पूर्वी गंगा नहर की साइड टूटी

Bijnor Updated Fri, 06 Jul 2012 12:00 PM IST
भागूवाला/नजीबाबाद। पूर्वी गंगा नहर शाखा की साइडें कई जगह से ध्वस्त हो गईं। नहर का पानी घने जंगल से होकर कोटावाली नदी तक पहुंच गया। आनन-फानन में हरिद्वार से नहर में छोड़ा गया पानी बंद कराया गया। आगामी एक माह तक नहर बंद रखे जाने के संकेत मिले हैं। उधर, गांव शहजादपुर व चमरौला के निकट नहर पटरी टूटने से गांव में पानी घुस गया, जिससे ग्रामीणों को आर्थिक क्षति पहुंची।
भागूवाला क्षेत्र में किलोमीटर 26.900 पर पूर्वी गंगा नहर शाखा की साइड तड़के करीब 3 बजे ध्वस्त हो गई। नहर का पानी तेजी से घने आरक्षित जंगल से होकर करीब 500 मीटर के फासले पर कोटावाली नदी में होकर बहने लगा। पानी का बहाव इतना तेज था कि उत्तराखंड से उत्तर प्रदेश को जोड़ने वाला चिड़ियापुर-समीपुर नहर बाईपास मार्ग भी ध्वस्त होकर पानी में बह गया। मार्ग से आवागमन पूरी तरह बंद हो गया। इसके अलावा कई जगहों पर नहर की साइडें क्षतिग्रस्त हो गईं। क्षेत्रीय ग्रामीणों ने नहर की साइड ध्वस्त होने की सूचना सिंचाई विभाग के अधिकारियों को दी। आनन-फानन में हरिद्वार से पूर्वी गंगा नहर में पानी की आपूर्ति बंद कराकर सिंचाई विभाग के एक्सईएन कप्तान सिंह, जेई संजय पटवाल, एई पीके अग्रवाल मौके पर पहुंच गए।
ध्वस्त नहर शाखा क्षेत्र में पहुंचे सिंचाई खंड हरिद्वार के अधिशासी अभियंता अमित सक्सेना ने बताया कि पानी बंद कराने के साथ रवासन नदी पर बने क्रॉस रेगुलेटर से पानी को रवासन नदी में छोड़ा गया, ताकि बिना किसी क्षति के स्थिति से निपटा जा सके। सिंचाई विभाग के अभियंता कई अन्य जगहों से नहर साइड के ध्वस्त होने से अनभिज्ञ रहे। नहर में पानी ओवरफ्लो होने से कई जगहों पर साइडों से पानी क्षेत्र में फैल गया। बुधवार रात चंदक नहर शाखा गांव शहजादपुर एवं चमरौला के समीप टूट गई। शहजादपुर निवासी वाहिद व सोमवीर के घर में पानी घुस गया। किसानों घनश्याम सिंह, राजकुमार, गिरवर, चतर सिंह, दयाराम सिंह, गंगू, राम सिंह आदि किसानों की कई बीघा फसल नहर के पानी में डूब गई। ग्रामीणों व किसानों को भारी आर्थिक क्षति हुई है।
नहर बंद था दो दिन से
नजीबाबाद। पूर्वी गंगा नहर पर स्थित चंदक हैड के गेट बंद होने से नहर में पानी आगे नहीं बढ़ सका और नहर टूटने से पानी ने तबाही मचाई। दरअसल पूर्वी गंगा नहर में पानी दो दिन से बंद था। कर्मचारी चंदक हैड के गेटों को बंद कर घर चले गए। मगर सिंचाई विभाग के अधिकारी घटना का ठीकरा क्षेत्रीय लोगों के सिर फोड़ रहे हैं। विभागीय कर्मचारियों के ब्यान दर्ज करने के बाद एक्सईएन नजीबाबाद व हरिद्वार ने बताया कि चंदक हेड के गेट क्षेत्रीय किसानों ने बंद किए।
मुरादाबाद और जेपीनगर तक नहीं हो सकेगी आपूर्ति
नजीबाबाद। क्षतिग्रस्त नहर की मरम्मत में कम से कम एक माह लगने का अनुमान है। तब तक नहर में पानी छोड़ा जाना संभव नहीं होगा। नहर में पानी न आने से जिला बिजनौर के अलावा मुरादाबाद एवं जेपीनगर तक पूर्वी गंगा नहर से पानी की आपूर्ति नहीं हो सकेगी।
कृषि क्षेत्र में नहीं टूटी नहर की साइड
नजीबाबाद। संयोग से आबादी एवं कृषि क्षेत्र में नहर की साइड नहीं टूटी। वर्ना पूर्वी गंगा नहर भारी तबाही मचा सकती थी। यह भी संयोग रहा कि महज 500 मीटर के फासले पर कोटावाली नदी थी। जिसमें नहर की साइड टूटने के बाद घंटों चला पानी समा गया।

Spotlight

Most Read

National

पुरुष के वेश में करती थी लूटपाट, गिरफ्तारी के बाद सुलझे नौ मामले

महिला लड़कों के ड्रेस में लूटपाट को अंजाम देती थी। अपने चेहरे को ढंकने के लिए वह मुंह पर कपड़ा बांधती थी और फिर गॉगल्स लगा लेती थी।

20 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: बिजनौर में दिखा पुलिस की नाकामी का सबसे बड़ा सबूत

यूपी के बिजनौर में एक लाख के इनामी बदमाश आदित्य और उसके एक साथी ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। कोर्ट ने दोनों को बिजनौर जेल भेज दिया है। कुख्यात आदित्य और उसके साथी ने लॉडी मर्डर केस में सरेंडर किया है।

11 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper