125 परिवार बेघर

Bulandshahr Updated Wed, 23 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
बुलंदशहर। नुमाइश मैदान में अग्निकांड से बेघर हो गए सवा सौ परिवारों के समक्ष खाने, रहने और पहनने की समस्या पैदा हो गई। जानकारी के मुताबिक मंगलवार सुबह करीब 10 बजे वहां कुछ बच्चे तांबा निकालने के लिए बिजली के तार जला रहे थे। इस दौरान उससे निकली चिंगारी से झुग्गियों में आग लग गई। आग ने कुछ ही देर में विकराल रूप ले लिया। सूचना के करीब आधा घंटे बाद फायर ब्रिगेड की दो गाड़ियां मौके पर पहुंची। तब तक आग ने सभी झुग्गियों को चपेट में ले लिया था। उस समय ज्यादातर लोग काम पर गए थे। जो लोग मौजूद थे उन्होंने जो कुछ हाथ में आया उसे लेकर बच्चों को बाहर भगाया। इस दौरान गुस्साए कुछ लोगों ने फायर टेंडरों पर पथराव किया, मगर जल्दी ही अधिकारियों ने उन्हें समझाकर शांत करवा या। भीड़ को काबू में करने के लिए पुलिस को लाठियां फटकारनी पड़ी।
विज्ञापन

डिबाई के विधायक गुड्डू पंडित भी मौके पर पहुंचे। कुछ लोगों के उनके खिलाफ नारेबाजी की। विधायक ने डिबाई से एक फायर टेंडर मंगवाया। करीब तीन घंटे बाद आग पर काबू पर काबू पाया गया।
कैंप लगाकर ली जानकारी
डीएम नवदीप रिणवा ने नुमाइश पंडाल के बाहर कैंप लगाने के निर्देश दिए। कैंप में एडीएम प्रशासन अच्छेलाल यादव, एडीएम वित्त राजेंद्र सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट एके सिंह, डीएसओ मनोज कुमार सिंह, एसडीएम आरबी तिवारी, ईओ अरुण कुमार गुप्त आदि शाम तक डटे रहे। डीएम लगातार सूचना लेते रहे।

सिलेंडरों के फटने से धमाके
बुलंदशहर। आग लगने के दौरान झुग्गियों में रखे हुए गैस सिलेंडरों के फटने से धमाके होते रहे। बचाव कार्य में लगे लोग कई बार धमाकों के दौरान खुद को बचाते नजर आए। कई बार लगातार हुए धमाकों से पूरा इलाका गूंज उठा।

80 परिवारें को चेक बांटे
बुलंदशहर। जिलाधिकारी नवदीप रिणवा के निर्देश पर अग्निकांड में बेघर हुए 80 पीड़ित परिवार को आर्थिक मदद के तहत 5200 रुपये प्रति परिवार के रूप में चेक से वितरित किए गए। एसडीएम सदर आरबी तिवारी ने बताया कि प्रशासन ने 4.16 लाख रुपये के चेक पीड़ित परिवार के सदस्यों को दिए हैं। इसके अलावा खाने की व्यवस्था कराई गई है।

मदद को उठे हाथ
परिवार के लोगों को भोजन और कपड़ों की व्यवस्था के लिए 12 से अधिक संस्थाएं, व्यापार मंडल और राजनीतिक दलों ने मदद करनी शुरू कर दी है। प्रशासन ने झुग्गी में रहने वाले लगभग 100 परिवारों को नुमाइश पंडाल में ठहराया है। एसडीएम सदर आरबी तिवारी ने बताया कि प्रशासन की तरफ से सरकारी मदद के रूप में 2700 रुपये प्रत्येक परिवार को चेक से दिए जाएंगे।

व्यवस्था बदहाल
अग्निकांड के दौरान प्रशासनिक व्यवस्था काफी बदहाल नजर आई। घटना के काफी देर के बाद अधिकारी मौके पर पहुंचे। डीएम ने पहुंचने के बाद कड़े निर्देश दिया तब जाकर बचाव कार्य में तेजी आई।


बेटी की शादी का अरमान धरा रह गया
बुलंदशहर। बेटी के हाथ पीले करने के लिए कुछ गहने और रुपये इकट्ठा किए थे, मगर वह सब राख हो गए। झुग्गी में रहने वाले कली मोहम्मद और उनकी पत्नी समीना यह कहते हुए फफक उठी। समीना ने बताया कि बेटी जुनैदा की शादी एक माह पूर्व तय करके आई थी।
दहेज में देने के लिए मजदूरी कर मुश्किल से एक लाख रुपये और गहने बनवाकर रखे थे। आग में जलकर सब कुछ स्वाहा हो गया। झुग्गी में रहने वाले अनवर का दर्द भी इसी तरह का था। बेटी मुन्नी की शादी के लिए उसने गहने और कुछ रुपये जोड़कर रखे थे। महज कुछ सिक्कों के अलावा वह कुछ भी नहीं बचा पाया।

कार, ट्रैक्टर और भूसा भी जला
अग्निकांड में पूर्व सभासद राजपाल लोदी का हजारों रुपये का भूसा जल गया। नुमाइश मैदान में खड़ी उनकी कार और ट्रैक्टर भी जल गया।
वर्षों की कमाई पल भर में स्वाहा
झुग्गियों में आग लगने से रुपये पैसे से लेकर अनाज कपड़े सब राख हो गए। वर्षों से कड़ी मेहनत से जोड़ा गया सामान पल भर में स्वाहा हो गया। मलेखा ने रोते हुए बताया कि अनाज, रुपये और कपड़े आदि कुछ भी नहीं बचा। अब बच्चों का पेट कैसे भरेगा। नेसा बीबी की हालत तो पागलों जैसी थी। 15 साल में जो जोड़ा था सब खाक हो गया।



विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us