संक्रामक रोगों का हमला, अस्पताल पटा मरीजों से

Basti Updated Tue, 25 Sep 2012 12:00 PM IST
बस्ती। बदलते मौसम का असर लोगों की सेहत पर भी पड़ा है। संक्रामक रोगों का हमला तेज हो गया है। इससे पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है। जिला अस्पताल के वार्ड हो या ओपीडी गैलरी, हर जगह मरीज भरे हैं। चिल्ड्रेन वार्ड की स्थिति तो और भी गंभीर है।
ओपीडी में सोमवार को वरिष्ठ फिजिशयन डॉ. वीएस त्रिपाठी मरीजों से घिरे रहे। बारह बजे तक पंजीयन काउंटर पर 748 पर्ची कटी थी। इनमें से 125 मरीज सिर्फ डॉ. त्रिपाठी से परामर्श लिए। इसके अलावा तीन दर्जन से अधिक मरीज कक्ष के बाहर नंबर लगाए थे। प्लास्टिक कांप्लेक्स से आए अनिरुद्ध तिवारी (24) बुखार और पेट दर्द से पीड़ित थे। सालेपुर मुंडेरवा के राजाराम, सिविल लाइन के हरिचंद्र शुक्ल (49), राजेंद्र, निर्मला मौसमी बीमारी की गिरफ्त में हैं। कहते हैं पहले भी बुखार हुआ, लेकिन इन दिनों पेट में असहनीय पीड़ा के साथ फीवर है। डा. त्रिपाठी का कहना है इन दिनाें लगभग हर दिन 150-200 मरीज वायरल फीवर, खांसी, जुकाम, पेट दर्द के आ रहे हैं। प्रतिरोधक क्षमता कम होने से लोग जल्दी बीमारी की गिरफ्त में आ रहे हैं। अनियमित दिनचर्या, खानपान पर नियंत्रण न रखना भी प्रमुख वजह है।
इनसेट

एक बेड पर चार-चार मासूम
चिल्ड्रेन वार्ड में 25 बेड हैं। सोमवार को 90 मरीज भर्ती थे। कई बेडाें पर तीन-चार मासूम लिटाए गए थे। मासूमों में सभी बुखार, पेट दर्द, सर्दी-जुकाम से पीड़ित है। कुछ को तेज सिर दर्द की भी शिकायत थी। सिद्धार्थनगर जनपद के मसनाखार के लालचंद्र का ढाई वर्षीय पुत्र आतिश, महुआपार के इंद्रजीत का 12 साल का लड़का दीपक बुखार से पीड़ित है। सेमरा बुजुर्ग के रामउजागिर का पांच वर्षीय पुत्र रामललित को तेज बुखार के साथ झटका और मुंह से झाग आने की शिकायत है। गनेशपुर के रमजान का पांच साल का लड़का अब्दुल करीम, दक्षिण दरवाजा के रज्जब अली का डेढ़ वर्षीय पुत्र एजान और गायघाट के डेढ़ वर्षीय आशू पाठक को भी दो दिन से बुखार ने बेदम कर रखा है। वार्ड के प्रभारी बाल रोग विशेषज्ञ डा. एसके गौड़ का कहना है वार्ड में सीमित संख्या में बेड है। मरीजों की भारी संख्या को देखते हुए सभी का इलाज किया जा रहा है। संसाधन की कमी और तीमारदारों की भारी संख्या से मासूमों के इलाज में असुविधा हो रही है। चिल्ड्रेन वार्ड में हर मासूम मरीज के साथ तीन से चार तीमारदार हमेशा वार्ड में मौजूद रहते हैं, जिससे इलाज में दिक्कत आ रही है। सीनियर स्टाफ नर्स नीता सिंह का कहना है परिजनाें की भीड़ से असुविधा होती है।

इनसेट
कम पड़ते जा रहे हैं बेड
अस्पताल के एसआईसी डा. पीके सिंह का कहना है 40 बेड के चिल्ड्रेन वार्ड में 15 बेड जेई वार्ड और इसी में दस बेड आईसीयू के लिए अलग कर दिया गया है। इससे बेड कम पड़ जा रहे हैं। शासन को अवगत कराया गया है अग्रिम निर्देश मिलने के बाद बेडों की संख्या बढ़ाई जाएगी। सुरक्षा कर्मियाें को वार्ड में तैनात कर तीमारदारों की संख्या नियंत्रित कराने का प्रयास किया जाएगा।

इनसेट
ऐसे करें बचाव
बाल रोग विशेषज्ञ डा. एसके गौड़ का कहना है बदलते मौसम का प्रभाव सबसे अधिक मासूमों पर पड़ता है। परिजन जब भी अलसुबह या देर शाम घर से बाहर निकले मासूमाें को हल्के गर्म कपड़े या मोटे तौलिए में लपेटकर ले जाएं। स्तनपान कराने वाली महिलाएं शीतल पेय का सेवन न करें। साथ ही अपनी दिनचर्या को नियमित कर ताजे भोजन का प्रयोग करें। रोग की चपेट में आने पर फौरन किसी विशेषज्ञ चिकित्सक की सलाह से इलाज कराएं।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

ट्रेन में कर रहा था पाकिस्तान से जुड़ी ऐसी बाते, पुलिस ने लिया हिरासत में

मुंबई से गोरखपुर जा रही कुशीनगर एक्सप्रेस ट्रेन में सफर कर रहे एक संदिग्ध शख्स को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। पुलिस को ये शिकायत ट्रेन में बैठे एक पैरा मिलिट्री के जवान की ओर से मिली थी।

12 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper