विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

रेड जोन घोषित इलाकों में 60 हजार घरों के लोग चार दिन रहेंगे कैद, अघोषित कर्फ्यू जैसा होगा माहौल

कानपुर में रेड जोन घोषित क्षेत्रों के करीब 60 हजार घरों के लोग चार दिन तक घर से बाहर नहीं निकल पाएंगे। स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम की टीमें जब तक एक-एक घर में पहुंचकर स्वास्थ्य परीक्षण नहीं करा लेतीं इन इलाकों में अघोषित कर्फ्यू जैसा माहौल रहेगा।

6 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

बरेली

सोमवार, 6 अप्रैल 2020

बरेली जोन में सैकड़ों जमाती छिपे होने की आशंका, अब एसटीएफ और आईबी करेगी जांच

खुफिया इनपुट मिलने के बाद तब्लीगी जमात से बरेली और कई जिलों के लोगों की नए सिरे से जांच होगी। तब्लीगी मरकज से मिली सूचनाओं के आधार पर शासन की ओर से पहले यूपी के सिर्फ 157 लोगों की सूची जारी की गई थी, लेकिन अब कई और सूची जारी कर एसटीएफ और आईबी को जांच करने की जिम्मेदारी दी गई है। 

नई सूची में शामिल नाम-पतों की पूरी तरह पुष्टि नहीं की गई है,न लेकिन माना जा रहा है कि बरेली जोन के जिलों में कई जमाती अब तक छिपे हो सकते हैं। एडीजी अविनाश चंद्र ने शनिवार को बताया कि जोन के सभी जिलों में जमातियों की तलाश जारी है और इन्हें खोजकर स्वास्थ्य विभाग के हवाले करने के निर्देश दिए गए हैं। 

दरअसल, तब्लीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज में 15 से 18 मार्च के बीच हुए जलसे में शामिल जमातियों के जरिये देश भर में बड़े पैमाने पर कोरोना संक्रमण फैल जाने के बाद केंद्र के साथ राज्य सरकारों में भी हलचल है। बताया जा रहा है कि मरकज की ओर से प्रारंभिक तौर पर मिली जमातियों के नाम-पतों की सूची के आधार पर ज्यादातर जमातियों का पता नहीं लग पाया। 

इसके बाद माना गया कि यह सूची पूरी तरह दुरुस्त नहीं है। इसमें किसी का नाम, किसी के शहर का नाम तो किसी के मोबाइल नंबर गलत थे। यूपी के जिन 157 जमातियों के नाम इस सूची में थे, उनमें से कई को अब तक नहीं खोजा जा सका है। दिल्ली और दूसरे राज्यों से भी ऐसी ही सूचनाएं मिल रही हैं।

इसके बाद प्रदेश सरकार ने नए सिरे से जमातियों की तलाश कराने का निर्णय लिया है। योगी सरकार ने यह जिम्मेदारी एसटीएफ और आईबी को सौंपी है। बरेली जोन के सभी जिलों में जमातियों की तलाश शुरू कर दी गई है। इस अभियान में बरेली में भी तमाम जमातियों के मिलने की संभावना जताई जा रही है।
 

... और पढ़ें

बदायूं: टिकटॉक दिखाने के बहाने नौ साल की बच्ची से दरिंदगी, नाजुक हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया

नौ साल की बच्ची को नाजुक हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया
एक युवक मोबाइल पर टिकटॉक दिखाने का बहाना करके नौ साल की बच्ची को अपने खंडहरनुमा घर में ले गया और दरिंदगी की। बच्ची के चीखने पर आरोपी मौके से भाग गया। बच्ची ने घर पहुंचकर अपनी मां को घटना की जानकारी दी। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। नाजुक हालत में बच्ची को जिला महिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। यह वारदात शुक्रवार शाम उझानी कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में हुई। घर के सभी लोग खेत पर काम करने गए थे।

नौ साल की बच्ची घर में अकेली थी। तभी पड़ोस में रहने वाला 22 साल का युवक बच्ची को अकेला देखकर घर जा पहुंचा। बच्ची को मोबाइल पर टिकटॉक दिखाने की बात कहकर वह पड़ोस में बने खंडहरनुमा घर में ले गया। पुलिस के मुताबिक युवक ने जान से मारने की धमकी देकर बच्ची से दरिंदगी की। बाद में युवक बच्ची को बदहवास हालत में छोड़कर भाग गया।

पुलिस ने किया आरोपी को गिरफ्तार
शुक्रवार रात करीब नौ बजे सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस के मुताबिक, बच्ची को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया जहां से उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। बच्ची के पिता की तहरीर पर आरोपी आदेश के खिलाफ दुष्कर्म और पॉक्सो एक्ट के तहत रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।
... और पढ़ें

पीलीभीतः नातिन के साथ सर्वे कर रही आशा वर्कर पर हमला, मारपीट

कोरोना वायरस को लेकर गांव में दूसरे प्रांतों से आए लोगों की जानकारी करने के लिए टनडोला गांव में शनिवार को नातिन के साथ सर्वे कर रही आशा वर्कर पर कुछ लोगों ने हमला कर दिया। गाली-गलौज के बाद दोनों की पिटाई की गई।

मामले की नामजद तहरीर पुलिस को दे गई है। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए दूसरे प्रान्तों से वापस आने वाले ग्रामीणों पर निगाह रखी जा रही है। इस काम के लिए आशा वर्करों को भी गांव में लगाया गया है।

पूरनपुर तहसील के ग्राम टनडोला की आशा वर्कर आमना ने कुछ लोगों पर हमला करने का आरोप लगाया है। पुलिस को दी तहरीर में बताया कि शनिवार को वह अपनी नातिन निशा बी के साथ गांव में सर्वे कर रही थीं। इस बीच कुछ दबंग लोग गाली गलौच करने लगे।

विरोध करने पर पीड़िता और उसकी नातिन की पिटाई कर दी। पुलिस से शिकायत करने पर जान से मारने की धमकी देकर भाग गए। आशा वर्कर ने नामजद तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है। बताते हैं कि इस गांव में भी कई लोग दूसरे प्रान्तों से आए हैं। सीओ पूरनपुर योगेंद्र कुमार ने बताया कि आशा वर्कर का मेडिकल कराकर कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। मामले की गंभीरता से जांच कराई जाएगी।

दूसरे प्रांतों से आए लोगों की जानकारी करने को आशा वर्कर लगाई गई हैं। टनडोला गांव में सर्वे दौरान आशा वर्कर की कुछ लोगों ने पिटाई कर दी। इसकी शिकायत कोतवाली में कराई है।
- डॉ. छत्रपाल, एमओआईसी पूरनपुर सीएचसी
... और पढ़ें

221 जमाती तो सिर्फ बरेली और आसपास के निकले

अपर मुख्य सचिव गृह ने जारी की थी 148 की सूची, सूबे में 1302 जमाती माने थे, देशभर के 19 हजार नंबर किए गए सर्च
जोन कार्यालय के आंकड़ों के मुताबिक बरेली जोन में 221 जमाती

