जनमानस को जीने का मार्ग दिखाया तुलसी ने

Basti Updated Thu, 26 Jul 2012 12:00 PM IST
बस्ती। निराला साहित्य एवं संस्कृति संस्थान की ओर से गोस्वामी तुलसी दास की जयंती मनाई गई। इस अवसर पर संस्थान के अध्यक्ष रामकृष्ण लाल जगमग ने कहा कि मानव रामचरित मानस को आत्मसात कर जीवन के आदर्शों को को स्थायित्व प्रदान का सकता है। उनकी रचना तमसावृत्त रजनी में जगमग दीप जलाया, जनमानस को जीने का नव पंथ दिखाया। नहीं राम को श्रेय राम बनने का, तुलसी को श्रेय राम को राम बनाया, की सराहना हुई। सत्येंद्र नाथ मतवाला ने कहा कि तुलसी की सभी रचनायें मर्मस्पर्शी हैं। डा. राधेरमण यादव ने तुलसी के साहित्य को लोक मंगलकारी बताया। सागर गोरखपुरी ने कहा कि तुलसी ने सर्व समाज को एकता के सूत्र में पिरोने का कार्य किया है। गोष्ठी की अध्यक्षता कर रहे डा. रामदुलारे पाठक ने कहा कि आज के युग की आवश्यकता है कि हम तुलसी के आदर्शों उनके जीवन मूल्यों का अनुसरण करें। उनके आदर्शों को अपनाकर जीवन को सफल बनाया जा सकता है। आधुनिकता के प्रभाव के कारण हम अपने कवियों और महात्माओं को भूलते जा रहे है। डा. सूर्यभान यादव, हरीराम, बाबूराम वर्मा, डा. अफजल हुसैन अफजल, अनवार पारसा, लालजी यादव, डा. सरयू प्रसाद मिश्र, डा. अयोध्या प्रसाद पांडे आदि लोगों ने विचार प्रकट किए।
उधर,गोस्वामी तुलसी दास की जयंती पूर्वांचल सरस्वती शिशु विद्या मंदिर में धूमधाम से मनाई गई। शिशु भारती के अध्यक्ष विवेक गुप्ता ने मां सरस्वती के चित्र पर पुष्पार्पित कर कार्यक्रम की शुरूआत की। इसके बाद छात्राओं ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। तुलसी के जीवन पर ऋषिकेश चौधरी ने विचार रखा। परीक्षा प्रमुख जयप्रकाश पांडे ने गोस्वामी जी के जीवन मूल्यों पर चर्चा कर जीवन में उनके आदर्शों पर चलने की सीख दी। मुख्य अतिथि सत्येंद्र नाथ मतवाला ने कहा कि लाख कष्टों के बावजूद तुलसी दास जीवन के प्रति कभी निराशा नहीं हुए। हम सभी को उनके जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए। अखिलेश चौधरी, अभिन्न प्रताप सिंह, अभिषेक चौधरी, हेमंत दूबे, आदित्य मिश्र, विमल चौधरी, आशुतोष चौधरी, सुनील यादव, जया दुबे, काव्या श्रीवास्तव व रेखा वर्मा ने तुलसीदास के जीवन पर अपने विचार रखे। प्रबंधक हरिप्रसाद त्रिपाठी, जयप्रकाश पांडे, सुनील पांडे, हर्षित राज संगम, मनीराम चौधरी, निरूपमा त्रिपाठी, प्रीति सिंह, वंदना द्विवेदी, सुधा शर्मा, कविता चौधरी आदि मौजूद रहे।

संक्रामक बीमारी से एक मवेशी की मौत
टिनिच। क्षेत्र में संक्रामक बीमारियों से मवेशियों के मरने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। ग्राम धनघटी निवासी लालजी यादव की गाय को सर्रा रोग लग जाने से पशु सेवा केेंद्र आमा पर उसकी मौत हो गई। पशुपालन विभाग क्षेत्र के पशुओं में फैली खुरपका, मुंहपका व सर्रा आदि संक्रामक बीमारियों पर रोक लगाने में नाकाम है। इससे लगभग एक दर्जन मवेशियों की मौत हो चुकी है। भाकियू के मंडल अध्यक्ष जयभारत सिंह ने पशुओं की संक्रामक बीमारियों को रोकने के लिए टीकाकरण कराने की मांग की है। कहा कि पशुपालन विभाग यदि इस पर रोक लगाने में नाकाम रहा तो इसकी शिकायत डीएम से की जाएगी।

Spotlight

Most Read

Bihar

नीतीश के काफिले पर पथराव के बाद जेड प्लस सुरक्षा देगी मोदी सरकार

बिहार के मुख्यमंत्री के काफिले पर कुछ दिनों पहले हुए हमले के मद्देनजर नीतीश कुमार को जेड प्लस श्रेणी सुरक्षा दी जाएगी।

19 जनवरी 2018

Varanasi

मऊ की खबर

20 जनवरी 2018

Related Videos

ट्रेन में कर रहा था पाकिस्तान से जुड़ी ऐसी बाते, पुलिस ने लिया हिरासत में

मुंबई से गोरखपुर जा रही कुशीनगर एक्सप्रेस ट्रेन में सफर कर रहे एक संदिग्ध शख्स को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। पुलिस को ये शिकायत ट्रेन में बैठे एक पैरा मिलिट्री के जवान की ओर से मिली थी।

12 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper