चार वर्षों में भी कन्याएं उपहार से वंचित

Bijnor Updated Mon, 22 Oct 2012 12:00 PM IST
नजीबाबाद। दुर्गा अष्टमी पर सोमवार को घर-घर कन्या पूजन होगा। देवी के भक्तगण कन्याओं को उपहार भी देंगे, लेकिन मगर भारत सरकार द्वारा नजीबाबाद परिक्षेत्र की कन्याओं को दिया गया उपहार चार वर्ष बाद भी नहीं मिल सका है। दरअसल क्षेत्र में 72 लाख रुपये की लागत के दो कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालयों का निर्माण अधर में लटका है।
हरिद्वार मार्ग पर ग्राम राहतपुर और बड़िया में क्रमश: नगर और ग्रामीण क्षेत्र की स्कूल छोड़ चुकी लड़कियों की शिक्षा के लिए कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय निर्माणाधीन हैं। भवनों का निर्माण कार्य लगभग चार वर्षों से लटका है। 36-36 लाख रुपये की लागत से बनने वाले दोनों भवन अब खंडहर में तब्दील होने के साथ साथ असामाजिक तत्वों के अड्डे बनते जा रहे हैं। उधर, योजना के तहत पंजीकरण कराने वाली लड़कियां जीआईसी के पश्चिमी प्रखंड में खस्ताहाल भवनों में रहकर पढ़ने को मजबूर हैं। राज्य परियोजना कार्यालय संबंधित निर्माण एजेंसी को नोटिस भी जारी कर चुका है और रिकवरी की चेतावनी दी जा चुकी है। इसके बावजूद अब तक भवन निर्माण की प्रक्रिया शुरू नहीं हो सकी है। स्थानीय प्रशासन ने भी चुप्पी साध रखी है।

सूरत ए हाल
जीआईसी परिसर में संचालित नगर व ग्रामीण क्षेत्र के कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालयों में 100-100 कन्याएं पढ़ती हैं तथा यहीं रात्रि निवास करती हैं। सभी कन्याएं कई चुनौतियों से जूझ रही हैं, लेकिन इन कन्याओं की सुध लेने वाला कोई नहीं।

Spotlight

Related Videos

VIDEO: बिजनौर में दिखा पुलिस की नाकामी का सबसे बड़ा सबूत

यूपी के बिजनौर में एक लाख के इनामी बदमाश आदित्य और उसके एक साथी ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। कोर्ट ने दोनों को बिजनौर जेल भेज दिया है। कुख्यात आदित्य और उसके साथी ने लॉडी मर्डर केस में सरेंडर किया है।

11 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper