विज्ञापन

मेले में दिखी परंपरा और संस्कृति की झलक

Basti Updated Sat, 29 Dec 2012 05:30 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
विक्रमजोत। अमौलीपुर के हुनमान मंदिर परिसर में शुक्रवार को लगे मेले में बड़ी संख्या में लोगों ने पहले पूजा-अर्चना की और बाद में मेले का लुत्फ उठाया। परंपरा और संस्कृति को समेटे इस मेले में पहरुआ, चौका-बेलन की दुकानें लगी थीं तो सर्कस और जादूगरी के खेल दिखाकर लोगों का भरपूर मनोरंजन किया गया।
विज्ञापन
अमोढ़ा के राजा जालिम सिंह की ओर से अमौलीपुर में बनवाए गए प्राचीन हनुमान मंदिर पर वर्षों से मेले का आयोजन होता आ रहा है। इसी कड़ी में शुक्रवार को भी मेला लगा। मेले में उमड़ी भीड़ ने इसका जमकर आनंद उठाया। दूर-दूर से पहुंचे मेला देखने वालों ने पहले मंदिर परिसर के सात कुओं के जल से खुद को अभिसंचित किया और बाद में बजरंग बली की आराधना की। इसके बाद मेला देखने निकल पड़े। फैजाबाद, आजमगढ़, गाजीपुर, बनारस आदि से आए दुकानदारों ने मिठाइयों की दुकानें सजाई थीं। जबकि सर्कस, बच्चों के झूले और जादूगरी के खेल मेले का आकर्षण बने रहे। मेले में लोगों ने परंपरागत जलेबी और उबले सिंघाड़ा का लुत्फ उठाया। कुछ लोग मंदिर में कड़ाही भी चढ़ा रहे थे। एक दिवसीय इस मेले में बस्ती फैजाबाद, अंबेडकर नगर और गोंडा आदि जिले के लोग शामिल हुए। मेले में छावनी थाने की पुलिस मुस्तैद दिखी।
मेले के आयोजन में प्रमुख भूमिका निभाने वाले प्रधान राम सिंह, रामकृष्ण धर द्विवेदी, रणजीत बहादुर सिंह, राजू सिंह, हरिओम सिंह, भानुप्रताप, जंजाली पाल, राम प्रसाद गुप्ता, जगदंबा दूबे, ईश्वरशरण लाल श्रीवास्तव आदि ने बताया कि वर्षों से मेले का आयोजन होता आ रहा है।

लकड़ी के सामानों की खूब होती है बिक्री
यूं तो मेले में खाने के समान से लेकर जरूरत के कई समानों की बिक्री होती है। मगर जो मेले का प्रमुख आकर्षण होता है वह लकड़ी की बनी वस्तुएं होती हैं। मेले में चौका, बेलन, पीढ़ा, पहरुआ, सिंचाई मेें इस्तेमाल होने वाला हाथा, तख्त, दरवाजे, कुर्सी मेज आदि की खूब बिक्री हुई।

खुद आई थीं सरयूजी
पुराने लोगों का मानना है कि मंदिर के महंत रहे बाबा बालक रामदास के देहावसान पर मंदिर परिसर में सरयू नदी खुद बहकर आई थीं और उनकी अस्थियों की राख को अपने साथ बहाकर ले गई थीं। मंदिर के वर्तमान महंत देवदास जी इसकी पुष्टि करते हैं। कहते हैं कि पुराने लोगों ने खुद उन्हें यह जानकारी दी है।

नहीं दिखी भेड़ और तीतर की लड़ाई
अमौलीपुर के मेले में पहले भेड़ और तीतर की लड़ाई हुआ करती थी। जो समय के साथ खत्म होती गई। अब मेले में न तो कोई भेड़ लड़ती है और न ही तीतर।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Gorakhpur

बस्ती: रेलवे ट्रैक पर मिले युवक-युवती के शव, हत्या-आत्महत्या में उलझी पुलिस

शनिवार को पूर्वोत्तर रेलवे के मुंडेरवा और ओड़वारा स्टेशन के बीच स्थित टेढ़ी गिमटी क्रासिंग पर युवक-युवती का शव बरामद हुआ। आसपास के ग्रामीणों ने करीब 50 मीटर के भीतर दोनों का शव देखकर पुलिस और रेलवे प्रशासन को सूचित किया।

17 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

दर्दनाक हादसा : बस में धक्का लगा रहे लोगों को ट्रक ने कुचला

यूपी के बस्ती में एक दर्दनाक सड़क हादसा हुआ है। यहां राष्ट्रीय राजमार्ग - 28 पर सुबह करीब सवा तीन बजे एक ट्रक ने बस में धक्का लगा रहे लोगों को कुचल दिया। देखिए ये रिपोर्ट।

1 अक्टूबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree