‘सियासी’ दुर्ग ध्वस्त की तैयारी

Bijnor Updated Tue, 03 Jul 2012 12:00 PM IST
बिजनौर। जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी छिनने के बाद अब सत्ता की हनक में एकाएक ब्लाक प्रमुखों की कुर्सी भी हिलने लगी है। कुर्सी के लिए ‘महाभारत’ में अविश्वास प्रस्ताव का तीर इस बार गैस एजेंसी मालिक सुबोध शर्मा के अपहरण में जेल में बंद पूर्व विधायक अशोक राणा के भांजे व अल्हैपुर विकास खंड के ब्लाक प्रमुख उदित नारायण सिंह पर चला है। सोमवार को उदित नारायण के खिलाफ ब्लाक के 108 में से 79 बीडीसी ने एडीएम को अविश्वास प्रस्ताव सौंपा, जिसमें विकास ब्लाक प्रमुख पर विकास कार्य नहीं कराने व पद का दुरुपयोग करने समेत कई आरोप लगे हैं।
प्रदेश की सत्ता बदलने के बाद से ही ब्लॉक प्रमुख की कुर्सी पर सपाइयों की नजर गढ़ी थी। इसके लिए पहले से ही ब्लॉक प्रमुख के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने के लिए तानाबाना बुना जाने लगा था, बीडीसी की बगावत रविवार को अविश्वास प्रस्ताव के रूप में बदल गई। करीब 79 बीडीसी कलक्ट्रेट पहुंचे और एडीएम वित्त एवं राजस्व रणविजय सिंह को अविश्वास प्रस्ताव सौंपा, जिसमें ब्लॉक प्रमुख पर बीडीसी की मीटिंग नहीं बुलाने, विकास कार्यों के प्रति लापरवाही बरतने, क्षेत्र पंचायत सदस्यों के साथ अभद्र व्यवहार करने समेत कई आरोप लगाए गए हैं। एडीएम का कहना है कि 79 सदस्यों ने उन्हें अल्हैपुर ब्लाक प्रमुख के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव सौंपा है।
इन्होंने ने सौंपा अविश्वास प्रस्ताव
बलजीत सिंह, बजीर, राजपाल सिंह, ओमप्रकाश,पवन कुमार, अवधेश कुमार, हीरो देवी, अनीता देवी, देवेंद्र सिंह, कम्मू सिंह, बानो खातून, मंजू रानी, चित्रा रानी, दिग्विजय सिंह, भीष्म सिंह, राजकुमार, नवाब, ओमवती, सुनीता, रवि, अशोक, महिपाल, बबली, सतेंद्र, अरविंद, मुकेश, जयवती, गजेंद्र सिंह, हेमलता, शमशाद, पवन, भूप सिंह, ममता, अतीक, रामपाल सिंह, शबीला खातून, गजराज, वकीला, सुमन, उषा, संतरेश, नरेंद्र, वकील, राजेश, छोटे, कमल, रामलाल, धन्नाद, सुरेश चंद्र, प्रेम, पवन, खेम सिंह, चेतन, सुशीललता, राजकुमार, दिनेश, बिंटू, शैलेष, श्याम सिंह, डालचंद, किरन, गजेंद्र, अनूप, सर्वेश, रामसिंह,शशि, शुभलता, मालती चौहान, अर्जुन, चरन, बाबूराम, हेमलता, शहनाज, रतन, उमेश, गीता, दुलारी, इस्लामुद्दीन।
विपक्ष का मौसी के हाथ
बिजनौर। सत्ता पक्ष के नेताओं ने पूर्व विधायक अशोक राणा व उनके भांजे ब्लॉक प्रमुख उदित नारायण सिंह के सियासी दुर्ग को ध्वस्त करने की तैयारी कर ली है। खास बात यह है कि ब्लॉक प्रमुख की कुर्सी के लिए चल रहे घमासान में विपक्ष की बागडोर पूर्व विधायक अशोक राणा की मौसी मालती चौहान को सौंपी गई है।
प्रदेश में सत्ता परिवर्तन होने के बाद से ही अशोक राणा व उनके भांजे उदित नारायण सिंह की घेरेबंदी शुरू कर दी गई थी। गैस एजेंसी सुबोध शर्मा के अपहरण प्रकरण में पूर्व विधायक अशोक राणा व उनके भांजे उदित नारायण जेल में बंद है। ऐसे में पूर्व विधायक को मात देने का सबसे अच्छा दांव सोचा गया है। रविवार को कलक्ट्रेट में अविश्वास प्रस्ताव पेश करने के दौरान राज्यमंत्री मूलचंद चौहान के पुत्र अमित चौहान भी बीडीसी सदस्यों की अगुवाई करते नजर आए। सूत्रों के मुताबिक बसपा सरकार में तत्कालीन विधायक अशोक राणा ने अपनी मौसी मालती चौहान को ब्लॉक प्रमुख बनाने का वादा किया था, लेकिन बाद में अप्रत्याशित तरीके से अपने भांजे उदित नारायण को ब्लॉक प्रमुख के पद पर निर्विरोध ताजपोशी करा दी थी, जिससे मालती चौहान को झटका लगा था। स्थिति को भांपकर सत्ता पक्ष के नेताओें ने मौसी मालती चौहान को ही विपक्ष की नेत्री बनाया है।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

बवाना कांड पर सियासत शुरू, भाजपा मेयर बोलीं- सीएम केजरीवाल को मांगनी चाहिए माफी

दिल्ली के औद्योगिक इलाके बवाना में शनिवार देर शाम अवैध पटाखा गोदाम में आग लगने से 17 लोगों की मौत के बाद अब इस पर सियासत शुरू हो गई है।

21 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: बिजनौर में दिखा पुलिस की नाकामी का सबसे बड़ा सबूत

यूपी के बिजनौर में एक लाख के इनामी बदमाश आदित्य और उसके एक साथी ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। कोर्ट ने दोनों को बिजनौर जेल भेज दिया है। कुख्यात आदित्य और उसके साथी ने लॉडी मर्डर केस में सरेंडर किया है।

11 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper