विज्ञापन
विज्ञापन
मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020
Astrology Services

मौनी अमावस्या पर गया में कराएं तर्पण, हर तरह के ऋण से मिलेगी मुक्ति : 24 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अमेठी में बड़ा सड़क हादसा, ट्रक ने बोलेरो को मारी टक्कर, पांच की मौत

उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले में बड़ा सड़क हादसा हुआ है। हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई है। जबकि एक गंभीर रूप से घायल है, जिसे ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया है।मौके पर पहुंची पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। 

21 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

बस्ती

मंगलवार, 21 जनवरी 2020

बस्ती महोत्सव में हुनर दिखा सकते हैं स्थानीय युवा, 28 जनवरी से एक फरवरी तक होगा आयोजन

बस्ती महोत्सव 2020 को लेकर डीएम ने शुक्रवार को स्वयं सेवी संस्थाओं के साथ बैठक की। लोगों से महोत्सव से जुड़ने की अपील की। बताया कि बस्ती महोत्सव से आम लोगों को जोड़ने के लिए स्वयंसेवी संस्थाओं, ग्राम प्रधानों, अधिवक्ताओं आदि से संपर्क किया जा रहा है।

बस्ती महोत्सव 28 जनवरी से एक फरवरी तक चलेगा। जिसमें राष्ट्रीय कलाकारों के साथ स्थानीय प्रतिभाओं को भी मौका दिया जा रहा है। टैलेंट हंट के माध्यम से युवा अपना हुनर दिखा सकते हैं। सहयोग राशि देने के लिए महोत्सव की वेबसाइट से दिया जा सकता हैै। इस बैठक में सीडीओ अरविंद पांडेय, एडीएम रमेश चंद्र, उमेश श्रीवास्तव, अनिल कुमार पांडेय, जितेंद्र श्रीवास्तव, राजेश गुप्ता, मयंक श्रीवास्तव, अभिषेक चंद्र ओझा, अभिषेक कुमार पांडेय, आशीष कुमार श्रीवास्तव, काजी फरजान, कुलदीप सिंह, रणविजय सिंह, अपूर्व शुक्ला आदि मौजूद रहे।

बस्ती महोत्सव में प्रसिद्ध कवि कुमार विश्वास, भजन सम्राट अनूप जलोटा, गजल गायिका पिनाज मशानी, भोजपुरी गायिका मैथिली ठाकुर, बृजेश शांडिल्य ने आने की सहमति प्रदान की है। डीएम ने कहा कि हम बस्तीवासियों का यह दायित्व है कि महोत्सव में इनका उत्साहवर्धन करें।

बताया कि शहर के प्रमुख चौराहों पर सेल्फी प्वांइट बनाए जाएंगे ताकि यहॉ लोग सेल्फी लेकर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर सके। संस्थानों से कार्यालय के सामने बस्ती महोत्सव का बैनर-पोस्टर एवं होर्डिंग लगवाने का अनुरोध किया।
... और पढ़ें

बजट 2020: गोरखपुर-बस्ती मंडल की दो बड़ी परियोजनाओं को दी जा सकती है तवज्जो

इस बार बजट में गोरखपुर-बस्ती मंडल की दो बड़ी परियोजनाओं को तवज्जो दी जा सकती है। सहजनवां-दोहरीघाट और खलीलाबाद-बहराइच नई रेल लाइन बिछाने के लिए बड़ी रकम मिलने की उम्मीद है। दोनों परियोजनाओं का सर्वे कर डीपीआर रेलवे बोर्ड को भेजा जा चुका है।

अब जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया शुरू की जानी है। रेलवे प्रशासन की ओर से रेल लाइन बिछाने के लिए जमीन का क्षेत्रफल और मुआवजा की संभावित राशि का प्रस्ताव भी बोर्ड को भेजा जा चुका है।
-
खलीलाबाद-बहराइच रेल लाइन में 93 गांवों की जमीनें आएंगी
बहराइच से खलीलाबाद के बीच 240 किमी लंबी नई रेलवे लाइन बिछाने को मंजूरी पिछले वित्तीय वर्ष में मिल चुकी है। ब्रॉड गेज की इस नई लाइन बिछने से बहराइच, बलरामपुर, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर और संतकबीरनगर जिले के लोगों को खासी सुविधा मिलेगी। इस परियोजना की लागत 4940 करोड़ है और वर्ष 2024-25 तक इसे पूरा कर ट्रेन दौड़ाने का लक्ष्य रखा गया है।

रेल प्रशासन के सर्वे के मुताबिक 93 गांवों की जमीनें अधिगृहीत करनी पड़ेंगी। जमीन का ब्यौरा जिला प्रशासन से लेकर रेलवे अब मुआवजा की राशि तय कराएगा। पूर्वोत्तर रेलवे में नेपाल की सरहद के पास वाले इस इलाके में रेल सेवा न होने से यहां के लोगों को काफी दिक्कतें होती हैं। नई रेल लाइन बिछने से यात्री बहराइच से सीधे खलीलाबाद आ जाएंगे। यहां से लखनऊ और बिहार जाने का रास्ता आसान हो जाएगा।

नई रेल लाइन निर्माण के दौरान इस परियोजना से भारी संख्या में रोजगार मिलेगा। यह नई रेल लाइन पांच जिलों से होकर गुजरेगी। इसके दायरे में पड़ने वाली जमीनों के मालिकों को मुआवजा देकर जमीन कब्जे लेने की प्रक्रिया अपनाई जाएगी।
 
... और पढ़ें

मस्कट दूतावास से प्राप्त 10 लाख की आर्थिक मदद वाला चेक आश्रित परिवार को सौंपा

कटेश्वर पार्क पहुंचे डीएम, गुणवत्ता में मिली कमी

कटेश्वर पार्क पहुंचे डीएम, गुणवत्ता में मिली कमी
बस्ती। जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने कटेश्वर पार्क में हो रहे सुंदरीकरण का निरीक्षण किया। जहां गुणवत्ता में कमी देख डीएम ने जांच के निर्देश दिए। अन्य कमियां मिलने पर सवाल-जवाब भी किए।
सोमवार को दिन में 12.30 पर पहुंचे डीएम ने नौका विहार के लिए बनाए गए जलाशय स्थल को देखा। निरीक्षण क्रम में वॉकिंग ट्रैक को देखते हुए उनकी नजर पार्क में लगे झूले पर पड़ गई, जो कि देखने में पुराना लग रहा था। इसके बारे में भी डीएम ने अवर अभियंता अशोक सिंह से पूछताछ की। ट्वॉय ट्रेन के लिए बनाए गए प्लेट फार्म को भी देख कर डीएम नाराज हो गए। प्लेटफॉर्म के पास पानी लगा हुआ था, संबंधित फर्म के कर्मी से डीएम ने इस पर जवाब मांगा। संतोष जनक उत्तर न मिलने पर गुणवत्ता की जांच थर्ड पार्टी से कराने के निर्देश दिए। इसके साथ ही डीएम को बजट आदि की भी जानकारी दी गई। बताया गया कि पार्क के सुंदरीकरण के लिए तीन करोड़ 60 लाख रुपये स्वीकृत हुए थे। जिसके तहत पार्क को सुविधाओं युक्त आकर्षक बनाने का कार्य कराया जा रहा है। अंतिम किस्त एक करोड़ 86 लाख रुपये अभी नहीं मिली है।
इस दौरान अपर जिलाधिकारी रमेशचंद्र, एसडीएम सदर श्रीप्रकाश शुक्ला, पुष्कर मिश्रा, ईओ नगर पालिका अखिलेश त्रिपाठी, घनश्याम चित्रगुप्त, सोमकुमार, आशीष शुक्ला, डब्लू सोनकर, प्रभाकर त्रिपाठी आदि मौजूद रहे।
... और पढ़ें

भुईला डीह व तालाब को मिलेगी नई पहचान

भुईला डीह व तालाब को मिलेगी नई पहचान
बभनान। गौर ब्लॉक के महुआ डाबर ग्राम पंचायत में स्थित प्राचीन भुईला डीह तालाब को पर्यटन के रूप में विकसित करने की योजना बनाई जा रही है। क्षेत्रीय विधायक चंद्र प्रकाश शुक्ला की पहल पर छह माह पूर्व पुरातत्व विभाग की टीम ने खुदाई भी की थी। जिससे करीब 2600 साल पुराने होने का बात सामने आई थी।
सोमवार को ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा व क्षेत्रीय विधायक चंद्र प्रकाश शुक्ल सहित तहसील के जिम्मेदार अधिकारियों ने भुईला डीह पहुंचकर तालाब व डीह का निरीक्षण किया। विधायक चंद्र प्रकाश शुक्ला ने बताया कि लगभग 95 हेक्टेयर के क्षेत्रफल में फैला यह तालाब व डीह को पुरातात्विक विरासत के रूप में संरक्षित करने व पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की योजना है। बताया कि महुआडाबर गांव स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का गांव है। इस गांव को स्वतंत्रता संग्राम सेनानी गांव के रूप में भी पहचान दिलाने के लिए मुख्यमंत्री से मिलकर पहल की जाएगी। गांव की मुख्य सड़क पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी भगवान सिंह के नाम का प्रवेश द्वार भी बनाया जाएगा। यहां पर साइबेरियन पक्षी भी अपना आशियाना बनाते हैं।
ज्वाइंट मजिस्ट्रेट प्रेम प्रकाश मीणा ने बताया कि तालाब व डीह को पर्यटन के रूप में विकसित करने की कार्य योजना बनाकर शासन को भेजी जाएगी। इसका सर्वे किया जा चुका है। जो जमीन अतिक्रमणकारियों ने अपने कब्जे में लिया है उसे खाली कराने का भी निर्देश दिया गया है। इस मौके पर जटाशंकर शुक्ला, आनंद सिंह, श्याम बहादुर सिंह, राधेश्याम कमलापुरी, अमन शुक्ला, पूर्व प्रधान शैलेंद्र सिंह, निर्भय प्रताप सिंह, राजेश कमलापुरी, राजकुमार जयसवाल सहित तमाम लोग मौजूद रहे।
... और पढ़ें

बसपा से निष्कासन का चौधरी ने दिया करारा जवाब

बसपा से निष्कासन का चौधरी ने दिया करारा जवाब
बस्ती। लगभग दो माह पूर्व मायावती द्वारा पार्टी से निकाले गए दिग्गज कुर्मी नेता राम प्रसाद चौधरी ने पंचायत चुनाव से ठीक पहले बसपा को करारा झटका दिया है। उन्होंने सोमवार को एक पूर्व सांसद, तीन पूर्व विधायक, पिछले चुनाव के एक प्रत्याशी, एक पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष, सात पूर्व ब्लॉक प्रमुख और डेढ़ हजार से अधिक बसपा कार्यकर्ताओं के साथ सपा का दामन थाम लिया। चौधरी के इस कदम से मंडल की सियासत गरमा गई है।
पंचायत व स्थानीय निकाय चुनाव में किसी समय तीन चौथाई पदों पर अपने खासम-खास को काबिज कराने में कामयाब रहे कुर्मी क्षत्रप मतदाताओं को एक बार फिर मन-माफिक मतदान कराने में कामयाब हो जाएंगे, इसे लेकर असमंजस है। माना जा रहा है कि कुर्मी-यादव कैमेस्ट्री कारगर हुई तभी बात बन पाएगी। अपवाद को छोड़ दिया जाए तो बस्ती मंडल की सियासत में जातीय मुद्दा सबसे ज्यादा हाबी रहा है। इस लिहाज से अब सपाई खेमा सबसे मजबूत दिख रहा है। यादव-मुस्लिम-क्षत्रिय के एकजुट होने के कारण पंचायत व विधानसभा चुनाव में सपा को काफी लीड मिलती रही है। मगर पिछले कुछ चुनावों से यादव के अलावा बाकी बिरादरी के किनारा कर लेने के बाद उसकी हालत पतली हो गई थी। अब कुर्मी वोटर यदि जुड़े तो उसकी दोबारा लाटरी लग सकती है। ऐसा मानकर कार्यकर्ता उत्साहित हैं। कटी पतंग बनी पार्टी को थोक के भाव झंडाबरदार की दरकार थी। सो सपा को मांगी मुराद मिल गई। सपाई मंच हाथी से उतरे दिग्गजों से अब सज गया है। जानकार मानते हैं कि एकाएक बसपाई टीम को हजम करना सपा के लिए भी आसान नहीं होगा। पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने का इल्जाम लगाकर बसपा प्रमुख मायावती ने 23 नवंबर को पूर्व मंत्री रामप्रसाद चौधरी समेत चार पूर्व विधायकों को पार्टी से निकाल दिया था। उनमें सदर सीट से दो बार विधायक रहे जितेन्द्र चौधरी, महदेवा सीट से विधायक रहे दूधराम, रुधौली से विधायक रहे राजेन्द्र चौधरी शामिल रहे। ये सभी चौधरी के साथ सपा में शामिल हो गए हैं। इनके साथ पूर्व सांसद चौधरी के भतीजे अरविंद चौधरी भी साइकिल पर सवार हो गए हैं। सत्ता पक्ष यानी भारतीय जनता पार्टी में इस परिवर्तन को भले ही ज्यादा तवज्जो न दी जा रही हो, मगर कांग्रेसी सन्न हैं। चूंकि असंतुष्ट होकर कांग्रेस में शिफ्ट होने वाले कई सपा के कद्दावर नेता थे। अब जबकि दूसरा मजबूत खेमा पूरे कुनबे के साथ सपा में आ चुका है। पार्टी की जमीनी हालत देखते हुए माना जा रहा है कि कांग्रेस के लिए सबसे मुश्किल दौर आने वाला है। वहीं बसपा को वजूद की छटपटाहट सहज महसूस की सकती है।
... और पढ़ें

ई-टिकट का धंधेबाज गिरफ्तार

ई-टिकट का धंधेबाज गिरफ्तार
बस्ती। रेलवे टिकट के अवैध धंधे में आरपीएफ ने एक और अभियुक्त को दबोचा है। छापा में 38 टिकट भी मिले हैं। साथ ही आरोपी के लैपटॉप से एएनएमएस सॉफ्टवेयर बरामद किया गया है। आरोपी पर रेलवे एक्ट के तहत केस दर्ज कर जेल भेज दिया गया।
आरपीएफ इंस्पेक्टर नरेंद्र यादव ने सोमवार को बताया कि टिकट के अवैध धंधेबाजों के खिलाफ लगातार अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत मुखबिर की सूचना पर पूरी टीम संतकबीरनगर के धनघटा पहुंची। जहां के पारा चौराहे पर सलमान ट्रेवल्स नामक दुकान पर छापा मारा गया। ट्रेवल्स का संचालक 20 वर्षीय सलमान निवासी ग्राम पारा हरगोविंद थाना धनघटा को रेलवे ई-टिकट का अवैध व्यापार करते हुए पाया गया। छापा के दौरान आरोपी के पास से आरक्षित श्रेणी के 38 टिकट बरामद हुए हैं। जिनका कुल मूल्य 58,250 रुपये है। यह कार्रवाई रविवार देर शाम करीब साढ़े सात बजे की गई। छापा के दौरान मिले लैपटाप की जांच में एएनएमएस नामक सॉफ्टवेयर भी बरामद किया गया है। अभियुक्त सलमान को गिरफ्तार कर पूछताछ की गई। अभी और लोगों पर नजर रखी जा रही है। पूछताछ के बाद रेलवे आरक्षित टिकट के अवैध व्यापार समेत रेलवे एक्ट की धाराओं पर मुकदमा पंजीकृत कर जेल भेज दिया गया है। आरपीएफ इंस्पेक्टर नरेंद्र यादव ने बताया कि मुखबिर की सटीक सूचना पर कार्रवाई से कामयाबी मिली है। बताया कि ऐसे धंधेबाजों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। पूरे नेटवर्क को ध्वस्त किया जाएगा।
... और पढ़ें

कॉल के बाद भी एम्बुलेंस न आई तो ठेले पर लाना पड़ा अस्पताल, वायरल हुई तस्वीर

सूबे की योगी सरकार भले ही यह दावा करती हो कि प्रदेश में स्वास्थ्य व्यवस्था पटरी पर है और लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर मुहैया कराई जा रही हैं। लेकिन सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो और फोटो ने कम से कम हर्रैया स्वास्थय विभाग की तस्वीरें सामने रख दी हैं।

ताजा मामला हर्रैया को किसी सामुदायिक केंद्र का है। सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो को लोग देख व्यवस्था को कोस रहे हैं। वीडियो में साफ़ देखा जा सकता है कि कड़कती ठंड में एक व्यक्ति ठेले पर अपने किसी मरीज को लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हर्रैया पर पहुंचा है।

वहीं इस वीडियो के संबंध में सामुदायिक स्वास्थ केंद्र के प्रभारी डॉ आरके सिंह ने कहा कि अस्पताल में ठेले पर मरीज आना बहुत ही दुःखद बात है। कहा कि, इस बात की जांच करेंगे कि मरीज के परिजनों ने 108 पर एम्बुलेंस के लिए कॉल किया था या नही। वहीं कॉल न मिलने के सवाल पर पल्ला झाड़ते हुए कहा कि, 108 पर कॉल नहीं मिलने के संबंध में जनपद मुख्यालय के संबंधित अधिकारियों से बात करने की सलाह दी।
... और पढ़ें

