17 साल बाद आया उपभोक्ता फोरम का फैसला

Basti Updated Wed, 29 Jan 2014 05:44 AM IST
बस्ती। उपभोक्ता फोरम में किए गए दावे पर 17 साल बाद फैसला सुनाया गया है। जिला उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष चंद्रनाथ मिश्र व सदस्य गण खुर्शीद हबीब व वंदना मिश्रा ने एसीसी सीमेंट कंपनी के खिलाफ फैसला सुनाया है। फैसले में पीड़ित परिवार को एसीसी कंपनी और अन्य से डेढ़ लाख रुपये क्षतिपूर्ति देने की बात कही गई है।
खबर के अनुसार, कप्तानगंज थाना क्षेत्र के मधवापुर निवासी शत्रुघ्न पांडे, गुजराती, चंद्रावती, शंभू नारायण और उषा की ओर से एडवोकेट विजय सेन सिंह ने उपभोक्ता फोरम के समक्ष एसीसी कंपनी मुंबई द्वारा जनरल मैनेजर, रामकुबेर गुप्त मुसहा बाजार बस्ती, मेसर्स फैजाबाद क्लियरिंग एजेंसी के विरुद्ध क्षतिपूर्ति का परिवाद दाखिल किया। परिवाद में आरोप लगाया गया कि 28 अगसत 1996 को परिवादी शत्रुघन व परिवार के मुखिया रामकृपाल पांडे ने फैजाबाद क्लियरिंग एजेंसी के विक्रता रामकुबेर से पचास बोरी एसीसी सीमेंट व अन्य सामग्री खरीदा और मकान का निर्माण कराया। सीमेंट की गुणवत्ता में कमी के चलते तीन अगस्त 1996 को जब छत का सांचा खोला गया तो मकान का छत क्रेक हो गया। परिवादी शत्रुघ्न के पिता रामकृपाल पांडे पर सीढ़ी का छज्जा गिर गया। उसमें दबकर उनकी मौत हो गई। तबसे परिवादी अब तक फैसले का इंतजार कर रहा था। फैसले के अनुसार विपक्षीगण क्षतिपूर्ति के रूप में परिवादी को एक लाख पचास हजार रुपये नकद और इस धनराशि पर वाद दाखिल की तिथि से पूर्ण भुगतान होने की तिथि तक नौ प्रतिशत वार्षिक साधारण ब्याज देना होगा। इसके अतिरिक्त परिवाद व्यय के रूप में परिवादी गण को पांच हजार रुपये अतिरिक्त देय होगा। समस्त धनराशि का भुगतान एक माह के भीतर अदा करने का निर्देश फोरम ने दिया है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

मरीज की मौत पर परिजन ने सरकारी अस्पताल में किया तांडव

बस्ती के सरकारी अस्पताल में भर्ती एक मरीज की मौत के बाद तिमारदार ने खूब तांडव मचाया। तीमारदार ने अस्पताल में रखी कुर्सी और मेज को फेंकना शुरू कर दिया।

23 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls