स्वास्थ्य शिक्षा कार्यक्रमों की होगी मानीटरिंग

Basti Updated Wed, 17 Oct 2012 12:00 PM IST
बस्ती। स्वास्थ्य योजनाओं की जमीनी हकीकत अब मंडलीय अपर निदेशक खुद परखेंगे। स्वास्थ्य शिक्षा कार्यक्रमाें में बरती जा रही उदासीनता से योजनाओं का लाभ न मिलने से संजीदा एडी ने अब जिलों के भ्रमण के दौरान स्कूलाें में सत्यापन करने का मन बनाया है।
स्वास्थ्य और शिक्षा आम आदमी की पहली जरूरत है। इसी के मद्देनजर सरकारी स्कूलों में शासन ने स्वास्थ्य गतिविधियों के क्रियान्वयन के लिए स्कूल आई स्क्रीनिंग, विकलांग बच्चों के परीक्षण के बाद स्कूल हेल्थ प्रोग्राम संचालित करने का निर्णय लिया, लेकिन पूर्व की योजनाओं का हश्र बहुत अच्छा न देख नवागत अपर निदेशक डा. सुभाष चंद्र ने मंडल के तीनों जिलों में निरीक्षण के दौरान अस्पताल की सुविधा देखने के साथ ही स्कूलाें में चल रहे स्वास्थ्य कार्यक्रमाें की हकीकत जांचने की सोची है। जिले के किसी भी स्कूल में न तो बच्चों का नेत्र परीक्षण किया गया और न ही चश्मों का वितरण। इससे कमजोर नजर वाले छात्रों को मुफ्त चश्मा पाने से वंचित होना पड़ा। वर्ष 2012-13 में किसी भी स्कूलों में परीक्षण न होने से ऐसे छात्रों को निराशा हाथ लगी। समेकित शिक्षा के तहत इन दिनों विकलांग छात्रों का परीक्षण किया जा रहा है। सिर्फ इसी योजना में स्वास्थ्य महकमे की सक्रियता दिख रही है। सीएमओ के निर्देश पर शिक्षा विभाग के साथ सामंजस्य स्थापित कर निर्धारित तिथि पर तीन सरकारी चिकित्सकों की टीम विकलांग छात्रों का परीक्षण कर प्रतिशत के हिसाब से प्रमाणपत्र निर्गत कर रही है। स्कूल हेल्थ प्रोग्राम के अंतर्गत विश्व हैंडवाश दिवस पर सीएमओ ने पत्र जारी कर स्कूलों में स्वच्छता के फायदे से बच्चों को अवगत कराने का निर्देश दिया था, लेकिन उनके जिले से बाहर होने के कारण सोमवार को किसी भी परिषदीय विद्यालय पर डॉक्टर नहीं पहुंचे। प्रभारी बेसिक शिक्षा अधिकारी बृजेश त्रिपाठी ने कहा कि हमने स्वयं इस दिन छात्रों को जागरूक किया। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से कोई सहयोग नहीं मिला। अपर निदेशक स्वास्थ्य ने कहा कि अब महत्वपूर्ण योजनाओं की निगरानी वह स्वयं करेंगे। एक नवंबर से स्कूल हेल्थ प्रोग्राम को विधिवत तरीके से क्रियान्वित किया जाना है। इसके लिए सभी सीएमओ को आवश्यक प्रबंध करने का निर्देश दिया गया है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

मरीज की मौत पर परिजन ने सरकारी अस्पताल में किया तांडव

बस्ती के सरकारी अस्पताल में भर्ती एक मरीज की मौत के बाद तिमारदार ने खूब तांडव मचाया। तीमारदार ने अस्पताल में रखी कुर्सी और मेज को फेंकना शुरू कर दिया।

23 जनवरी 2018