विज्ञापन
विज्ञापन

चहुंओर उठ रहा पवित्र भावनाओं का ‘ज्वार’

Basti Updated Thu, 02 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
बस्ती। श्रावण पूर्णिमा के अवसर पर गुरुवार को बहन और भाई के प्रेम का प्रतीक त्योहार मनाया जा रहा है। आज बहनें भाइयों की कलाई पर कच्चा धागा बांधकर उनकी दीर्घायु व प्रसन्नता के लिए प्रार्थना करेंगी ताकि संकट काल में वे अपनी बहन की रक्षा करने में रक्षम रहें। बदले में भाई अपनी बहनों की हर स्थिति में रक्षा के वचन स्वरूप उपहार देता है। प्रेम के इस त्योहार पर रिश्तों की भावनाएं हिलोरे ले रही हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
भाई-बहनों के इस त्योहार को लेकर बुधवार की शाम जमकर खरीदारी की गई। राखी से लेकर मिठाइयों और गिफ्ट आइटम की दुकानों पर जबरदस्त भीड़ देखी गई। बुधवार बंदी के बावजूद गांधीनगर गुलजार था। कमरतोड़ महंगाई के बावजूद रक्षाबंधन के त्योहार के उत्साह में कोई कमी नहीं है। एक ओर बहनें अपने भाइयों के लिए बेहतरीन राखी तलाशती दिखीं तो भाई बहनों के लिए शानदार गिफ्ट खोजते रहे। घर के बडे़ बुजुर्ग श्रावणी पूर्णिमा पर पूजा की तैयारी करते देखे गए। इस दिन बड़ी संख्या में लोग सत्य नारायण की कथा श्रवण करते हैं और हवन पूजन करते हैं। गांधीनगर के सबसे बडे़ राखी के बाजार में खरीदारी करने आई छात्रा स्नेहा ने बताया कि इसमें कोई दोराय नहीं कि निम्न व मध्यम वर्ग तेजी से बढ़ी महंगाई से त्रस्त है, फिर भी त्योहार में उसने पिछले साल से महंगी राखी खरीदी है। राखी विक्रेता सूरज ने बताया कि पटना, कोलकाता, बनारस से थोक राखी की मंडियों में दाम थोडे़ बढ़े हैं। मगर ग्राहकों के लिए इसका कोई मतलब नहीं है।

कई मान्यताओं ने बना दिया ‘कुंदन’
हिंदू पुराण कथाओं के मुताबिक, महाभारत में पांडवों की पत्नी द्रोपदी ने भगवान कृष्ण की कलाई से बहते खून को रोकने के लिए अपनी साड़ी का किनारा फाड़कर बांध दिया था। इस प्रकार वे दोनों भाई बहन के बंधन में बंध गए थे। श्रीकृष्ण ने तब उनकी रक्षा का वचन दिया था। रक्षा का अर्थ है बचाव। मध्य कालीन समय में महिलाएं असुरक्षित महसूस करती थीं। उस समय राखी बांध कर पुरुषों को भाई बनाने का प्रचलन बढ़ा। मुगल बादशाह हुमायूं को एक हिंदू रानी ने शांति प्रस्ताव के साथ उसे भाई मानते हुए राखी भेजा था। उसे बादशाह ने स्वीकार कर उस राज्य पर आक्रमण करने का इरादा त्याग दिया था। ऐसे न जाने कितने तथ्य इस त्योहार से जुड़ते चले गए और बढ़ती गई बंधन के इस त्योहार की महत्ता

ब्राह्मण बदलेंगे यज्ञोपवीत
भाई बहन के प्रेम को मजबूती प्रदान करने वाले पर्व पर सवर्णों खासकर ब्राह्मणों के पुरोहित अपने यजमानों को नया यज्ञोपवीत धारण कराते हैं। साथ ही उन्हें रक्षा का धागा बांधते हैं। ज्योतिषाचार्य पंडित जय प्रकाश द्विवेदी के मुताबिक, इस दिन जनेऊ बदलने से पूरे साल पवित्रता बनी रहती है।

कारागार में भाई-बहनों को मिलेगी ढील
भाई-बहन का महापर्व कारागार में भी मनाया जाएगा। जेल में बंद भाइयों व बहनाें को राखी बांधने-बंधवाने के लिए व्यवस्था बनाई गई है। जेलर बीके मिश्रा के मुताबिक, इस वर्ष भी भाई-बहनों को निराश नहीं किया जाएगा। अगर संख्या अधिक हो गई तो भी बारी-बारी से सभी को राखी बांधने या बंधवाने का मौका दिया जाएगा। मगर इसके लिए नियमित मुलाकात की प्रक्रिया पूरी करनी पडे़गी। उसमें कोई ढील नहीं दी जाएगी।

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

विवाह में आ रहीं अड़चनों और बाधाओं को दूर करने का पाएं समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से
ज्योतिष समाधान

विवाह में आ रहीं अड़चनों और बाधाओं को दूर करने का पाएं समाधान विश्वप्रसिद्व ज्योतिषाचार्यो से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Basti

आयुष्मान में अरुचि, तीन अस्पतालों को नोटिस

जिला व महिला अस्पताल में भी योजना पर सवाल।

21 मई 2019

विज्ञापन

जम्मू-कश्मीर में पुंछ के मेंढर में आईईडी ब्लास्ट समेत 5 बड़ी खबरें

अमर उजाला डॉट कॉम पर देश-दुनिया की राजनीति, खेल, क्राइम, सिनेमा, फैशन और धर्म से जुड़ी खबरें।

22 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election