विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
इस काल भैरव जयंती पर कालभैरव मंदिर (दिल्ली) में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 19-नवंबर-2019
Astrology Services

इस काल भैरव जयंती पर कालभैरव मंदिर (दिल्ली) में पूजा और प्रसाद अर्पण से बनेगी बिगड़ी बात : 19-नवंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

राममंदिर ट्रस्ट में 'मुखिया' बनने की लड़ाई तेज, अब निर्मोही अखाड़े के दावे से संतों में बढ़ी हलचल

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी राममंदिर निर्माण में रोड़े खत्म नहीं हो रहे हैं। केंद्र सरकार अभी राममंदिर निर्माण के लिए नए ट्रस्ट का स्वरूप तय करने में जुटी है।

18 नवंबर 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

बिजनौर

सोमवार, 18 नवंबर 2019

बास्टा विस्फोट की एडीजी इंटेलीजेंस करेंगे जांच

बास्टा विस्फोट की एडीजी इंटेलीजेंस करेंगे जांच
बिजनौर। चांदपुर क्षेत्र के बास्टा गांव में मकान में बम विस्फोट के मामले में एडीजी इंटेलीजेंस एसबी शिराडकर जांच करेंगे। वह सोमवार को बास्टा पहुंचकर मौके का निरीक्षण करेंगे।
12 नवंबर की रात बास्टा में स्व.देवेंद्र शर्मा के बंद पड़े मकान में विस्फोट होने से इलाका दहल उठा था। विस्फोट से मकान के खिड़की व दरवाजे तक टूट गए थे। दीवारों में दरारें आ गई थीं। विस्फोट इतना जबरदस्त था कि गांव के लोग सहम गए थे। बम लेकर मकान में आए गांव के ही सलीम की मौत हो गई थी। सलीम चोरी के इरादे से मकान में आया था। बम उसके पास था। पुलिस को सलीम के घर से विस्फोटक सामग्री मिली थी। मौके से सुतली बम में इस्तेमाल होने वाला सामान मिला था। पुलिस के मुताबिक सलीम के पास देशी बम था। बम फटने से ही सलीम की मौत हुई। इस विस्फोट में कहीं आतंकी कनेक्शन तो नहीं है, एटीएस समेत तमाम एजेंसियों ने इसकी जांच की। अब एडीजी इंटेलीजेंस एसबी शिराडकर इस मामले की जांच करने आ रहे हैं। एसपी संजीव त्यागी के मुताबिक एडीजी इंटेलीजेंस सोमवार को इस विस्फोट के मामले में जांच करेंगे। पूरे दिन वह जांच पड़ताल में रहेंगे। जांच के बाद अपनी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को देंगे।
... और पढ़ें

बिजनौर: तीस हजार के कर्ज से परेशान किसान ने की आत्महत्या, खेत में लटका मिला शव

पेड़ से टकराकर नहर में समाई टैक्सी, देहरादून के चालक सहित पौड़ी के तीन युवक लापता

देहरादून से पौड़ी जा रही प्राइवेट टैक्सी पेड़ से टकराकर नहर में समा गई। रविवार तड़के हुई घटना में टैक्सी में सवार एक युवक ने तैरकर अपनी जान बचा ली, जबकि चालक सहित चार लोग लापता हैं। उनकी तलाश में गोताखोर लगाए गए हैं।

देहरादून में काम करने वाले सतपुली व पौड़ी गढ़वाल क्षेत्र के चार युवक अपने मित्र की शादी में शामिल होने के लिए प्राइवेट टैक्सी से पौड़ी गढ़वाल जा रहे थे। नजीबाबाद तहसील क्षेत्र में चिड़ियापुर से समीपुर नहर पटरी मार्ग पर चंदक हेड के निकट रविवार तड़के करीब चार बजे टैक्सी पेड़ से टकराकर नहर में गिर गई। टैक्सी में चालक सहित पांच लोग सवार थे।

उत्तराखंड के गांव सतपुली पौड़ी गढ़वाल निवासी रोहित (30) ने तैरकर अपनी जान बचाई। उसने तत्काल पुलिस को सूचना दी। एसपी संजीव त्यागी, एसपी सिटी लक्ष्मी नारायण मिश्र, एसडीएम संगीता, सीओ प्रवीण कुमार सिंह और थाना प्रभारी संदीप त्यागी ने घटनास्थल पर पहुंचकर टैक्सी को क्रेन से बाहर निकलवाया।

टैक्सी के शीशे टूटे हुए थे और उसमें सवार कोई भी यात्री नहीं मिला। सीओ प्रवीण कुमार सिंह ने बताया कि पीएसी के 15 गोताखोरों की मदद से लापता टैक्सी चालक केशव पुत्र शिवलाल निवासी शिवपुरी देहरादून, पौड़ी गढ़वाल के शिवाल दमदेवल गांव निवासी सचिन पुत्र कमल सिंह, प्रभात पुत्र विनोद और अजय पुत्र ओमप्रकाश की तलाश की जा रही है। 
... और पढ़ें

राशन की ई-पोस वितरण पद्वति से खुश, लेकिन मिलने वाले कम कमीशन से नाराज: प्रह्लाद दामोदर दास मोदी

धामपुर(बिजनौर)। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदर दास मोदी के छोटे भाई प्रह्लाद दामोदर दास मोदी ने कहा है कि उनके बड़े भाई देश के प्रधानमंत्री हैं। उन्होंने देश के लिए कई महत्वपूर्ण कार्य किए हैं और अग्रसर भी हैं। उन्होंने कहा कि वह एक राशन कोटेदार हैं। राशन कोटेदार होने के नाते से उनका कहना है कि सरकार ने राशन की कालाबाजारी को रोकने के लिए जो ई-पॉश वितरण पद्धति को लागू किया है, जो अच्छा प्रयास है, लेकिन सरकार की ओर से जो डीलर को कमीशन मिल रहा है, उससे नाराज हूं।
प्रह्लाद दामोदर दास मोदी धामपुर में दुर्गा विहार कालोनी में कुंवर निहाल सिंह के आवास पर रविवार शाम प्रेसवार्ता कर रहे थे। प्रह्लाद मोदी ने कहा कि भाई नरेंद्र दामोदर दास मोदी देश की जनता की आकांक्षाओं के अनुरूप में बखूबी काम कर रहे हैं। कहा कि वह राज नेता नहीं हैं, वह कोटेदार हैं। उन्हें केवल यह मालूम है कि कोटेदार को एक माह में कितना कमीशन मिल रहा है, जो काफी कम है। कहा कि धामपुर निवासी कुंवर निहाल सिंह के निमंत्रण पर यहां आने का सौभाग्य मिला है। बताया गया कि श्रीराम कथा समिति की ओर से 24 से 30 नवंबर तक चलने वाली रामकथा कार्यक्रम का आयोजन होना है। रामकथा से पहले 18 नवंबर को धर्म ध्वज यात्रा और भूमि पूजन कार्यक्रम है। इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए उन्हें अवसर मिला है। वार्ता में कुंवर निहाल सिंह, कुंवर अशोक राजपूत, कुंवर आशीष राजपुत, कुंवर अनिल राजपूत रहे।
... और पढ़ें
धामपुर  में दुर्गा विहार कालोनी में पत्रकारों से वार्ता करते प्रधानमंत्री के भाई प्रहलाद दामोदर धामपुर में दुर्गा विहार कालोनी में पत्रकारों से वार्ता करते प्रधानमंत्री के भाई प्रहलाद दामोदर

जैन मुनि सौरभ महाराज के प्रवचन सुनने को उमड़े श्रद्धालु

भय मनुष्य को लक्ष्य से भटकाता है : सौरभ महाराज
नजीबाबाद। जैन मुनि श्री 108 सौरभ सागर महाराज ने कहा कि मनुष्य में विश्वास की कमी है और वह संशय में जी रहा है। जहां संशय पैदा हो जाता है, वहां भय का जन्म होता है। भय मनुष्य को उसके लक्ष्य से भटकता है।
मूर्ति देवी कन्या इंटर कालेज में जैन मुनि श्री सौरभ सागर ने प्रवचन देते हुए कहा कि जैन दर्शन में मोक्ष मार्ग के लिए सम्यक दर्शन, सम्यक ज्ञान व सम्यक चारिर्थ का होना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि धर्म का कार्य करने में भी मंगल व अमंगल देखते हैं, पाप और पुण्य देखते हैं, जबकि वर्जित कार्यों को करने में इनका विचार नहीं करते। जबकि धर्म का कार्य करने में किसी भी समय अमंगल का भाव नहीं होता। प्रधान दीपक जैन, मंत्री नीरज जैन, दीपक जैन, अजय जैन, पुनीत जैन, ज्ञानचंद जैन, संदीप जैन, नीरज जैन एयरटेल, संजय जैन, आशीष जैन, कविता जैन, राजीव जैन, जिनेश्वरदास जैन, पारसनाथ जैन, अनूप जैन, संतोष जैन, छवि जैन ने जैन मुनि से प्रश्न पूछकर शंकाओं का निवारण किया।
इस अवसर पर अरनव जैन, वंदना जैन, कुमकुम जैन, सिद्धार्थ जैन, रश्मि जैन, विनोद जैन, मनोज जैन, अमित जैन होरी, सुमित जैन, अवधेश जैन, सुषमा जैन, साधना जैन, शिक्षिका सुषमा जैन, शीतल प्रसाद जैन, जितेन्द्र जैन, मनीष जैन आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

कलि तारण गुरु नानक आया..

कलि तारण गुरु नानक आया...
नांगलसोती। गुरु नानक देव जी के 550 वें प्रकाशोत्सव पर पंज प्यारों की अगुवाई में वाहे गुरु वाहे गुरु के उद्घोष के साथ नगर-कीर्तन निकाला गया। रागी जत्थे के कलि तारण गुरु नानक आया...के शबद-कीर्तन संगत निहाल हुई। नगर-कीर्तन में गदका खिलाड़ियों ने हैरतअंगेज करतब दिखाकर हैरत में डाल दिया।
गुरु नानक देव जी के प्रकाशोत्सव पर गुरु सिंह सभा तिसोतरा कमेटी के अध्यक्ष बाबूराम, कोषाध्यक्ष बाबूराम भारती, महामंत्री जितेंद्र सिंह की देखरेख में नगर-कीर्तन निकाला गया। मुख्य ग्रंथि सरदार बलजोर ने अरदास के साथ दीवान सजाए और हुकमनामा लिया। पंज प्यारों की अगुवाई के साथ जो बोल सो निहाल सत श्री अकाल के जयघोष के साथ नगर-कीर्तन का सिख संगत ने स्वागत किया। रोगी जत्थे के अरविंद सिंह व कुलदीप सिंह के सत गुरु नानक परगटेया, मिटी धुुंध जग चानन होया...के शबद-कीर्तन से संगत निहाल हुई। नगर-कीर्तन में आई गजरौला, कनकपुर, पानाहीमपुर, नजीबाबाद, हरचंदपुर, गौसपुर, मोहनपुर, चमरिया, समीपुर, अहीरपुरा, परमावाला आदि गांव की सिख संगत की मौजूदगी में गदका पार्टी उस्ताद बंदा सिंह बहादुर के निर्देशन में खिलाड़ियों ने हैरतअंगेज करतब दिखाकर सभी को हैरत में डाल दिया। नगर के मुख्य मार्ग से निकले नगर-कीर्तन का सिख संगत ने कई स्थानों पर पुष्प वर्षा के साथ स्वागत किया। इससे पूर्व कथा वाचक सतवंत सिंह, कमल सिंह ने गुरु ग्रंथ साहिब का पाठ से संगत को निहाल किया। राजेश सिंह, सरदार बुद्ध सिंह, अविनाश, पिंटू, अग्नि सिंह, चंचल आदि ने नगर-कीर्तन के समापन पर लंगर बरताया।
नजीबाबाद- गांव तिसोतरा में पंज प्यारों की अगुवाई में नगर-कीर्तन निकालती सिख संगत।
नजीबाबाद- गांव तिसोतरा में पंज प्यारों की अगुवाई में नगर-कीर्तन निकालती सिख संगत।- फोटो : NAZIBABAD
नजीबाबाद- गांव तिसोतरा में नगर-कीर्तन के दौरान जौहर दिखाते खिलाड़ी।
नजीबाबाद- गांव तिसोतरा में नगर-कीर्तन के दौरान जौहर दिखाते खिलाड़ी।- फोटो : NAZIBABAD
... और पढ़ें

युवक विद्युत एचटी लाइन की चपेट में आने से झुलसा

हल्दौर। गांव महमदाबाद में बरात की चलती हुई बस की छत पर बैठा एक युवक विद्युत एचटी लाइन की चपेट में आकर बुरी तरह झुलस गया। बस में सवार बरातियों को करंट के झटके लगे। बामुश्किल चालक ने बस को काबू किया। झुलसे युवक को उपचार के लिए बिजनौर भिजवाया गया।
गांव महमदाबाद निवासी मुख्तार अहमद की पुत्री की एक दिन पूर्व शादी थी। बारात गांव सल्लाहपुर से बस से दुल्हन के गांव को रवाना हुई। ग्रामवासियों के अनुसार बस बरातियों से खचाखच भरी थी। कुछ बाराती बस की छत पर बैठे थे। जमालपुर-महमदाबाद मार्ग पर हाईटेंशन लाइन नीचे होकर गुजर रही है। ग्रामवासियों ने उक्त लाइन को व्यवस्थित कराने के लिए कई बार इसकी शिकायत विभागीय अफसरों से की। दोपहर करीब 12 बजे बरातियों से भरी बस विद्युत लाइन के नीचे से होकर गुजर रही थी। इसी दौरान बस की छत पर बैठा गांव सल्लाहपुर निवासी शादमान अहमद लाइन में करंट की चपेट में आकर बुरी तरह झुलस गया। युवक बस की छत पर आगे की ओर बैठा था जबकि अन्य कुछ युवक बस की छत के पिछले हिस्से पर बैठे हुए थे। बस धीमी गति से चल रही थी। अन्य युवकों ने चलती बस की छत से कूदकर जान बचाई। उनमें कुछ बरातियों को भी मामूली चोटें आई। बस में सवार बरातियों को करंट के मामूली झटके लगे, इससे उनमें चीख पुकार मच गई। चालक ने बस को बामुश्किल काबू किया। शोर सुनकर मौके पर लोगों की भीड़ जमा हो गई। झुलसे युवक को बिजनौर के एक निजी चिकित्सक के यहां भिजवाया। ग्रामवासियों ने पैजनियां बिजलीघर पर फोन कर विद्युत आपूर्ति बंद कराई।
इस घटना से निकाह की रस्म भी कुछ समय के लिए प्रभावित हुई। ग्राम प्रधान नासिर अहमद व कुछ ग्रामवासियों ने विद्युत विभाग के अधिकारियों से मार्ग के ऊपर से गुजर रही एचटी लाइन की ऊंचाई बढ़ाए जाने की मांग की है।
... और पढ़ें

नेशनल हाईवे पर पलटा गन्ने से भरा ट्रैक्टर-ट्रॉला

हाईवे पर गन्ना लदी ट्रैक्टर-ट्रॉली पलटी
मंडावली। नजीबाबाद-हरिद्वार नेशनल हाईवे पर गन्ने से लदी ट्रैक्टर-ट्रॉली अनियंत्रित होकर पलट गई।
चीनी मिलों का पेराई सत्र शुरू होते ही कामगारपुर व भागूवाला सहित अनेक गन्ना सेंटरों से ट्रक व ट्रैक्टर-ट्रॉली गन्ने की आपूर्ति करते हैं। खस्ताहाल मार्ग पर ओवरलोड गन्ना वाहन अक्सर अनियंत्रित होकर पलट जाते हैं। रविवार को नजीबाबाद-हरिद्वार नेशनल हाईवे पर करीब एक बजे मोहनपुर के सामने गन्ने से भरा ओवरलोड ट्रैक्टर-ट्रॉली पलट गई। जिस समय ट्रैक्टर-ट्राली पलटी उस समय साइड से कोई वाहन नहीं गुजर रहा था वरना बड़ा हादसा हो सकता था। क्षेत्रीय ग्रामीणों मोहित कुमार, सुरेंद्र सिंह, लाखन, मुनेश, संतोष, सुरेश, ब्रह्मपाल सिंह का कहना है कि चीनी मिलों के पेराई सत्र शुरू होते ही गन्ना सेंटरों से गन्ना वाहन चंद पैसों के लालच में ओवरलोड करते हैं। खस्ताहाल मार्ग पर अक्सर गड्ढों के कारण अनियंत्रित होकर ओवरलोड वाहन पलट जाते हैं। कभी-कभी ओवरलोड वाहन बड़े हादसे का सबब बन जाते हैं। उन्होंने प्रशासन से ओवरलोड वाहनों पर अंकुश लगाने की मांग की है।
... और पढ़ें

हाईवे पर भी चलना जोखिम से कम नहीं

हाईवे पर भी चलना जोखिम से कम नहीं
नजीबाबाद। नजीबाबाद-हरिद्वार नेशनल हाईवे के गड्ढे यात्री और राहगीरों के लिए परेशानी का सबब बने हैं। दुपहिया वाहन अक्सर गड्ढों से अनियंत्रित होकर दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं।
नगर से होकर गुजरने वाला नजीबाबाद-हरिद्वार नेशनल हाईवे तीर्थनगरी हरिद्वार को जोड़ता है। नेशनल हाईवे से प्रतिदिन बड़ी संख्या में श्रद्धालु सहित यात्री सफर करते हैं। हाईवे पर जगह-जगह बने गहरे गड्ढे यात्रियों के लिए मुसीबत बने हैं। छोटे-बड़े वाहन चालक मोटाआम तिराहा, मालन नदी पुल क्षेत्र, अदब सिटी, बिजौरी तिराहा, रतनाल नदी पुल क्षेत्र, राहतपुर खुर्द, मंडावली, कांठपुर के सामने और भागूवाला में नेशनल हाईवे पर बने गड्ढों से जोखिम भरा सफर तय कर रहे हैं। दुपहिया वाहन तो अक्सर खस्ताहाल गड्ढों में फंसकर दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं। नागरिकों मुकेश शर्मा, अबरार, दिनेश शर्मा, मुस्तकीम, नईम सिद्दीकी, कपिल आदि का कहना है कि एनएच कर्मचारियों की उदासीनता से नेशनल हाईवे को अभी तक गड्ढायुक्त नहीं किया जा सका है। बरसात के बाद हालांकि नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने गड्ढों की फिलिंग तो कराई लेकिन छोटे गड्ढों को छोड़ दिया। वाहनों के आवागमन से छोटे गड्ढे बड़े खस्ताहाल में तब्दील हो गए, जिससे यात्रियों और राहगीरों को परेशानी उठानी पड़ रही है। नांगलसोती में नांगल-चंदक मार्ग गांव हरचंदपुर में खस्ताहाल है। मार्ग पर गहरे गड्ढे और गड्ढों में जलभराव होने से राहगीरों को परेशानी उठानी पड़ रही है।
उधर, एसडीएम संगीता का कहना है कि खस्ताहाल नजीबाबाद-हरिद्वार नेशनल हाईवे उनके संज्ञान में है। उन्होंने और डीएम रमाकांत पांडेय ने खस्ताहाल नेशनल हाईवे की स्थिति से उच्च अधिकारियों को अवगत कराया है। जल्द ही नेशनल हाईवे को गड्ढामुक्त किया जाएगा।
... और पढ़ें

बाइक सवार तीन व्यक्ति घायल

कोतवाली देहात। कोतवाली-बिजनौर मार्ग पर दो अलग-अलग सड़क दुर्घटनाओं में बाइक सवार तीन व्यक्ति घायल हो गए। घायलों को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां से सभी की हालत चिंताजनक देखते हुए जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया।
कोतवाली शहर बिजनौर के मोहल्ला मेरठ चुंगी निवासी संजय कुमार (35) व मोहल्ला कस्बाबान निवासी सोनू कुमार (25) बाइक से नगीना से बिजनौर जा रहे थे। गांव शादीपुर के पास कार और उनकी बाइक में भिड़ंत हो गई। टक्कर में बाइक पर सवार दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को पीएचसी लाया गया। उधर कोतवाली शहर बिजनौर क्षेत्र के नया गांव निवासी अंकुश कुमार (20) बाइक से घर जा रहा था। गांव में महेश्वरी जट के पास उसकी बाइक और दूसरी बाइक से टक्कर हो गई। इससे अंकुश कुमार घायल हो गया। घायल को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। दोनों सड़क दुर्घटनाओं में घायल तीनों बाइक सवार को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया।
... और पढ़ें

रॉ शुगर बनाने से हाथ खड़े कर रही बिजनौर चीनी मिल

रॉ शुगर बनाने से हाथ खड़े कर रही बिजनौर चीनी मिल
बिजनौर। वेव ग्रुप की बिजनौर चीनी मिल ने इस साल रॉ शुगर बनाने से तौबा कर ली है। केंद्र सरकार के पास मिल की सब्सिडी का पैसा रुका होने से मिल का भुगतान अब तक नहीं हो सका है। सब्सिडी के लिए मिल द्वारा शासन को कई बार पत्र भी लिखे जा चुके हैं। मिल ने अब रॉ शुगर नहीं बनाने का निर्णय लिया है।
स्थानीय बाजार में चीनी की आवक को कम करने के लिए तमाम प्रयास किए जा रहे हैं। बाजार में चीनी कम होने से इसके मूल्यों में सुधार आता है। पिछले साल जिले की चीनी मिलों से रॉ शुगर बनवाई गई थी। मिलों ने करीब नौ लाख क्विंटल रॉ शुगर बनाई थी। यह चीनी विदेश सप्लाई की गई थी। बिजनौर चीनी मिल ने भी करीब चार लाख क्विंटल चीनी बनाई थी। यह चीनी विदेशों को करीब 2200 रुपये प्रति क्विंटल मूल्य पर सप्लाई की गई थी। प्रति क्विंटल चीनी पर केंद्र सरकार द्वारा 1100 रुपये की सब्सिडी दी जानी थी। लेकिन बिजनौर चीनी मिल को अब तक सब्सिडी नहीं मिली है। 1100 रुपये प्रति क्विंटल की दर से मिल की करीब 30 करोड़ की सब्सिडी शासन से मिलनी है। सब्सिडी न मिलने से किसानों का भुगतान अटका है। ग्रुप की ओर से कई बार भुगतान के लिए शासन को पत्र लिखा जा चुका है। हालांकि मिल के अफसर अब एक दो दिन में ही सब्सिडी मिलने की बात कह रहे हैं।
------
सामान्य चीनी बेचना आसान
अगर रॉ शुगर बनाने के बजाए मिल सामान्य चीनी ही बनाए तो उसे बेचना आसान है। अगर चीनी कोटा निर्धारित होने की वजह से न भी बिके तो उसे बैंकों के पास बंधक बनाया जा सकता है। इससे मिलने वाली रकम से किसानों का भुगतान जल्दी किया जा सकता है।
------
फाइल लेट होने से अटकी सब्सिडी
गन्ना विभाग के अफसरों का कहना है कि बिजनौर मिल को सब्सिडी न मिलने में मिल के अफसरों की ही गलती है। मिल ने सब्सिडी लेने के लिए बहुत देर से अपनी फाइल शासन को भेजी थी। रॉ शुगर बनाने वाली बाकी चीनी मिलों को सब्सिडी दी जा चुकी है।
----------
अभी नहीं रॉ शुगर बनाने का इरादा
मिल के जीएम इसरार अहमद के अनुसार मिल अभी रॉ शुगर बनाने का कोई इरादा नहीं है। रॉ शुगर की सब्सिडी न अटकी होती तो भुगतान काफी पहले कर दिया गया होता।
... और पढ़ें

पैदल चलने लायक भी नहीं रहीं सड़कें

पैदल चलने लायक भी नहीं रहीं सड़कें
नहटौर। आंकू मुस्सेपुर पाली लिंक मार्ग गड्ढों में तब्दील होने के बाद भी कोई सुध लेने वाला नहीं है। पांच वर्ष पूर्व बने इस मार्ग पर गड्ढा मुक्त करने का कार्य भी नहीं कराया गया। इससे मार्ग पर चलना दूभर हो गया हैं। किसान सबसे अधिक परेशान हैं। आए दिन किसानों के गन्ने से भरे वाहन पलट जाते हैं। हर दिन सड़क हादसे में किसी न किसी की जान जा रही है। सड़कें गड्ढे में तब्दील होेने के कारण खूनी हो गई हैं। पैदल चलने में भी डर लगने लगा है।
ग्रामीण पूर्व प्रधान शकील अहमद, सुरेंद्र सिंह, कमल कुमार, सोमवीर सिंह, ओमकार चौधरी, संजय कुमार, राम सिंह आदि ने बताया कि आंकू से मुस्सेपुर पाली करीब चार किमी लिंक मार्ग पांच वर्ष पूर्व बनाया गया था। इससे मुस्सेपुर, पाली, जसमौरा, नसीरपुर, कलाली, मिर्जापुर, मुनीमपुर, बुढ़पुर, भटियाना आदि करीब एक दर्जन गांव जुड़े हुए हैं। मार्ग पूरी तरह से गड्ढों में तब्दील हो चुका है। गड्ढों को भरने के लिए भी कोई कार्य नहीं कराया गया। इससे हालत और खराब हो गए हैं। सड़क पर चलना दूभर हो गया है। गांव मुस्सेपुर पाली, बुढ़पुर, मिर्जापुर में शुगर मिल के गन्ना क्रय केंद्र हैं, जिनसे गन्ना ढुलाई में भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मार्ग में गड्ढे होने से आए दिन किसानों के गन्ने से भरे वाहन पलट जाते हैं। कई बार मार्ग को बनवाने की मांग ग्रामीण कर चुके हैं, लेकिन आज तक निर्माण तो दूर गड्ढा मुक्त तक नहीं कराया गया। सरकार के 15 नवंबर तक सभी सड़कों को गड्ढा मुक्त करने के आदेश का कोई असर नहीं हुआ। ग्रामीणों का कहना है कि क्षतिग्रस्त सड़क के बारे में मुख्यमंत्री को शिकायती पत्र भेजकर अवगत कराया जाएगा। भाकियू के ब्लॉक अध्यक्ष संजीव चौधरी का कहना है कि गांवों के लिंक मार्ग बदहाल हैं। इसके लिए भाकियू जल्द ही अभियान चलाकर आवाज उठाएगी।
बहुत खराब स्थिति में है नगीना-बढ़ापुर मार्ग
बढ़ापुर। बढ़ापुर कस्बे व क्षेत्र को जिला मुख्यालय से जोड़ने वाले बढ़ापुर-नगीना मार्ग के बेहद क्षतिग्रस्त होने पर वाहनों का इस मार्ग पर चलना जोखिम भरा हो गया है। क्षेत्रवासियों ने लोनिवि व प्रशासन से इस जर्जर मार्ग के पुनर्निर्माण की मांग की है।
बढ़ापुर कस्बे व क्षेत्र को जिला मुख्यालय से जोड़ने वाले बढ़ापुर-नगीना मार्ग की दशा पिछले कई वर्षों से बड़ी दयनीय चल रही है। अब यह मार्ग इतनी बदहाली में पहुंच गया है कि मार्ग पर वाहनों का चलना दूभर बन गया है। मार्ग पर जहां तहां बन पड़े गड्ढे दुर्घटनाओं को बढ़ावा दे रहे हैं। कस्बे के लोगों द्वारा मार्ग की बदहाली व मार्ग के नवनिर्माण की मांग को लेकर समाधान दिवस व संबंधित विभाग से शिकायतें की जाती रही है, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही। बढ़ापुर क्षेत्र बुंदकी चीनी मिल का सर्वाधिक गन्ना उत्पादक क्षेत्र होने पर क्षेत्र में स्थित मिल के दर्जनों गन्ना क्रय केंद्रों से गन्ना ढुलान में मार्ग की बदहाली की दिक्कतें आने पर लोनिवि फिलहाल मार्ग पर बने गड्ढों पर पैबंद लगाकर मार्ग को दुरुस्त करने की जुगत में लगा है। इस मार्ग पर बढ़ापुर से नगीना तक संचालित निजी बसों व दिल्ली जाने वाली परिवहन की निर्धारित समय की कुछ बसों का संचालन होता है। इस जर्जर मार्ग पर वाहनों का चलना दूभर बन गया है। इस संबंध में लोनिवि नजीबाबाद के सहायक अभियंता चंद्रशेखर का कहना है कि मार्ग पर मरम्मत का कार्य चलाया जा रहा है। आगामी मार्च से इस मार्ग के नवीनीकरण का कार्य भी प्रारंभ होना संभावित है।
... और पढ़ें

कर्ज और मुफलिसी ने तोड़ दिया था रणवीर को

कर्ज और मुफलिसी ने तोड़ दिया तो लगा लिया मौत को गले
बिजनौर। किसान रणवीर सिंह (38) कर्ज में डूबा हुआ था। मुफलिसी ने उसे तोड़ दिया था। बैंक कर्मचारियों ने कर्ज वसूली के लिए घर पर आना शुरू कर दिया था। रणवीर के आगे कर्ज चुकाने का कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा था। कर्ज न चुका पाने की वजह से रणवीर सिंह काफी समय से तनाव में था।
गांव वालों के अनुसार रणवीर के पास केवल तीन बीघा जमीन थी। उसी में वह अपने परिवार की गुजर बसर करता था। गांववालों के अनुसार जमीन तो थी लेकिन उससे गुजारे लायक कमाई नहीं होती थी। तीन बच्चों के खर्च का बोझ वह जमीन से हो रही फसल से नहीं उठा पाता था। अपनी जमीन के काम में लगने के कारण रणवीर कहीं और मजदूरी भी नहीं कर पाता था। उसने कुछ समय पहले जलीलपुर की पीएनबी शाखा से 40 हजार रुपये का कर्ज लिया था। कर्ज चुकाने में वह नाकाम रहा। अब बैंक वालों ने घर पर तकादा करने के लिए आना शुरू कर दिया था। गांव वालों के अनुसार बैंक कर्मचारी उसकी आरसी कटने की चेतावनी दे रहे थे। वे उस पर समय से रुपये जमा करने के लिए कह रहे थे। अगर रणवीर की आरसी कट जाती तो उसे कर्ज से भी दस प्रतिशत तक ज्यादा रुपये देना होता। रणवीर पहले से ही बढ़े कर्ज और आरसी कटने के डर से बहुत तनाव में रहने लगा था। उसने अपने रिश्तेदारों से मदद की गुहार भी की, लेकिन किसी ने उसकी मदद नहीं की। रणवीर सिंह को कर्ज जमा करने के लिए रुपयों का इंतजाम करने का कोई रास्ता नजर नहीं आया तो उसने मौत को गले लगा लिया।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election