आर्थिक गणना से रुकेगी बीपीएल सूचि की धांधली

Chandauli Updated Tue, 05 Jun 2012 12:00 PM IST
सकलडीहा। भारत सरकार द्वारा एक जून से कराई जा रही आर्थिक, सामाजिक एवं जातिगत गणना से बीपीएल सूची बनने में हो रहे धांधली को रोकने काफी मदद मिलेगा। गौरतलब है कि भारत सरकार द्वारा जनगणना कराने के बाद अब सामाजिक, आर्थिक व जाति गणना कराया जा रहा है। जो कि एक जून से 30 सितंबर तक प्रत्येक गांव में प्रगणक जाकर हर परिवार के मुखिया से 23 प्रशभनों का उत्तर लेंगे। इसमें परिवार की स्थिति एवं दैनिक जीवन में उपयोग की जाने वाली सामग्री जैसे मोबाइल, फोन, वाहन, भूमि के साथ ही घरों के बनावट की स्थिति एवं घरों में प्रयोग होने वाली वस्तु जैसे रेफ्रीजरेटर, वाशिंग मशीन, एयर कंडीशन, कूलर, रंगीन टीवी, प्रकाश की व्यवस्था आदि का पूरा विवरण लेंगे तथा उसको मुखिया के सामने फीड करेंगे जो रिकार्ड में उपलब्ध होगा। जिसे दिल्ली भेजा जाएगा। वहीं सरकार के पास भी अब रिकार्ड मौजूद रहेगा। ऐसी स्थिति में 2014 में होने वाले बीपीएल, एपीएल एवं अंत्योदय कार्ड की सूची बनाने में काफी सहायता प्राप्त होगी। बीपीएल सूची में पहले भी काफी अनियमितताएं हो चुकी हैं। वहीं ग्राम प्रधानों के ऊपर भी आरोप लगता रहा है कि प्रधान अपने शुभेच्छुओं को इसका लाभ दिलाते हैं। चाहे वह इसके पात्र हों या ना हों। इस संबंध में बीडीओ रमेश यादव का कहना है कि सरकार की मंशा यही है कि भारत सरकार द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ पात्र व्यक्तियों को मिले, जिससे वह भी अन्य लोगों की श्रेणी में आ सके। यह गणना बीपीएल एवं अन्य प्रकार की सूची बनाने में काफी मददगार होगी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

परिवारवालों को था घर पर इंतजार लेकिन पहुंचा झंडे में लिपटा जवान का शव

बॉर्डर पर पाक लगातार नापाक हरकतें कर रहा है। पाक की तरफ से लगातार सीजफायर का उल्लंघन हो रहा है। इस दौरान कई जवान शहीद हो गए। शहीद होने वालों में एक चंदौली का जबाज भी था। जबाज सैनिक 15 फरवरी को घर आना था।

22 जनवरी 2018