विज्ञापन
विज्ञापन

लतीफशाह का ऐतिहासिक मेला 14 से

Varanasi Bureauवाराणसी ब्यूरो Updated Thu, 13 Sep 2018 01:08 AM IST
ख़बर सुनें

विज्ञापन
विज्ञापन
चकिया। क्षेत्र की सांस्कृतिक विरासत के रूप में प्रसिद्ध बाबा लतीफशाह के तीन दिवसीय ऐतिहासिक मेले का आयोजन 14 सितंबर से होगा। तीन दिवसीय मेले के दौरान बाबा की मजार, चकिया नगर, बरहुआ गांव, सोनहुल गांव, सिकंदरपुर में विभिन्न सांस्कृतिक आयोजन होंगे। मेले के दूसरे दिन उपजिलाधिकारी आवास परिसर में स्थित वट वृक्ष के नीचे कजरी महोत्सव का आयोजन किया जाएगा।
पहले दिन मेला बाबा लतीफशाह की मजार पर लगेगा। दूसरे दिन मेला चकिया नगर के गांधी पार्क, महाराजा का किला, कचहरी परिसर, मां काली जी का पोखरा परिसर तथा पोखरे के सामने स्थित परिसर में लगेगा। मेले के दूसरे दिन 104 वर्षों से आयोजित होने वाले ऐतिहासिक कजरी महोत्सव का आयोजन नगर पंचायत की ओरसे किया जाएगा इस संबंध में नगर पंचायत अध्यक्ष अशोक कुमार बागी ने बताया कि महोत्सव में कजरी प्रतियोगिता होगी। प्रतियोगिता में पहले, दूसरे और तीसरे स्थान प्राप्त करने वाले गायकों को प्रमाण पत्र और शील्ड देकर सम्मानित किया जाएगा। मेले के पहले दिन बरहुंआ गांव में, दूसरे दिन सोनहुल गांव में, तीसरे दिन चकिया मां काली जी के पोखरे पर तथा चौथे दिन सिकंदरपुर में कुश्ती दंगल का आयोजन किया जाएगा।

शिकारगंज। लतीफशाह कौमी एकता प्रेम, सद्भाव, भाईचारा के प्रतीक थे तीज के तीसरे दिन उनकी मजार पर मेला लगता है जिसमें सभी समुदायों व वर्गों के लोगों का जुटाव होता है।
कहा जाता है कि बाबा लतीफशाह का जन्म तेरहवीं शताब्दी में फारस के बगदाद शहर में हुआ था। वे ख्वाजा मुईनुद्दीन शाह चिश्ती के रिश्तेदारों में थे तथा उन्हीं के साथ इनके परिजन भारत आए थे। भारत आने के बाद बाबा लतीफशाह ने धर्मप्रचार के साथ ही प्रेम, अहिंसा तथा भाईचारा का संदेश देना शुरू किया। यह सल्तनत काल में शासकों को पसंद नहीं आया। इस पर उन्होंने दिल्ली छोड़ दिया तथा पूरे भारत वर्ष में घूम कर प्रेम तथा सद्भाव की अलख जगाने लगे। इसी दौरान वे कर्मनाशा नदी के इस निर्जन तट पर पहुंचे तथा वही अपना डेरा डाल दिया। बाबा के योग तथा तप के चलते हिंसक जानवर भी उनके हमराह बन गए। उसी समय कर्मनाशा नदी के पास ही बाबा प्रीतम दास का मठ स्थित था। प्रीतम दास के शिष्य बनवारी दास भी बाबा लतीफशाह के समकालीन थे। बाबा ने लतीफशाह आने के बाद प्रीतमदास से भारतीय संस्कृति, धर्म तथा वेद शास्त्रों की जानकारी प्राप्त की। प्रीतम दास के शिष्य होने का दावा करने वाले दो संत हो गए थे। इस पर बाबा प्रीतम दास ने बाबा वनवारी दास तथा लतीफशाह के बीच आध्यात्मिक प्रतियोगिता कराई जिसमें बाबा लतीफशाह ने श्रेष्ठता सिद्ध की। बाबा के निधन के बाद उन्हें वहीं दफना दिया गया, लेकिन उनके निराकर ब्रहम, प्रेम, उपासना, सद्भाव, भाईचारे के संदेश आज भी अमर है। तत्कालीन काशी नरेश महाराजा उदित नारायण सिंह ने 1787 में जब चकिया में काली जी के मंदिर का निर्माण आरंभ किया तो उन्होंने बाबा की मजार को भी बनवाया। मजार पर तीज के तीसरे दिन मेला लगने लगा जो अब तक जारी है।

Recommended

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।
UP Board 2019

UP Board Class 10th & 12th 2019 की परीक्षाओं का सबसे तेज परिणाम देखने के लिए रजिस्टर करें।

क्या आप इसका उपयुक्त समाधान नहीं खोज पा रहे हैं? ज्योतिष शास्त्र द्वारा अपने प्रश्न का उत्तर जानिए
ज्योतिष समाधान

क्या आप इसका उपयुक्त समाधान नहीं खोज पा रहे हैं? ज्योतिष शास्त्र द्वारा अपने प्रश्न का उत्तर जानिए

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Lucknow

लोकसभा चुनाव 2019 : सपा ने उतारे दो और प्रत्याशी, वाराणसी से शालिनी यादव को दिया टिकट

समाजवादी पार्टी ने उत्तर प्रदेश से दो प्रत्याशियों की लिस्ट जारी की है।

22 अप्रैल 2019

विज्ञापन

अलीगढ़ के रोडवेज दफ्तर में छलके जाम, वीडियो वायरल

उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के अलीगढ़ डिपो में कर्मचारियों के शराब पीने का वीडियो हुआ वायरल। देखें वीडियो।

21 अप्रैल 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election