विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

#9Pm9Minute: दीपों की जगमग रोशनी के साथ एकजुट नजर आए कानपुर सहित आसपास के जिले, देखें तस्वीरें

दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस के संक्रमण से लड़ने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रविवार रात 9 बजे 9 मिनट तक लाइटें बंद करने की अपील का लोगों ने खुले दिल से समर्थन किया।

5 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

भदोही

सोमवार, 6 अप्रैल 2020

जमीन पर रखा ट्रांसफॉर्मर बना खतरा, मवेशी की मौत

ज्ञानपुर/दुर्गागंज (भदोही)। जिले में तमाम स्थानों पर असुरक्षित ढंग से खुले में रखे बिजली के ट्रांसफॉर्मर मौत का सामान बन गए हैं। उनके पास से गुजरने वाले लोग और वाहनों पर खतरा मंडराता रहता है। शुक्रवार को दुर्गागंज में एक गाय जमीन पर रखे ट्रांसफॉर्मर से चिपक गई। इससे उसकी मौत हो गई। कई पालतू और जंगली जानवर पहले भी ऐसी घटना का शिकार हो चुके हैं, लेकिन बिजली विभाग इसको लेकर संजीदा नहीं है।
दुर्गागंज इलाके के मसुधी गांव में स्थित मिश्राइनपुर फीडर में शुक्रवार की सुबह घास चरते समय एक गाय 11 हजार वोल्ट तार की चपेट में आ गई। इससे उसकी कुछ क्षणों में जान चली गई। इसमें बिजली विभाग की लापरवाही सामने आई। बाउंड्रीवाल के अंदर गेट के समीप ही खुले में ट्रांसफार्मर रखा गया है। खास बात यह है कि यहां चबूतरा बना है, लेकिन विभाग को मौका नहीं मिला कि उसे उस पर रख दे। समय रहते ध्यान न दिया गया तो और भी बड़ी घटनाएं हो सकती हैं। मृत गाय गुड्डू दूबे की है। पशुपालक ने बताया कि कुछ दिन पूर्व गाय ने एक बछड़े को जना था। मसुधी ही नहीं भदोही नगर के कई चौराहों, ज्ञानपुर नगर में भी ट्रांसफार्मर जर्जर चबूतरों या जमीन पर ही रखे गए हैं। अधिशासी अभियंता भदोही डिवीजन रामकुमार सिंह ने कहा कि अधिकतर ट्रांसफार्मर सुरक्षित हैं। कुछ स्थानों पर चबूतरा पर रखे गए हैं। मसुधी में चबूतरा बना है। उस पर क्यों नहीं रखा गया इसको दिखवाएंगे।
... और पढ़ें

आईबी और क्राइम ब्रांच के रडार पर कई संदिग्ध

ज्ञानपुर (भदोही)। निजामुद्दीन मरकज की जमात से शिरकत कर लौटे बांग्लादेशी नागरिकों के करीबियों की टोह ली जा रही है। खुफिया एजेंसियों ने उनकी तलाश तेज कर दी है। एक महीने तक मरकज के गेस्ट हाउस में छिप कर रह रहे लोगों के स्थानीय स्तर पर और लोगों से संबंध हो सकते हैं। ऐसे लोग क्राइम ब्रांच और आईबी के निशाने पर हैं।
निजामुद्दीन मरकज की जमात से शिरकत कर पिछले दिनों 11 बांग्लादेशियों समेत 14 लोग भदोही पहुंचे और भदोही नगर के काजीपुर स्थित मरकज कमेटी के गेस्ट में कई दिनों तक रुके। कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर जारी गाइडलाइन के विपरीत कार्य करने पर तीन दिन पूर्व प्रशासन ने सभी पर विधिक कार्रवाई की। 11 बांग्लादेशियों के वीजा जब्त किए जा चुके हैं। जांच में भले ही सभी के सैंपल निगेटिव मिले हों, लेकिन सुरक्षा के लिहाज से पुलिस सतर्क है।
गाजियाबाद, मेरठ संग दूसरे शहरों में जमातियों की ओर से चिकित्सकों पर थूकने और पुलिस पर पत्थरबाजी की घटना को लेकर पुलिस अलर्ट हो गई है। बांग्लादेशी कालीन नगरी में कब-कब आए और किसके यहां वह ठहरते थे। किन-किन लोगों से उनके संपर्क रहे। सभी की कुंडली खंगाली जा रही है। सूत्रों की मानें तो आईबी, एलआईयू और क्राइम ब्रांच मामले में गंभीरता से जांच कर रही है। जमात में शामिल मो. शारिक दिल्ली में ही क्वारंटीन बताया जा रहा है। उसके आने का भी इंतजार किया जा रहा है।
... और पढ़ें

नमाज अदा करने के लिए जुटाई भीड़, मौलवी समेत नौ पर मुकदमा

मोढ़। दिल्ली के मरकज का मामला अभी ठंडा नहीं हुआ था कि बुधवार की शाम को कोछिया में जौनपुर के एक मौलवी ने दर्जनों मुस्लिमों को नमाज अदा करने के लिए एकत्रित कर लिया। मामले की खबर मिलते ही पुलिस वहां पहुंच गई। पुलिस को आते देख सभी वहां से गायब हो गए। पुलिस ने मौलवी समेत नौ के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है।
कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को लेकर देश भर में लॉकडाउन है। इस दौरान किसी भी धर्म के किसी कार्यक्रम को अनुमति नहीं दी जा रही है। धारा 144 प्रभावी होने से पांच से अधिक लोगों को एकत्रित नहीं होने दिया जा रहा है। इसको लेकर अधिकतर मंदिरों में ताला बंद है, लेकिन कुछ लोग नियमों को ताक पर रखकर कोरोना वायरस संक्रमण फैलाने में भूमिका अदा कर दे रहे हैं। बुधवार की रात आठ बजे सुरियावां थानाक्षेत्र के कोछिया गांव की मुस्लिम बस्ती में ऐसा ही मामला सामने आया। जौनपुर के बरसठी थानाक्षेत्र के आलमगंज का निवासी मौलवी मोहम्मद इसरार गांव में आया।
उसने अल्लाह की इबादत के लिए नमाज अदा करने एवं जलसा करने की बात कहकर बस्ती के 50 से अधिक लोगों को एकत्रित कर लिया। इसकी खबर लगते ही सुरियावां थाने के सब इंस्पेक्टर श्रीराम यादव, शिवशंकर राम, कांस्टेबल संतोष उपाध्याय और इस्टालिन सिंह मौके पर पहुंचे। पुलिस को देख भीड़ तितर बितर हो गई। लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर पुलिस ने मौलवी मो. इसरार के अलावा कोछिया निवासी मजीर, मो. अली, शमीम, रिजवान, आदाब, इम्तियाज, सद्दाम और नूरमोहम्मद के खिलाफ आईपीसी की धारा 188, 269, 270 के तहत मुकदमा दर्ज किया।
... और पढ़ें

कोरोना से जंग: हर घर जले उम्मीद के दीये

ज्ञानपुर (भदोही)। विश्वभर में महामारी का रूप धारण कर चुके कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में कालीन नगरी के लोगों ने एकजुटता का संदेश दिया। जैसे ही घड़ी की सुई नौ पर पहुंची लोग घरों के बालकनी और छतों पर पहुंच गए। किसी के हाथ में मोमबत्ती जली तो किसी ने उम्मीदों का दीया जलाया।
कोरोना वायरस को लेकर कई देशों में त्राहिमाम की स्थिति बनी हुई है। कोरोना से बचाव को लेकर देश में भी 12 दिनों से लॉकडाउन है। दो दिन पूर्व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो संदेश के माध्यम से पांच अप्रैल को रात नौ बजे कोरोना जैसे अंधेरे को उम्मीद के उजाले से नष्ट करने के लिए प्रेरित किया था। रविवार को रात आठ बजे के बाद से ही लोग छतों और बालकनी में खड़े होकर नौ बजने का इंतजार करने लगे। जैसे ही नौ बजे समाज के हर वर्ग के लोगों ने दीप जलाकर कोरोना को हराने के लिए एकता का संकल्प लिया।
ज्ञानपुर नगर के पुरानी बाजार, पुरान देहाती, बालीपुर, प्रोफेसर कॉलोनी, गोपीगंज के विभिन्न मोहल्ले, बाबूसराय, भदोही, ऊंज, सुरियावां, चौरी, मोढ़, औराई, महराजगंज बाजार संग ग्रामीण अंचलो में भी लोगों ने दिये, मोमबत्ती और टार्च जलाया। दीपदान को लेकर लोगों में काफी उत्साह दिखा। क्या बच्चे, क्या बूढ़े, महिलाएं तक छतों पर पहुंचकर दीप जलाने में पीछे नहीं रहीं।
दीपावली जैसा दिखा नजारा
ज्ञानपुर। कोरोना के खिलाफ एकजुटता संदेश को लेकर रविवार को रात नौ बजे जैसे ही घरों के छतों और बालकनी में दीये जले तो ऐसा लगा जैसे सात माह पहले ही दीपावली आ गई। छतों पर दीपदान करते समय लोग काफी उत्साहित दिखे।
... और पढ़ें
अभोली के रोही में पीएम के आह्वान पर दीपदान करते ग्रामीण। अभोली के रोही में पीएम के आह्वान पर दीपदान करते ग्रामीण।

अमित को मिला कोरोना वॉरियर ऑफ द डे का सम्मान

ज्ञानपुर (भदोही)। पूर्वोत्तर रेलवे वाराणसी के कटका स्टेशन पर तैनात स्टेशन मास्टर अमित कुमार दुबे रविवार को कोरोना वारियर ऑफ द डे सम्मान से सम्मानित किए गए। बताते हैं कि पूर्वोत्तर मुख्यालय अपने तीनों मंडल इज्जतनगर, वाराणसी और लखनऊ के अधीन कर्मचारियों को सम्मान देकर लोगों को कोरोना जैसी महामारी से बचने, स्टेशन परिसरों को स्वच्छ बनाने, हैंडवॉश, मास्क, सैनिटाइज करने आदि की जिम्मेदारी सौंपी है।
साथ ही स्टेशनों के आस-पास गरीब परिवारों को नि:शुल्क भोजन आदि की व्यवस्था दी जा रही है। अमित दुबे ने भी रविवार को कटका स्टेशन पर दर्जनों लोगों को सैनिटाइज कर 35 मजदूरों को भोजन कराने के कार्य को प्रमुख दी गई। मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज सिंह ने बताया कि पूर्वोत्तर मुख्यालय ने उक्त सराहनीय कार्य को देखते हुए सम्मान दिया है।
... और पढ़ें

