आमी के प्रदूषण पर विधायक ने आवाज उठाई

Basti Updated Wed, 17 Oct 2012 12:00 PM IST
बस्ती। डुमरियागंज के विधायक के बाद अब मेंहदावल के विधायक ने आमी नदी के प्रदूषण पर सवाल उठाया है। आरोप है कि शूगर मिल से निकलने वाले जहरीले रसायन से नदी का पानी प्रदूषित हो रहा है। विधायक लक्ष्मीकांत निषाद ने सीएम से लेकर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और कमिश्नर को पत्र लिखकर उच्चस्तरीय कमेटी से जांच कराने की मांग की है। कमिश्नर ने डीएम को जांच सौंपी है। वहीं मिल के यूनिट हेड प्रभारी गोविंद सिंह ने किसी भी तरह के प्रदूषण से इंकार किया है।
जनपद संतकबीरनगर के मेंहदावल विधानसभा क्षेत्र के विधायक लक्ष्मीकांत (पप्पू) निषाद ने सीएम, प्रमुख सचिव पर्यावरण, कमिश्नर, डीएम और प्रदूषण नियंत्रक बोर्ड को लिखे पत्र में कहा है कि पिछले छह साल से बजाज हिंदुस्तान की इकाई आमी में मिल का स्पेंटवाश (शीरा) नामक कचरा डाल रही है। जिससे लगातार प्राकृतिक जल प्रभावित हो रहा है। नदी किनारे के गांवों का पानी पीने योग्य नहीं रह गया है। कहा गया कि बस्ती ओर गोरखपुर मंडल पहले से ही इंसेफेलाइटिस की चपेट में हैं। हालत यह हो गई है कि पानी के प्रदूषण को देखते हुए आमी नदी के तट पर अब मछली की नीलामी बंद हो गई है। इकाई के परिसर में एक इंटर कॉलेज स्थापित है और इसी परिसर में बायोगैस प्लांट भी स्थापित कर दिया गया। जिससे बच्चों की सेहत पर असर पड़ रहा है। विधायक ने पूछा कि इस प्लांट को लगाने के लिए किस आधार पर एनओसी जारी की गई। उन्होंने उच्चस्तरीय कमेटी से जांच कराने की मांग करते हुए जांच में खुद को शामिल करने की अपील की है। कमिश्नर सुशील कुमार ने बताया कि डीएम बस्ती को जांच कर आख्या देने के निर्देश दिए गए हैं।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

मरीज की मौत पर परिजन ने सरकारी अस्पताल में किया तांडव

बस्ती के सरकारी अस्पताल में भर्ती एक मरीज की मौत के बाद तिमारदार ने खूब तांडव मचाया। तीमारदार ने अस्पताल में रखी कुर्सी और मेज को फेंकना शुरू कर दिया।

23 जनवरी 2018