बरेली। तब्लीगी जमात से लौटे लोगों ने पूरे देश में हलचल मचा रखी है। लखीमपुर खीरी में तीन जमातियों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि के बाद और हड़कंप मच गया है। कुछ दिन पहले तक प्रदेश में 157 जमातियों के होने की बात कही जा रही थी। मगर अब शासन से जारी आंकड़ों के मुताबिक पूरे प्रदेश में 1302 तब्लीगी जमाती ट्रेस किए गए हैं। बरेली जोन में ये आंकड़ा 148 जमातियों का है, लेकिन जोन कार्यालय से मिले अपडेट के मुताबिक, 221 जमाती सिर्फ बरेली और उसके आसपास के क्षेत्र के हैं। एडीजी के निर्देश पर बरेली जोन में छिपे जमातियों को ट्रेस किया जा रहा है।
तब्लीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज में 15 से 18 मार्च के भीतर हुए जलसे में शामिल जमातियों से देशभर में बड़े पैमाने पर कोरोना संक्रमण फैल गया। इसके बाद से देशभर में हलचल मची हुई है। इन जमातियों को ट्रेस करने की कोशिश की जा रही है। अब शासन एसटीएफ के माध्यम से निजामुद्दीन इलाके में मरकज में हुए जलसे के वक्त वहां मौजूद रहे लोगों की लोकेशन ट्रेस करा रहा है। इसके लिए वहां के बीटीएस टावर की मदद ली जा रही है। कुल 19 हजार से ज्यादा नंबर अब तक ट्रेस किए गए हैं, जो उस वक्त निजामुद्दीन इलाके में एक्टिव थे। अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने शनिवार को जो आंकड़े जारी किए उनके मुताबिक पूरे प्रदेश में 1302 तब्लीगी जमाती हैं। इनमें बरेली जोन में भी 148 जमाती चिह्नित हुए थे। एडीजी जोन कार्यालय में लगातार इस बारे में अपडेट मिल रहे हैं। रविवार तक मिली जानकारियों के अनुसार, बरेली और आसपास के क्षेत्र में करीब 221 तब्लीगी जमाती चिह्नित हुए हैं। इनमें बिजनौर, मुरादाबाद और बरेली के जमाती हैं। एडीजी के आदेश पर मस्जिदों व मदरसों में इनकी तलाश कराई जा रही है।

बदायूं और शाहजहांपुर में हड़कंप

बदायूं के सहसवान कस्बे की दो मस्जिदों में भी 22 बाहरी तब्लीगी जमाती मिले हैं। इनमें वडाला, तेलंगाना और बुलंदशहर के लोग हैं। सूत्रों के मुताबिक, ये जमाती निजामुद्दीन मरकज से होकर लौटे थे और इस्लामिक प्रचार प्रसार करने सहसवान में आकर रुके थे। अब इन्हें क्वारंटीन किया गया है। हालांकि अभी तक बदायूं प्रशासन ने इस बात की पुष्टि नहीं की है। शाहजहांपुर में निजामुद्दीन होकर लौटे थाईलैंड निवासी जमाती के पॉजिटिव मिलने के बाद हलचल बढ़ गई है। शाहजहांपुर में उसके रहने के दौरान संपर्क में आए लोगों की जांच की जा रही है।

निजामुद्दीन से लौटा बरेली का युवक मथुरा में मिला

दिल्ली निजामुद्दीन इलाके के बीटीएस टावर से जमात के दिनों में वहां सक्रिय मोबाइल नंबरों के जरिए निकाली जा रही लोकेशन में बरेली से जारी सिम नंबर मिलने से सनसनी फैल गई। जांच में नंबर कोतवाली के बिहारीपुर निवासी युवक का मिला। फिर तफ्तीश हुई कि कहीं हर्षित की आईडी पर किसी जमाती ने तो सिम नहीं निकलवा लिया। लोकेशन ट्रेस की तो वह मथुरा आई। लखनऊ एसटीएफ ने बरेली पुलिस से संपर्क किया तो पता लगा कि युवक कई साल पहले परिवार समेत मथुरा जाकर बस गया है। वह करीब पांच महीने से बरेली नहीं आया। जांच में पता लगा कि उन दिनों में वह किसी काम के सिलसिले में दिल्ली निजामुद्दीन इलाके में गया था। एहतियात के तौर पर उसे क्वारंटीन में रहने को कहा गया है।

होटल मैनेजर का भी आ गया नंबर

बारादरी क्षेत्र निवासी एक युवक दिल्ली में निजामुद्दीन इलाके के एक नामी होटल में मैनेजर है। उसका नंबर भी सूची में ट्रेस हो गया था। हालांकि वह लॉकडाउन से पहले ही बरेली में अपने घर आ गया था। नंबर के आधार पर बरेली क्राइम ब्रांच ने उसे ट्रेस किया तो पता लगा कि उसके होटल की मरकज से काफी दूरी है। युवक स्वस्थ है, इसकी रिपोर्ट भेज दी गई।