लॉकडाउन : गरीबों की सहायता को बढ़े हाथ

ज्ञानपुर (भदोही)। लॉकडाउन के 12वें दिन रविवार को गरीब, मजदूर, बेसहारा परिवारों की सहायता के लिए सरकारी, अर्ध सरकारी, स्वयंसेवी समूह, संगठन, राजनीतिक दल, समाज सेवकों ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। गरीबों की बस्ती में पहुंचकर उन्हें सुविधाएं दी। कहीं भोजन तो कहीं आटा, तेल, चावल, दाल, आलू, मसाला, हरी सब्जियों का वितरण किया गया।
ज्ञानपुर नगर के देहाती दलित बस्ती में तहसीलदार देवेंद्र यादव ने राशन का वितरण किया। ज्ञानपुर के जगापुर में कांग्रेस नेता राजन दुबे, पूरेमटुका में राजेश दुबे ने दर्जन भर से अधिक परिवारों को राहत सामग्री दी। ऊंज क्षेत्र के दरवांसी गांव में सामाजिक संस्था फार्फ के जिला प्रभारी अशोक कुमार मिश्रा ने एक दर्जन से अधिक परिवारों को राहत पहुंचाई। नवधन, ऊंज, कुरमैचा आदि गांवों में जय गुरुदेव पंकज महाराज के आह्वान पर जिलाध्यक्ष प्रेमशंकर मौर्य ने निराश्रित भक्तों को भोजन का पैकेट देकर कोरोना वायरस से बचने और लॉकडाउन का समर्थन करने को कहा। गोविंद गुप्ता, राकेश चतुर्वेदी, राकेश यादव, रमाशंकर, धनंजय पुजारी रहे। वनवासी बस्ती सरोई, जयरामपुर, रामपुर, चौबेपुर, अहरा, चांदीगहना, भिखारीपुर, धसकरी में भोजन का वितरण कराकर 21 दिन मदद का आश्वासन दिया। इस मौके पर कानूनगो भदोही वेदप्रकाश, बलवंत सिंह पटेल, रोहित श्रीवास्तव, रमेश सिंह रहे।
चौरी क्षेत्र के आधा दर्जन गांवों में कालीन निर्यातक हाजी साबिर अली ने 20 कुंतल खाद्य सामग्री वितरित कराया। चार दिनों से गरीब बस्तियों में आटा, चावल, तेल, दाल, आलू, प्याज सहित अन्य सामानों से भरे 21 किलो के पैकेट बांटे जा रहे हैं। डोमनपुर में समाजसेवी राजेंद्र सिंह, रोटहां के फैजान अली, पप्पू परवेज, शफीक अहमद ने चौधरीपुर में वनवासियों को भोजन कराया।चौरी बाजार के व्यापारी दिलीप जायसवाल, सत्यम जायसवाल, अखिलेश उपाध्याय, दीपक मोदनवाल, राजेश मोदनवाल ने गरीब परिवारों को सहायता पहुंचाई। मोढ़ के बरमोहनी वनवासी बस्ती में भानुपुर के प्रधान राजेश कुमार ने राशन वितरित किया उनके साथ कंचन यादव, रामसूरत यादव बाबा, पंचम यादव अजीत पाल, दिलीप कुमार रहे।
करियांव में 50 गरीब परिवारों को राशन चौकी इंचार्ज सुनील यादव, कृपाशंकर मिश्र, शिवशंकर मिश्र, मुन्ना तिवारी, सुरेंद्र मिश्र, सियाराम यादव, सुनीता, इंदुबाला, साधना आदि लोगों ने कराया। कस्तूरीपुर-सिंहपुर में 100 मुसहर और जरूरतमंदों को समाजसेवी हरीलाल यादव के साथ संतोष उपाध्याय, इस्टालिन सिंह, रमापति यादव, शीलवंता यादव, उमापति यादव, गुलाब यादव, सुरेश यादव ने आटा, चावल, आलू, तेल नमक, साबुन दिया। चकचंदा में समाजसेवी सैयद इसरार अहमद ने कई परिवारों को चिह्नित कर राशन आदि की व्यवस्था कराई। निर्यातक गुलाब चंद्र मौर्या ने जयरामपुर गांव में असहाय और गरीब परि वारों की मदद की। वनवासियों सहित लोगों में चार कुंतल आलू, दो कुंतल भाटा, दो कुंतल आटा, दो कुंतल चावल, सरसों का तेल, मसाला आदि खाने का सामान उपलब्ध कराया। इस दौरान रजपुरा चौकी इंचार्ज महेंद्र पटेल, रामबली यादव, ओपी राय, अशोक यादव, दूधनाथ यादव, राहुल यादव, अमित, संतोष यादव रहे।
इनसेट-
21 दिन तक 500 परिवारों को मिलेगा भोजन
ज्ञानपुर। नगर पालिकाध्यक्ष गोपीगंज प्रह्लादास गुप्ता ने बताया कि मिर्जापुर रोड स्थित परिषदीय स्कूल में 21 दिन तक 500 परिवारों को नि:शुल्क भोजन बनवाया जा रहा है। पालिका कर्मियों और सभासदों के साथ वनवासी, दिहाड़ी मजदूर, झुग्गी-झोपड़ी में रह रहे बेसहारा परिवारों की मदद की जा रही है। साथ ही उन्हें कोरोना वायरस से बचने, लॉकडाउन का समर्थन करने, सोशल डिस्टेंस बनाए रखने, स्वच्छता अपनाने के लिए जागरूक भी किया जा रहा है।
... और पढ़ें

देशी शराब बेचने के आरोपी की जमानत मंजूर, हाईकोर्ट ने आजीवन कारावास की सजा की निलंबित

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने औराई भदोही के शराब व्यवसायी अजय कुमार जायसवाल को जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया है और आजीवन कारावास की सजा को निलंबित कर,दिया है। अजय कुमार को आबकारी अधिनियम की धारा 60(1) एवं भारतीय दंड संहिता की धारा 272, 467,व 468 के तहत अवैध देशी शराब बेचने के आरोप में अपर सत्र न्यायाधीश भदोही ज्ञानपुर ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है, जिसके खिलाफ अपील दाखिल की गई है।

यह आदेश मुख्य न्यायाधीश गोविन्द माथुर तथा न्यायमूर्ति रमेश सिन्हा की खंडपीठ ने अजय कुमार जायसवाल की अपील पर उनकी पत्नी कुसुम लता की अर्जी की सुनवाई करते हुए दिया है। अर्जी में कहा गया है कि आरोपी की पुत्री की शादी 26 अप्रैल 20 को होने जा रही है।

कामधाम देखने के लिए परिवार में अन्य कोई पुरुष सदस्य नहीं है। कोर्ट ने पत्रावली के तथ्यों पर विचार करते हुए जमानत मंजूर कर ली है। याची का कहना था कि पुलिस छापे में घर से अवैध देशी शराब की बरामदगी हुई। उस समय आरोपी मुंबई में था। ट्रायल कोर्ट ने उसके गवाहों पर विचार किये बगैर दोषी करार दिया और सजा सुनाई है। वह सजा के दिन 17 दिसंबर 19 से जेल में बंद हैं। उसका कोई आपराधिक इतिहास नही है।
... और पढ़ें

बस्ती में बाहरी लोगों का प्रवेश वर्जित

अदालत
लालानगर (भदोही)। 21 दिन के लगे लॉकडाउन में भी नगर और ग्रामीण क्षेत्रों में बाहरी लोगों के पहुंचने का क्रम रोकने के लिए शनिवार को लोगों ने भगवानपुर-चौथार, गोपीगंज नगर के कुछ मोहल्लों में बैरिकेडिंग लगाकर रोक लगा दी। कहा कि लोग स्वयं पहरेदारी कर बाहर से आने वालों को रोकेंगे।
नागरिकों ने कहा कि एक ओर शासन-प्रशासन कोरोना वायरस को मात देने में लगा है तो वहीं परदेश में रह रहे लोगों को घर पहुंचने की इतनी जल्दबाजी है कि बिना जांच कराए आ जा रहे हैं। बाहर से आ रहे लोग स्वयं समझदारी दिखाकर सीमाओं पर जांच भी नहीं करा रहे हैं, जो वायरस को फैलाने में मददगार साबित हो रहा है। वक्ताओं ने कहा कि जब तक बचाव और स्वच्छता का पालन नहीं होगा, तब तक कोरोना वायरस की महामारी से बचना नामुमकिन होगा। इसके लिए सभी को एकजुट होकर बाहरी क्षेत्रों से आने वालों पर रोक लगाना ही बड़ी समझदारी है। नगर पालिका गोपीगंज के वार्ड नंबर 18 काली देवी मोहल्ले से होकर नगर और बस्ती की ओर जाने वाले रास्ते को बांस-बल्लियों से घेरा जा चुका है।
... और पढ़ें

कालीननगरी भदोही में तब्लीगी जमात के लिए बिछती रही है रेड कारपेट

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर इंसानियत के लिए दुश्मन बनी तब्लीगी जमात का भदोही जिले से गहरा नाता रहा है। मखमली कालीनों के लिए दुनियाभर में मशहूर कालीन नगरी भदोही में जमातियों के स्वागत में काफी पहले से दबे पांव रेड कारपेट बिछती रही है। निजामुद्दीन मरकज में शामिल 11 बांग्लादेशियों समेत 14 लोगों के काजीपुर की एक मस्जिद के गेस्ट हाउस में 28 दिन तक छिपकर रहने के खुलासे के साथ रहस्यमयी प्याज के छिलके की सबसे बाहरी परत ही उधड़ पाई है।

यह पहला मामला नहीं है, जब बांग्लादेशी जमाती यहां आए हैं। इससे पहले भी कई बार विदेशियों का आवागमन हो चुका है। सूत्रों की मानें तो इनके धर्म के प्रचार-प्रसार से जुड़ी गतिविधियां काफी पहले से चलती रहीं हैं। यह बात अलग है कि खुफिया एजेंसियां इस मोर्चे पर मुकम्मल इनपुट जुटा पाने में विफल रहीं।

अंदरखाने से आईं खबरों पर गौर करें तो जिले में शिक्षा जगत, उद्योग और राजनीति में गहरी पैठ रखने वाले कुछ लोग लखनऊ और दिल्ली के अपने सियासी कनेक्शनों के बूते इन्हें संरक्षण देते रहे हैं। तब्लीगी कमेटी के सदस्य के नाम पर आधा दर्जन से अधिक लोगों की पूरी जमात यहां है। इनमें फाउंडर मेंबर से लेकर अलग-अलग क्षेत्रों के लोग शामिल हैं।

इनमें कुछ लोग उनके फाइनेंसर के तौर काम करते रहे हैं तो कुछ ठहरने और खाने-पीने का प्रबंध करने की जिम्मेदारी निभाते हैं। यहां एक बात और ध्यान देने वाली है कि काजीपुर के जिस इलाके से छिपे हुए जमाती पकड़े गए, वहीं से विगत दिनों सीएए के विरोध में जुलूस निकाला गया और भारी बवाल हुआ था। उच्चपदस्थ सूत्रों के मुताबिक पुलिस और खुफिया एजेंसियां इन सारे बिंदुओं को खंगाल रही हैं। 
... और पढ़ें

बाहरी वाहनों को नहीं मिलेगा पेट्रोल-डीजल

ज्ञानपुर (भदोही)। जिले की सीमा में प्रवेश करने वाले बाहरी वाहनों को अब पेट्रोल पंपों से पेट्रोल और डीजल नहीं मिलेगा। इसके लिए पेट्रोल पंप संचालकों को सख्त हिदायत दी गई है। फरमान अमल में आने के बाद शनिवार को वाराणसी-प्रयागराज राजमार्ग पर जगह-जगह वाहनों की कतार लग गई। ईंधन के अभाव में चालकों ने गाड़ी आगे नहीं बढ़ाई।
शासन के निर्देश पर जनपद में संचालित 55 से अधिक पेट्रोल पंपों से अब बाहरी वाहनों को तेल नहीं दिया जाएगा। साथ ही लॉकडाउन के मद्देनजर इमरेंजसी ड्यूटी धारक, किसानों को डिजिटल भुगतान करने की सुविधा दी गई है। जिलापूर्ति विभाग ने सभी पेट्रोल पंपों पर डिजिटल भुगतान संबंधी बोर्ड लगवाकर पालन कराने में जुट गया है। बताते हैं कि कोरोना वायरस की महामारी से लोगों को बचने और बचाने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन की घोषणा कर सरकार ने आवश्यक सेवाओं से जुड़े वाहनों को ही चलने की छूट दी है और सभी सीमाएं सील कर बाहरी क्षेत्रों से आने-जाने वाले वाहनों को जगह-जगह रोक दिया है।
पुलिस प्रशासन भी पूरी तरह से शासन के दिशा-निर्देशों को कड़ाई से पालन कराने के लिए नगर, ग्रामीण क्षेत्र ही नहीं बल्कि राजमार्ग से लेकर अन्य सड़कों पर भी आवागमन नहीं होने दिया जा रहा है। लॉकडाउन से सन्नाटे में आ चुके पंट्रोल संचालकों पर और गहरा मरहम लगाने के लिए शासन ने एक बड़ा कदम उठाकर अब बाहरी क्षेत्रों से बचबचाकर आ-जा रहे वाहनों को तेल न देने का निर्देश जारी कर दिया। शासन से मिले निर्देश का कड़ाई से पालन कराने के लिए आपूर्ति विभाग ने सभी पंपों पर आवश्यक आदेश देकर पालन कराने का हरसंभव प्रयास कर रहा है। जिलापूर्ति अधिकारी अमित कुमार ने बताया कि शासन के निर्देश का उल्लंघन होने पर पंप संचालकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। पंप संचालकों को इमरजेंसी ड्यूटी में लगे पुलिस वाहनों, एंबुलेंस, अग्निशमन, मीडियाकर्मी, सहायता कार्यों में लगे वाहन, अधिकारी-कर्मचारियों के लिए हर समय तेल की उपलब्ध रखनी होगी। किसानों समेत इमरजेंसी में प्रयुक्त हो रहे वाहन चालकों से डिजिटल भुगतान पर ही तेल दिए जा सकेंगे।
... और पढ़ें

14 जमाती जिला अस्पताल में शिफ्ट, पढ़ी नमाज

ज्ञानपुर (भदोही)। दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से तब्लीगी जमात में शिरकत करने के बाद भदोही नगर के काजीपुर स्थित एक गेस्ट हाउस से बरामद 11 बांग्लादेशियों समेत 14 जमातियों को शनिवार को जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। दोपहर में जमातियों ने आइसोलेशन वार्ड में ही नमाज पढ़ी। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग टूटती दिखी।
गत दिनों निजामुद्दीन मरकज में हुई तब्लीगी जमात में शामिल होकर भदोही आए 11 बांग्लादेशियों समेत 14 जमातियों को छिपकर रहने के खुलासे के बाद उन्हें उसी गेस्ट हाउस में क्वारंटीन कर दिया गया था। चार मार्च से ही गेस्ट हाउस में रह रहे जमातियों में कोरोना के लक्षण नहीं मिलने के बाद पुलिस, प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना से सुरक्षित मान लिया था, लेकिन फिर भी उनकी जांच कराई गई। रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद पुलिस ने फिर उसी गेस्ट हाउस में क्वारंटीन कर दिया गया। लेकिन, बाद में पुलिस को यह शिकायत मिलने लगी कि गेस्ट हाउस में उनकी आए दिन बिरयानी की दावत चल रही है और संक्रमण की संवेदनशीलता के मद्देनजर नियमों का पालन नहीं हो पा रहा है। इस पर पुलिस ने शुक्रवार की देर रात उन्हें महाराजा चेतसिंह जिला चिकित्सालय के आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट करा दिया। शनिवार को दोपहर में आइसोलेशन वार्ड में ही जमाती नमाज पढ़ते देखे गए। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग बेमतलब दिख रही थी। इस संबंध में पुलिस कप्तान रामबदन सिंह ने कहा कि चार मार्च से ही वे लोग बाहर हैं, इसलिए क्वारंटीन अवधि पहले ही पूरी हो चुकी है। लेकिन, फिर भी आइसोलेशन वार्ड में रखकर एहतियात बरता जा रहा है। इसे दिखवाया जाएगा।
दोपहर बाद तक भूखे रहे जमाती
ज्ञानपुर। जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में क्वारंटीन किए गए जमातियों को दोपहर बाद तक भोजन नसीब नहीं हो सका था। वे भूखे रहे। चिकित्सकों से उन्होंने शिकायत में कहा कि अब तक खाना नहीं मिला। इसके बाद जिला अस्पताल प्रबंधन हरकत में आया, लेकिन खान-पान के इंतजाम की जिम्मेदारी तहसील की होने के कारण वे कुछ नहीं कर सके। दोपहर बाद उन्हें भोजन का पैकेट मिल सका। इस संबंध में सीएमओ डॉ. लक्ष्मी सिंह ने कहा कि भोजन की जिम्मेदारी तहसील की है।
... और पढ़ें

गरीब बस्तियों में पहुंचे मददगार

ज्ञानपुर (भदोही)। लॉकडाउन के नौवें दिन शनिवार को भी गरीबों की मदद के लिए लोगों के हाथ बढ़े। संगठन, प्रधान संग पुलिस-प्रशासन ने कई बस्तियों में पहुंचकर भूखों तक राशन और खाना पहुंचाया।
ज्ञानपुर नगर के देहाती दलित बस्ती, खावांबीर दलित बस्ती में तहसीलदार ज्ञानपुर देवेंद्र यादव ने राशन और सब्जी का वितरण किया। आयोजक मनोज अंबष्ट रहे। कंसापुर स्थित मान्यवर कांशीराम शहरी आवास में रहने वाले गरीबों को कंसापुर प्रधान अनिता यादव और उनके पति रविंद्रनाथ यादव ने राशन का वितरण किया। मौके पर कमलेश यादव, अखिलेश यादव, राजेश यादव आदि रहे। अभोली के नेवादा रोही में प्रधान पति श्यामधर दुबे और समाजसेवी अजय दुबे ने 35 वनवासी परिवारों को राहत सामग्री दिया। औराई में राइस मिलर की ओर से हाइवे से गुजर रहे मजदूरों और श्रमिकों को लंच पैकेट दिया गया।
क्षेत्रीय विपणन अधिकारी रंजन सिंह के नेतृत्व में राइस मिल मालिक श्याम मुरारी दूबे, विनय कुमार श्रीवास्तव, श्याम मिश्रा, नीरज दूबे, पीयूष सिंह ने वितरण किया। सुरियावां थाने में पुलिस-पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक गरीबों के लिए सहायक बन गई है। प्रतिदिन 200 से 500 लोगों को राशन पहुंचाया जा रहा है। शनिवार को 120 क्विंटल अनाज समाजसेवी विनय चौरसिया ने वितरित कराया। थानाध्यक्ष विजय प्रताप सिंह आदि रहे। भिखमापुर निवासी ट्रस्ट की ओर से एक लाख का अन्नदान किया गया। ट्रस्ट के संरक्षक सुक्खू राम मौर्य, योगेश मौर्य आदि रहे। लॉकडाउन के 11वें दिन गोपीगंज के चेयरमैन प्रहलाद दास गुप्ता की तरफ से कई स्थानों पर राशन वितरित किया गया।
भारतीय स्टेट बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक प्रकाश चौधरी के निर्देश पर गोपीगंज शाखा प्रबंधक सुनील कुमार भगत ने बर्दवारी और पूरेरजई में 235 गरीबों को लंच पैकेट वितरित किया। इस मौके पर अभिषेक सिंह आदि रहे। शिव शक्ति परिवार की ओर से कई गांवों में राशन वितरण किया। प्रधानपति कठौता सलिल कुमार सिंह ने चहरपुर की दलित बस्ती में 200 असहाय परिवारों को राशन वितरित किया। इस मौके पर विनीत सिंह, लवी सिंह, सुमित सिंह, अमित सिंह, बेचन सिंह, रिंकू सिंह आदि रहे। समाजसेवी रवि सिंह बघेल ने पूरेशंभू और रामपुर कायस्थान में 400 असहायों को राशन वितरित किया। इस मौके पर प्रधान सदाचरण पाल, सभासद मोहित उमर, मनीष अग्रवाल, प्रवीण मिश्रा आदि रहे। गहरपुर गांव में प्रधान रेहाना और प्रधान प्रतिनिधि इस्लामुद्दीन ने वनवासी बस्ती एवं दलित बस्ती में 600 पैकेट राशन वितरित किया। सीतामढ़ी के बारीपुर में समाजसेवी राहुल दूबे और कांग्रेस नेता राजेश दूबे के नेतृत्व में गरीबों को राशन वितरित किया गया। ज्ञानपुर रोडवेज परिसर में कांग्रेस नेता राजन दूबे ने गरीब बच्चों को लंच पैकेट दिया।
ज्ञानपुर। लॉकडाउन में कोई भूखा न सोए, इसलिए ज्ञानपुर विधायक विजय मिश्र ने बड़ी पहल की है। उन्होंने पांच अप्रैल से लॉकडाउन खत्म होने तक प्रतिदिन पांच हजार लंच पैकेट गरीब बस्तियों में वितरण कराने की घोषणा की है। उन्होंने जिलाधिकारी को पत्र लिखकर कहा कि प्रतिदिन पांच हजार लंच पैकेट बंटवाया जाए, जिसका भुगतान वह करेंगे। कहा कि कोरोना वायरस जैसी महामारी को रोकने के लिए प्रधानमंत्री की ओर से लिए गए फैसले के वह साथ खड़े हैं। हर गरीब तक भोजन पहुंचाने का प्रयास करेंगे।
... और पढ़ें

