वेतन के लिए आशाओं ने सीएमओ को घेरा

Bulandshahr Updated Fri, 24 Aug 2012 12:00 PM IST
बुलंदशहर। प्रसव, नसबंदी और टीकाकरण जैसी योजनाओं में सहभागिता निभाने के बाद भी पिछले छह साल से आशाओं को वेतन नहीं मिला है। बृहस्पतिवार को नुमाइश ग्राउंड में सम्मेलन के बाद आशाओं ने सीएमओ की गाड़ी रोक ली और उनका घेराव कर प्रदर्शन किया।
आशा सुमन, देवेंद्री, राजेश, सुमनलता आदि का कहना है कि उन्हें पिछले छह वर्ष से मानदेय नहीं दिया गया है।
हर बार आश्वासन दिया जाता रहा है। सीएमओ डा. दीपक ओहरी ने आशाओं को मानदेय जल्द दिलाने का आश्वासन दिया।
हेमलता बनीं सर्वश्रेष्ठ आशा
बुलंदशहर। जनपद में स्वास्थ्य सेवाओं को जन-जन तक पहुंचाने में अहम किरदार निभाने वाली आशाओं को बृहस्पतिवार को सम्मानित किया गया। वार्षिक आशा सम्मेलन में गुलावठी की हेमलता को प्रथम, मायादेवी को द्वितीय और कुसुम को दूसरा स्थान दिया गया। अच्छा काम करने पर डीएम ने 46 आशाओं को सम्मानित किया। बृहस्पतिवार को नुमाइश पंडाल में आयोजित आशा सम्मेलन में जिले भर से 1900 आशाओं में से एक हजार आशाओं को बुलाया गया। इनमें से 45 आशाओं ने प्रसव योजना, टीकाकरण, नसबंदी और कॉपर टी जैसी योजनाओं में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। 45 आशाओं में से टॉप थ्री आशाओं का चयन जजों ने किया। आशा हेमलता को 80 प्रसव, 70 टीकाकरण और 7 नसबंदी के केस कराने पर प्रथम स्थान मिला। माया देवी ने 46 प्रसव, 51 टीकाकरण और 4 नसबंदी केस कराए। तीसरे स्थान पर कुसुम रहीं। उन्होंने 34 प्रसव, 18 टीकाकरण तथा एक नसबंदी केस कराए।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

बुलंदशहर की ये बेटी पाकिस्तान को कभी माफ नहीं करेगी, देखिए वजह

पाकिस्तान की नापाक हरकतों की वजह से शुक्रवार को बुलंदशहर के रहने वाले जगपाल सिंह शहीद हो गए। जगपाल सिंह एक दिन बाद अपनी बेटी की शादी के लिए घर आने वाले थे।

20 जनवरी 2018