भदोही और नईबाजार में बंदी को अभूतपूर्व समर्थन

Bhadohi Updated Fri, 21 Sep 2012 12:00 PM IST
भदोही। रिटेल एफडीआई और महंगाई के विरोध में गुरुवार को विपक्ष के भारत बंद को भदोही और नईबाजार में अच्छा समर्थन मिला। जो कुछ कमी थी उसे सपा कार्यकर्ताओं ने ट्रेनें रोक कर और विद्यालय बंद कर पूरी कर दी। बंद को भारत की कम्युनिस्ट पार्टी मार्क्सवादी, भाजपा, उद्योग व्यापार प्रतिनिधिमंडल और पतंजलि योग समिति का भी समर्थन मिला। आंदोलन से आम आदमी भी जुड़ा हुआ दिखा। दोपहर बाद कुछ क्षेत्रों में दुकानें खुली दिखीं। विपक्षी दलों के नेताओं ने बंद को पूरी तरह सफल बताया।
बंद का असर सुबह से ही दिखा। कटरा बाजार, मेनरोड, चौरी रोड, बंदी का अच्छा नजारा दिखा। इसके अलावा इंदिरा मिल, रजपूरा, नेशनल तिराहे और नईबाजार चौराहे पर दुकानें ठीक ठाक बंद रहीं। समाजवादी पार्टी के नेताओं ने सुबह मोटर साइकिल जुलुस निकाल कर लोगों से बंद में सहयोग मांगा। सपाइयों ने ही विधायक जाहिद बेग और मो.आरिफ सिद्दीकी के नेतृत्व में अलग अलग रेलवे स्टेशन जाकर दो बार ट्रेनों के संचालन में बाधा डालने का प्रयास किया। एक बार पंजाब मेल एक्सप्रेस थी तो दूसरी बार मरुधर एक्सप्रेस को 10-15 मिनट तक ठहरना पड़ा। इसके अलावा भी सपाई दिन भर मोटरसाइकिल जुलूस की शक्ल में सड़कों पर दौड़ते रहे। भाजपा के ओमप्रकाश पांडेय, विनीत बरनवाल, कौशल गुप्ता ने भी दिन भर कड़ी मशक्कत की। बंदी में माकपा, पतंजलि योग समिति, जिला उद्योग व्यापार प्रतिनिधिमंडल का भी सहयोग रहा। माकपा कार्यकर्ताओं ने इंद्रदेव पाल के नेतृत्व में स्टेशन से लेकर मर्यादपट्टी तक जुलूस निकाल कर लोगों को बंदी के लिए प्रेरित किया। बंदी में सपा जिलाध्यक्ष प्रदीप यादव, विधायक जाहिद बेग और मधुबाला पासी, मो.आरिफ सिद्दीकी, हसनैन अंसारी, पन्नालाल यादव, शोभनाथ यादव, नान्हक यादव, जफर अंसारी, अलीशेर खां, साजिद बेग, रिजवान अंसारी, परवेज अंसारी, द्विारिका यादव, दीपू विश्वकर्मा, डा.इफ्तेखार, टोनी मंसूरी, मुन्नालाल यादव, मुख्तार हाशमी, प्रभुवर्मा, सुभाष यादव, रामलाल यादव, असगर शाह, अयुब अंसारी, रमापति यादव, सुरेश यादव, धर्मराज यादव, हरिदास साहू, खालिद सिद्दीकी, जय गुप्ता, इरशाद खां, बबलू खां, नशीर हाशमी, इरफान अंसारी आदि शामिल रहे।

व्यापारियों ने आगे बढ़ कर बंद कराई दुकानें
फोटो-58 नईबाजार में प्रधानमंत्री का पुतला फूंकते व्यापारी।
नईबाजार। नगर में बंदी में कालीन निर्यातकों समेत भाजपा कार्यकर्ताओं का व्यापक जोर रहा। यहां कालीन निर्यातक दिलीप गुप्ता ने घूम घूम कर दुकानें बंद कराईं। उन्होंने लोगों को समझाया कि एक दिन की समस्या से वर्षों की समस्या का निदान हो सकता है। उन्होंने कहा कि एफडीआई से विदेशी कंपनियां आते ही बाजार पर कब्जा कर लेंगी जो यहां के व्यापारियों के लिए घातक सिद्ध होगा। यहां नागरिकों ने प्रधानमंत्री का पुतला फूंक कर अपना विरोध जताया। इस दौरान विनोद तिवारी, सभाजीत सिंह,परमानंद मौर्य, काशीनाथ यादव, विनय उमर, कांता चौरसिया, हीरालाल, सुरेश कुमार, राकेश, लालता सोनकर, विनोद जायसवाल, संतोश, कमल नयन आदि रहे।

सपाइयों ने कई कालेज भी बंद कराए
भदोही। आज के भारत बंद से विद्यालय भी अछूते नहीं रहे। पूर्व पालिकाध्यक्ष मो.आरिफ सिद्दीकी के नेतृत्व में एक दर्जन से अधिक सपा कार्यकर्ता डा.श्यामा प्रसाद मुखर्जी महाविद्यालय, एमए समद कालेज, ज्ञानदेवी बालिका इंटर कालेज, भदोही गर्ल्स इंटर कालेज, पूर्व माध्यमिक विद्यालय और प्राथमिक विद्यालय भदोही में जाकर विद्यालय बंद कराए। इस दौरान लोगों को एफडीआई से होने वाली दिक्कतों तथा केंद्र सरकार की गरीब विरोधी नीतियों की जानकारी दी गई। इसके अलावा जो विद्यालय खुले थे वहां भी उपस्थिति काफी कम रही।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

निर्भया कांड की बरसी के दिन किया था रेप, भदोही से गिरफ्तार

निर्भया काण्ड के दिन दिल्ली के शालीमार बाग में एक नाबालिक लड़की के साथ तीन लोगों ने रेप की वारदात को अंजाम दिया था। दिल्ली पुलिस ने भदोही पुलिस के सहयोग से रेप के मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

4 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper