नए आदेशों ने किया चकरघिन्नी

Bijnor Updated Mon, 01 Oct 2012 12:00 PM IST
नजीबाबाद। मान्यता प्राप्त प्राइमरी एवं जूनियर स्कूलों में छात्रवृत्ति के नए शासनादेश से परिषदीय विद्यालय के मुख्य अध्यापक एवं मान्यता प्राप्त स्कूलों के संचालक असमंजस में हैं। मान्यता प्राप्त स्कूलों की छात्रवृत्ति परिषदीय स्कूलों के खातों में भेजी जाएगी।
वर्तमान शिक्षा सत्र में मान्यता प्राप्त प्राइमरी स्कूलों की छात्रवृत्ति अब सीधे उनके खातों में नहीं पहुंचेंगी। जिला समाज कल्याण विभाग ने खंड शिक्षाधिकारियों को छात्रवृत्ति वितरण के निर्देश भेजे हैं। नए शासनादेश के अनुसार मान्यता प्राप्त प्राइमरी एवं जूनियर स्कूलों की छात्रवृत्ति उनके वार्ड/क्षेत्र में स्थित प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक परिषदीय स्कूलों के खातों में भेजी जाएगी। यदि किसी वार्ड में उच्च प्राथमिक एवं पूर्व माध्यमिक विद्यालय नहीं होंगे तो छात्रवृत्ति निकटतम परिषदीय स्कूलों के खातों में भेजी जाएगी। संबंधित परिषदीय स्कूल के मुख्य अध्यापक मान्यता प्राप्त स्कूलों के लिए छात्रवृत्ति धनराशि उपलब्ध कराएंगे। नए शासनादेश प्राथमिक स्कूलों के मुख्य अध्यापकों के लिए चुनौती बन गए हैं। उधर केंद्र सरकार की प्रीमेट्रिक छात्रवृत्ति के लिए शिक्षा विभाग परिषदीय एवं मान्यता प्राप्त स्कूलों के खाते बैंकों में खुलवा रहा है। बैंकों में काम अधिक होने, खाता खोलने के पर्याप्त फार्म उपलब्ध न होने से अभी तक 20 प्रतिशत छात्रवृत्ति खाते भी नहीं खुल पाए हैं। जबकि छात्रवृत्ति खाते खुलवाने की अंतिम तिथि 30 सितंबर बीत चुकी है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: बिजनौर में दिखा पुलिस की नाकामी का सबसे बड़ा सबूत

यूपी के बिजनौर में एक लाख के इनामी बदमाश आदित्य और उसके एक साथी ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। कोर्ट ने दोनों को बिजनौर जेल भेज दिया है। कुख्यात आदित्य और उसके साथी ने लॉडी मर्डर केस में सरेंडर किया है।

11 जनवरी 2018