‘शासन से बरेली जोन के 148 जमातियों की सूचना जारी की गई है जिनकी लोकेशन उस वक्त निजामुद्दीन इलाके में आ रही थी। लगातार अपडेट आ रहे हैं। बरेली जिले में अभी किसी जमाती की लोकेशन नहीं मिली है, मगर नई लिस्ट में ये हो सकता है। दूसरे जिलों व शहरों की तब्लीगी जमातों से बरेली लौटे लोगों को प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की मदद से उनके घरों में ही क्वारंटीन करा दिया गया है।’

- अविनाश चंद्र, एडीजी बरेली जोन
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो

दरगाह ने बदनाम करने वालों पर लगाई पाबंदी

एसएसपी को पत्र लिखकर की कार्रवाई की मांग

बरेली। हजरत शाहदाना वली की दरगाह ने बदनाम करने वालों पर पाबंदी लगा दी है। दरगाह के मुतवल्ली अब्दुल वाजिद खां उर्फ बब्बू मियां ने बताया दरगाह पर रुहानी इलाज के लिए मरीज आते हैं। इसमें बाहरी शहरों के मरीज लॉक डाउन में रुक गए थे। इसके लिए उन्होंने सिटी मजिस्ट्रेट और थाना इंचार्ज को पत्र लिख कर अवगत करा दिया था। अब से दो दिन पहले पुलिस ने दरगाह से उनके घरों को भेज दिया है। इस मामले में कुछ समाचार पत्र और न्यूज चैनलों ने दरगाह को बदनाम करने की कोशिश की है। अब दरगाह कमेटी ने उन लोगों पर दरगाह में घुसने पर पाबंदी लगा दी है।
मुतवल्ली बब्बू मियां का कहना है कि , तब्लीगी जमात का दरगाहों से कोई वास्ता न कभी रहा है न ही अब है। तब्लीगी जमात सिलसिले के लोग दरगाहों और मजारों को नहीं मानते और न ही वहां जाते हैं। इस मामले में उन्होंने एसएसपी को एक पत्र भी लिखा है, जिसमें चैनल और समाचार पत्र वालों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। अन्यथा वह अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे।
... और पढ़ें

बाजार में दीये और मोमबत्ती खरीदने को उमड़े लोग

व्यापारी बोले, धन्यवाद मोदी जी, हमारा पुराना स्टॉक भी क्लियर हो गया
प्रधानमंत्री के दीपक और टॉर्च की फ्लैश लाइट जलाने की अपील का शहर में व्यापक असर दिखा

बरेली। कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए किए जा रहे प्रयासों के बीच दो दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता से रविवार रात नौ बजे, नौ मिनट के लिए अपने घरों की लाइट बंद करने का आग्रह किया था। इसके तहत नौ मिनट सिर्फ घरों के बाहर और बालकनी पर मोमबत्ती, दीये, मोबाइल व टॉर्च फ्लैश लाइट से रोशनी करना है। इस दौरान घरों के अन्य उपकरण यथावत चालू रखने को कहा गया है। लोगों ने इस आह्वान को देखते हुए बाजारों में मोमबत्ती और दीयों की खूब खरीदारी की। ग्राहकों ने मोमबत्ती आदि की खरीदारी सुबह दस बजे से पहले ही कर ली। बाद में स्थिति ये हो गई कि व्यापारियों की दुकानों का स्टॉक ही खत्म हो गया। इसलिए ज्यादातर लोगों ने दीये खरीदे।
रविवार सुबह से ही बाजारों में मोमबत्ती की मांग बढ़ गई। श्यामगंज, कुतुबखाना, सुभाषनगर, कैंट, राजेंद्र नगर, किला, सीबीगंज आदि इलाकों में लोगों ने नौ मिनट प्रकाश पर्व मनाने के लिए मोमबत्तियां खरीदीं। कालीबाड़ी, बानखाना आदि इलाकों में दीपक की खूब खरीदारी हुई। दीपक बनाने वाले लोगों का कहना था कि बेमौसम दीपकों की खरीदारी से हमारी आमदनी बढ़ गई है। क्योंकि दीपकों का इस्तेमाल ज्यादातर दीपावली पर ही होता है। बोले, पीएम मोदी के आह्वान का हमें आर्थिक फायदा हुआ है। दुकानदारों ने मोदी का आभार जताते हुए कहा कि मोमबत्ती की अचानक मांग बाजार में बढ़ी। लोगों ने इसकी खरीदारी शनिवार से ही शुरू कर दी थी, लेकिन रविवार को ज्यादा मांग बढ़ गई। इससे उनका पुराना स्टॉक भी क्लियर हो गया।
बाजारों में 50 रुपये सैकड़ा से लेकर 60 रुपये सैकड़ा तक दीये बिके। कोहाड़ापीर पर दुकान लगाने वाली गायत्री प्रजापति ने बताया कि रविवार सुबह से दोपहर तक उन्होंने पांच हजार से भी ज्यादा दीपक बेचे। वहीं बिहारीपुर में डलाव वाली मठिया पर दुकान लगाने वाले बब्बू ने बताया कि मोहल्ले में रोज से कुछ ज्यादा ही दीपक बिके, लेकिन लोगों ने उत्साह नजर आया।
... और पढ़ें

मुस्लिम ने भी घरों पर किया चिरागां, गूंजी सलाम व आजान की आवाज

दुआइया कलाम और सलाम पढ़ कर दुनिया के लिए मांगी दुआ

बरेली। कोरोना को लेकर चल रहे लॉक डाउन के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दिया मोमबत्ती जलाने की अपील का असर मुस्लिमों में भी दिखा। तमाम लोगों ने अपने घरों पर मोमबत्तियां जला कर दुआएं मांगी। मस्जिदों से लेकर घरों तक अजान तो कहीं सलाम की आवाज भी गूंजती सुनाई दी।
खास तौर से बात करें तो अमर उजाला के पीछे सेमलखेड़ा में तमाम घरों में रोशनी दिखाई दी। इसमें जुनेद खां, यासिर, आमिर, सैय्यद फर्रुख, सैफ खान, सैय्यद जामिन, अब्दुल वसीम, सैय्यद सलीम आदि ने अपने घरों की लाइटें बंद कर मुढे़र पर मोमबत्तियां और लालटेन रोशन कीं। यहीं पर सभी ने कतारबद्ध खड़े हो कर पहले दुआइया कलाम पढ़ा और आला हजरत का सलाम पढ़ने के बाद पूरी दुनियां की हिफाजत और बीमारों की सेहत के लिए दुआ की।
इसके अलावा रुहेलखंड वेलफेयर ट्रस्ट के सचिव नाजिम बेग ने भी अपने घर पर चिरागां किया। उन्होंने खुशबुओं के चिराग के साथ मोमबत्ती और टार्च भी रोशन किए। साथ ही कोरोना जैसी महामारी से बचने के लिए दुआए खैर की। इसी तरह जखीरा में सफदर अली काजमी, अजादार हुसैन काजमी, मुजफ्फर हुसैन काजमी, शानू काजमी आदि ने भी अपने घरों पर मोमबत्तियां जला कर कोरोना से निजात के लिए दुआ मांगी।
इसी क्रम में एक तरफ जहां आला हजरत हेल्पिंग सोसाइटी की अध्यक्ष निदा खान ने अपने घर पर अंधेरा कर मोमबत्तियों से रोशनी किया और दुआ मांगी, वहीं खन्नू मोहल्ले की रहने वाली आठ वर्षीय अदीना फातिमा ने भी मोमबत्ती रोशन कर खुदा से दुआ मांगी। राष्ट्रीय मुस्लिम महिला मोर्चा की अध्यक्ष एवं केपीआरसी कला केंद्र की प्रधानाचार्य नाहिद सुल्ताना ने भी दीप जला कर कोरोना से निजात की दुआ की। इसके अलावा पुराना शहर की कई मस्जिदों और घरों से आजान की आवाजें भी गूंजी।
... और पढ़ें

केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार और भाजपा ने किया प्रकाश

