रमजान सब्र का महीना और सब्र का फल जन्नत

Bulandshahr Updated Fri, 20 Jul 2012 12:00 PM IST
21 जुलाई को पहला रमजान-ए-मुबारक
बुलंदशहर। रमजान का महीना शुरू हो गया है। 21 जुलाई पहला रमजान ए मुबारक का दिन है। बाजारों में रमजान की तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। सेवई, ब्रेड और रोजा इफ्तार के लिए खानपीन के आइटमों से बाजार सजने लगे हैं। रमजान सब्र का महीना है और सब्र का फल जन्नत है। रमजान उल मुबारक में नमाज ए तरावीह के लिए भी मस्जिदों में तैयारी शुरू हो गई हैं।
हाजी नूर मोहम्मद कुरैशी ने बताया कि सभी लोग रूहानी उम्मीदों के साथ इस महीने का इस्तकबाल करते हैं। उन्हाेंने बताया कि यह महीना हमदर्दी का है। इस महीने में हर रोजेदार को भूखे की भूख और प्यासे की प्यास का अहसास होता है। उसे पता चलता है कि दुनिया के जिन लोगों को गरीबों की वजह से फाके होते हैं, उन पर क्या बीतती होगी। रोजे से आदमी में इंसानियत के प्रति हमदर्दी, गम ख्वारी और कुर्बानी का जज्बा पैदा होता है। हाफिज तबारक ने बताया कि रमजान महीने का शुरू का हिस्सा रहमत, दूसरा हिस्सा मगफिरत और तीसरा हिस्सा जहन्नुम की आग से आजादी का सबब है। रमजान उल मुबारक में एक अहम अमल नमाज-ए-तरावीह भी है। इस रात की तरावीह सवाब बताया गया है। रोजा फर्ज फरमाया है।

सेवई, ब्रेड की बिक्री शुरू
रमजान को लेकर बाजारों में रौनक शुरू हो गई है। जगह-जगह सेवई, ब्रेड और इत्र, टोपी की बिक्री शुरू हो गई है। सेवई व्यापारी शाहिद ने बताया कि रमजान में सेवई, ब्रेड सबसे ज्यादा खाई जाती हैं। इसलिए सेवई का आर्डर भी दूर दराज के दुकानदार बुक करते हैं।

शिद्दत को कहते हैं रम्ज
अरबी भाषा में गर्मी की शिद्दत को ‘रम्ज’ और धूप से तपती हुई धरती को ‘रमजा’ कहा जाता है। इस दौर में चूंकि रमजान-उल मुबारक का महीना सख्त गर्मी में आता था, इसलिए इसे रमजान कहा जाने लगा है। एक रिवायत के मुताबिक रमजान अल्लाह के निन्यानवे नामों में से एक है। इसलिए लोग इसे एहतराम के साथ शहरे रमजान या माह-ए-रमजान भी कहते हैं।

Spotlight

Most Read

Lucknow

भयंकर हादसे के शिकार युवक ने योगी से लगाई मदद की गुहार, सीएम ने ट्विटर पर ये दिया जवाब

दुर्घटना में रीढ़ की हड्डी टूटने से लकवा के शिकार युवक आशीष तिवारी की गुहार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सुनी ली। योगी ने खुद ट्वीट कर उसे मदद का भरोसा दिलाया और जिला प्रशासन को निर्देश दिया।

20 जनवरी 2018

Related Videos

बुलंदशहर की ये बेटी पाकिस्तान को कभी माफ नहीं करेगी, देखिए वजह

पाकिस्तान की नापाक हरकतों की वजह से शुक्रवार को बुलंदशहर के रहने वाले जगपाल सिंह शहीद हो गए। जगपाल सिंह एक दिन बाद अपनी बेटी की शादी के लिए घर आने वाले थे।

20 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper