों की समस्याएं और गहरा रही हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00