अन्नदाताओं की दशा खराब, आंकड़ांे की बाजीगरी

अन्नदाताओं की दशा खराब, आंकड़ों में बाजीगरी
बस्ती। बे-मौसम बारिश से खेती किसानी का पूरा खेल बिगड़ रहा है। जिले के उत्तरी क्षेत्र में इसका असर भी देखने को मिल रहा है। गेहूं की फसल देख किसान खासे परेशान नजर आ रहे हैं। हालात से अनजान जिम्मेदार अधिकारी बारिश को खेती के लिए फायदेमंद भले ही बता रहे हों लेकिन पांच ब्लॉकों में स्थिति इसके विपरीत है। खेतों में पानी भरा हुआ है और की फसल पूरी तरह से चौपट हो रही है।
जिले के उत्तर में भारी और दक्षिण में हल्की (बलुई) मिट्टी होने के कारण बारिश का असर अलग-अलग होता है। लेकिन जिले की भौगोलिक स्थितियों से अनजान अधिकारी कभी कभार आसपास के 10 से 20 किलोमीटर का क्षेत्र भ्रमण कर जिले भर का रिपोर्ट कार्ड तैयार कर देते हैं। किसानों की हालात जानने का समय प्रशासन के पास भी नहीं है।
पिछले कुछ महीने में हुई बे-मौसम हुई बारिश पर गौर करें तो खेती के हालात को बेहतर समझा जा सकता है। धान की फसल पक रही थी कि 25 सितंबर को अचानक मौसम खराब होता है और हफ्ते भर बारिश होती है। इसका सीधा असर फसल के पकने पर पड़ता है। धान कटाई देर में होती है और रबी सीजन के फसलों की बुवाई भी इसी कारण प्रभावित होती है। कटाई के बाद खेतों की सिंचाई कर गेहूं की बुआई के लिए तैयारी की जा रही थी कि अचानक 13 दिसंबर को मौसम फिर खराब होता है और गेहूं बुवाई की तैयारियों पर पानी फेर देता है। इससे बुवाई पिछड़ी और कृषि लागत बढ़ी। जैसे-तैसे जनवरी में बुवाई हुई तो फिर बारिश होनी शुरू हो गई। हालात जिले के उत्तर दिशा में काफी खराब हैं। जहां आजकल खेतों में पानी नजर आ रहा है।
दिशावार जिले के ब्लॉकों की स्थिति
जिले के उत्तर में गौर, सल्टौआ, रामनगर, रुधौली व सांऊघाट ब्लॉक के अलावा बहादुरपुर के लालगंज से आगे का क्षेत्र भारी मिट्टी के लिए जाना जाता है। बारिश के बाद यहां पानी सूखने में लंबा समय लगता है। दूसरी ओर दक्षिण दिशा में सदर, बहादुरपुर, कुदरहा, बनकटी, दुबौलिया, कप्तानगंज, हर्रैया, विक्रमजोत, परशुरामपुर में मिट्टी हल्की (बलुई) होने के कारण बारिश का पानी जल्द सूख जाता है।
एक जैसी सलाह किसान के लित है घातक
कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. आरवी सिंह बताते हैं कि अलग-अलग मिट्टी होने केे कारण बिना फील्ड निरीक्षण के एक जैसी सलाह किसान और फसल के लिए घातक साबित हो सकती है। बताते हैं कि जिन किसानों का गेहूं टिलरिंग स्टेज (कल्ले फूटने का समय) में है वे 40-45 किलोग्राम यूरिया के साथ 10 किलोग्राम जिंक प्रति एकड़ बुवाई करें। यह पौध विकास में काफी सहायक होगा। इसके 3 से 4 दिन बाद जल विलेय उर्वरक (डब्लूपी) या एनपीके का प्रयोग 2 किलोग्राम/एकड़ की दर से 200 सौ लीटर पानी में घोलकर छिड़काव करें।
क्षेत्र का भ्रमण किया जा रहा है : डॉ. संजय
उप कृषि निदेशक डॉ. संजय त्रिपाठी ने बताया कि नुकसान का आंकलन करने के लिए क्षेत्र भ्रमण किया जा रहा है। स्थितियों को देखकर रिपोर्ट तैयार की जाएगी। इसके अनुसार आगे कार्रवाई सुनिश्चित होगी।
... और पढ़ें

नगर पालिका : दीवारों पर बह रही स्वच्छता की बयार

नगर पालिका : दीवारों पर बह रही स्वच्छता की बयार
बस्ती। शहर को स्वच्छ बनाने के लिए नगर पालिका की ओर से दिया जा रहा स्वच्छ बस्ती सुंदर बस्ती का नारा हवा हवाई साबित हो रहा है। वार्डों की गलियों की स्थिति बद से बदतर है। जबकि दीवारों पर स्वच्छता सर्वेक्षण की बयार बहाई जा रही है।
सवा लाख की आबादी वाले नगर पालिका क्षेत्र में कुल 25 वार्ड हैं। इन वार्डों की गलियां नाली आदि साफ सुथरी रहें, इसके लिए लगभग 395 सफाई कर्मियों की नियुक्ति की गई है जिन पर हर माह लाखों रुपये खर्च हो रहे हैं। इसके बावजूद सफाई का असर नहीं दिख रहा है। धरातल पर हकीकत तुरकहिया, बभनगंवा, पंचपेड़िया, चिकवाटोला, पुराना डाकखाना स्थित रुद्रपुरी कॉलोनी सहित अन्य वार्डों में देखी जा सकती है। जहां हल्की बारिश में भी गलियां कीचड़ से सनी रहती हैं। समय से सफाई न होने से जगह-जगह कूड़े का ढेर व्यवस्था को मुंह चिढ़ा रहा है। कूड़े से उठ रहे दुर्गंध से जीना मुहाल हो रहा है।
रुद्रपुरी कॉलोनी की शशिकला पांडेय कहती हैं कि हल्की बारिश में भी सड़कों पर कीचड़ पसरा रहता है, फिसलन भरी सड़क पर यदि संभल का न चले तो चोटिल भी हो सकते हैं। कमलावती देवी कहती हैं कि गंदगी तो समस्या है ही, इसके साथ ही लटकते बिजली के तार भी जोखिम भरा साबित हो सकते हैं। कहती हैं कि यहां बांस बल्ली के सहारे बिजली की आपूर्ति की जाती है। सीमा व रतनदीप ने भी सफाई व्यवस्था पर अपनी भड़ास निकाली।
एसबीएम टीम कागजों में बढ़ा रही रैंकिंग
जिलों को स्वच्छ बनाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से स्वच्छ भारत मिशन अभियान चलाया जा रहा है। इसके लिए टीम का भी गठन किया गया है। टीम का कार्य वार्डों में जाकर स्वच्छता संबंधी रिपोर्टिंग की है। इसके साथ ही स्वच्छता को लेकर लोगों को जागरूक भी करना होता है। इस कार्य के लिए मंडल कार्यक्रम प्रबंधक भी नियुक्त किए जाते हैं। इन दिनों इसी मिशन के ही तहत जिले की दीवारों को रंगा जा रहा है, तरह-तरह के स्लोगन भी लिखे जा रहे हैं। पिछले वर्ष जिले की रैंकिंग प्रदेश में 38 नंबर पर थी। इस बार इसे बढ़ाने के लिए टीम कागजी कोरम पूरा कर रही है।
क्या कहते हैं अधिकारी
स्वच्छ भारत मिशन के डीपीएम अभय श्रीवास्तव कहते हैं कि टीम लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक कर रही है। मंडल कार्यक्रम प्रबंधक कुनाल के निर्देशन में बेहतर कार्य किया जा रहा है। जहां गंदगी मिलती है, उसकी सफाई के लिए संबंधित अधिकारी को सूचित कर दिया जाता है। अधिशासी अधिकारी अखिलेश त्रिपाठी ने कहा कि सफाई कर्मी लगे हैं। जहां पर गंदगी मिलती है फौरन साफ कराई जाती है। कूड़ा गाड़ियाें को भी लगाया गया है। उन्होंने जनता से भी सहयोग की अपील की है।
... और पढ़ें

दो ट्रकों की टक्कर में बाल बाल बचे चालक व खलासी

दो ट्रकों की टक्कर में बाल-बाल बचे चालक
महराजगंज (बस्ती)। फोरलेन पर गड़हा गौतम के पास रविवार की सुबह दो ट्रकें टकरा गईं। हादसे में दोनों के चालक और खलासी सुरक्षित रहें। सूचना पर पहुंची पुलिस ने ट्रकों को सड़क किनारे कराया।
गुजरात से अनार लादकर एक ट्रक चालक संतकबीरनगर जा रहा था। रविवार सुबह करीब छह बजे से कप्तानगंज क्षेत्र के गड़हा गौतम पेट्रोल पंप के पास आगे चल रहे दूसरे ट्रक के चालक ने अचानक ब्रेक लगा दिया। हादसे से बचने में अनार लदा ट्रक अनियंत्रित होकर किनारे खड़े ट्रक के अगले हिस्से में टकरा गया। दूसरे ट्रक की केबिन व खिड़की टूट गई। हादसे में ट्रक चालक अब्दुल कलाम और खलासी निवासी बेलाही थाना महेशगंज जिला प्रतापगढ़ बाल बाल बचे। सूचना पर पहुंची डायल 100 पुलिस ने दोनों ट्रकों को साइड में लगवाकर चालक को सुरक्षित किया। कप्तानगंज के प्रभारी निरीक्षक सौदागर राय ने बताया कि बड़ा हादसा टल गया। मामले में कोई तहरीर नहीं मिली है।
... और पढ़ें