दिव्यांग बेटी ने गुल्लक तोड़कर दी सहायता राशि

लालानगर(भदोही)। प्रधानमंत्री के अपील पर समाज के हर तबके के लोग मदद को आगे आ रहे हैं। सरकार को सहायता देने के लिए गोपीगंज की एक दिव्यांग बेटी ने जज्बा दिखाया। उसने गुल्लक में जुटाए करीब 2842 रुपये सीएम राहत कोष में दान कर दिया। उसने खुद उक्त धनराशि डीएम और एसपी को सौंपी।
कालीन निर्यातक, उद्यमी, व्यापारी पीएम केयर फंड और सीएम राहत कोष में सहायता दे रहे हैं, लेकिन दिव्यांग एवं आर्थिक रूप से कमजोर बेटी ने यह कदम उठाकर मिसाल पेश की है। गोपीगंज के वार्ड 16 निवासी हरीशचंद्र विश्वकर्मा जनरेटर बनाकर परिवार का जीवकोपार्जन करते हैं। उनकी 10 वर्षीय बेटी प्रियंका में देशप्रेम का जज्बा इतना बढ़ा कि उसने अपनी पॉकेट मनी से जुटाए गए 2842 रुपये सीएम राहत कोष में जमा करा दिया। बता दें कि प्रियंका शारीरिक तौर पर कमजोर है। उसके शरीर में बड़ी आंत नहीं है। उसके इलाज पर भी काफी अधिक खर्च होता है, लेकिन वह पीएम के आग्रह पर खुद को नहीं रोक सकी और कोरोना महामारी के बीच छोटा सा अंशदान किया।
पिता हरीशचंद्र ने बताया कि बेटी ने जब अपनी भावनाओं को बताया तो वह उसे रोक न सके। प्रियंका की भावनाओं का कद्र करते हुए डीएम राजेंद्र प्रसाद और एसपी रामबदन सिंह खुद ही उसका गुल्लक लेने पहुंचे। उसके कदम की हर तरफ सराहना हो रही है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us