फाइलेरिया: नाइट ब्लड सर्वे में लिए गए तीन हजार नमूने

फाइलेरिया : नाइट ब्लड सर्वे में लिए तीन हजार नमूने
बस्ती। फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम के तहत स्वास्थ्य विभाग नाइट ब्लड सर्वे अभियान चला रहा है। प्रशिक्षित टीमें घर जाकर देर रात में लोगों के खून का नमूना एकत्रित कर रही हैं। अभियान में नगरीय क्षेत्र के दो मोहल्लों सहित छह ब्लॉकों के एक-एक गांव को चयनित किया गया है।
प्रत्येक चिह्नित क्षेत्रों से 500 ब्लड स्लाइड बनाई जाएगी। अभी तक तीन हजार से ज्यादा लोगों के नमूने लिए जा चुके हैं। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर इसकी जांच होगी। पॉजिटिव निकलने वाली सभी स्लाइड व निगेटिव वाली स्लाइड में से 10 प्रतिशत को जांच के लिए जवाहर भवन स्थित एडी मलेरिया कार्यालय स्थित अत्याधुनिक लैब में भेजा जाएगा।
जिला मलेरिया अधिकारी आईए अंसारी ने बताया कि शहर के तुरकहिया व पुरानी बस्ती के पठान टोला मोहल्ले सहित मरवटिया के महसों, कुदरहा ब्लॉक के गायघाट, बनकटी के बेहिल, हर्रैया के थान्हाखास, बहादुरपुर के नगर बाजार व गौर के रघुनाथपुर में सर्वे अभियान चलाया जा रहा है। इसमें से महसों, गायघाट, बेहिल व पठान टोला में सर्वे का काम पहले से चल रहा है। बनकटी के बेहिल, हर्रैया के थान्हाखास व शहर के तुरकहिया मोहल्ले में सर्वे का काम पूरा हो चुका है। अन्य जगहों पर भी एक से दो दिन में काम पूरा हो जाएगा। इसके बाद सभी खून के नमूनों की जांच कराई जाएगी। मलेरिया अधिकारी ने बताया कि 17 फरवरी से फाइलेरिया की दवा खिलाने के लिए डोर-टू-डोर अभियान चलाया जाएगा। इससे पहले नाइट ब्लड सर्वे का काम कराया जाना अनिवार्य होता है।
पिछले साल एक प्रतिशत से कम था एमएफआर
पिछले साल नाइट ब्लड सर्वे की तैयार कराई गई रिपोर्ट में माइक्रो फाइलेरिया रेट (एमएफआर) 0.42 प्रतिशत था। जिला मलेरिया अधिकारी आईए अंसारी ने बताया की एमएफआर का प्रतिशत एक या उससे ज्यादा होने पर माना जाता है कि उक्त जिले में फाइलेरिया का रोग पनप रहा है। फिर उसके लिए अलग से योजना तैयार करनी पड़ती है। उन्होंने बताया कि कुल 4016 स्लाइड बनाई गई थी, जिसमें से 17 की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली थी।
... और पढ़ें

नाली के पानी के विवाद में भिड़ी महिलाएं, तीन घायल

नाली के विवाद में भिड़ीं महिलाएं, तीन घायल
महराजगंज(बस्ती)। नाली के पानी को लेकर महिलाओं में जमकर मारपीट हुई जिससे तीन गंभीर रूप से घायल हो र्गइं। ग्रामीणों ने बीच बचाव के बाद घायलाें को एंबुलेंस से अस्पताल पहुंचाया।
मामला हर्रैया थाना क्षेत्र के लबदहा गांव का है। राधे श्याम और केशरावती के बीच काफी दिनों जमीन विवाद चल रहा था। रविवार दोपहर नाली के पानी को लेकर कहासुनी शुरू हो गई जो बाद में मारपीट में बदल गई। केशरावती और उनकी बेटी अर्चना व रंजना ने लाठी डंडा से राधेश्याम के परिवार पर हमला कर दिया जिससे उर्मिला (45), ननद रीता (30) घायल हो गई। केशरावती (50) को भी चोट लगी है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया है। हर्रैया के प्रभारी निरीक्षक मृत्युंजय पाठक ने बताया कि पुलिस कार्रवाई शुरू कर दी है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं
Coupan
Coupan
Coupan
Coupon

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us