रोशनी करते मुस्लिम बच्चे।
बरेली। केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने दिल्ली स्थित अपने सरकारी आवास पर पारिवारिक सदस्यों के साथ नौ मिनट तक मोमबत्तियां और दीये जलाकर प्रकाश किया। इस मौके पर आवास परिसर की सभी लाइटें बंद कर दी गई थीं।
उधर, भाजपा ने जिले भर में प्रकाश कर जश्न मनाया और आतिशबाजी कर संकल्प लिया। शहर अध्यक्ष डॉ. केएम अरोरा, जिलाध्यक्ष पवन शर्मा, विधायक डॉ. डीसी वर्मा, डॉ. अरुण कुमार, पदाधिकारी रविंद्र सिंह राठौर, पवन अरोरा, अधीर सक्सेना, ललित अवस्थी, गुलशन आनंद, राहुल साहू, आदेश प्रताप सिंह, डॉ. राजेंद्र चौधरी, वीरेंद्र अटल आदि ने प्रकाश पर्व मनाया।
शहर में विभिन्न स्थानों पर नारों के बीच प्रधानमंत्री के आह्वान पर रामपुर बाग, साहूकारा, बजरिया मोती लाल, पुराना शहर, राजेंद्रनगर और ग्रीन पार्क में लोगों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया और प्रकाश पर्व मनाया गया। साहूकारा मोतीलाल बजरिया में दानों वाली गली में प्रियांशी, प्रतीक्षा, राहुल, रचित, खुशी, अदवित दक्ष, आदि नेे घरों की सभी लाइटें बनकर दीयों से स्वास्तिक बनाया और मोबाइल फ्लैश से रोशनी की। जगतपुर क्षेत्र में सुरेश कुमार, डॉ. जयप्रकाश, असलम खां राजू समेत कई लोगों ने रोशनी और आतिशबाजी कर उत्साहवर्धन किया। राजेंद्रनगर में दुर्गेश खटवानी, विनय कुमार, कृष्णा काउंटी में प्रेमबाबू शर्मा, कैंट में ललित अवस्थी, ग्रीन पार्क में अवधेश पांडे, साईं स्टेट कॉलोनी में सुनील खंडेलवाल, पशुपति विहार कॉलोनी में रेणु सिंह, सीमा शर्मा ने आतिशबाजी कर रोशनी की। एडीजीसी (क्राइम) सोनी बी मलिक ने भी घर पर मोमबत्ती और दीये जलाए। उद्यमी घनश्याम खंडेलवाल, दिनेश गोयल, सुरेश सुंदरानी, सतीश अग्रवाल, विभोर गोयल, पंकज अग्रवाल, एलपीजी डीलर एसोसिएशन अध्यक्ष रंजना सोलंकी, पेट्रोलियम डीलर एसोसिएशन अध्यक्ष अशोक गुप्ता ने भी रोशनी की। व्यापारी नरेंद्र गुप्ता पप्पू, अनुपम कपूर, राजेंद्र गुप्ता, श्याम कपूर, राजू खंडेलवाल आदि ने दीये जलाए।
... और पढ़ें

बिजली की ट्रिपिंग बढ़ी, ट्रांसफार्मर में लगी आग

दिन भर दर्जनों बार ठप रही सप्लाई, लोग रहे परेशान

बरेली। लॉकडाउन में बिजली सिस्टम और लाइनों पर ट्रिपिंग की समस्या बढ़ती जा रही है। लाइनों पर अचानक लोड भी बढ़ा है। रविवार को पुराना बस स्टेशन के सामने एक गली में ट्रांसफार्मर की केबल फुंक गई थी, जिससे सप्लाई कई घंटे बाधित रही। किसी तरह दमकल स्टाफ ने इस पर काबू पाया।
रविवार को पूरे दिन दर्जनों दफा ट्रिपिंग होने से लोग परेशान हुए। पिछले कई दिनों से यह सिलसिला जारी है। ट्रिपिंग के साथ ही ओवरलोडिंग समस्या भी बढ़ रही है। पुराना बस स्टेशन के सामने गली में एक ट्रांसफार्मर की केबल में आग लग गई, जिससे कई घंटे क्षेत्र की सप्लाई बाधित रही। लोगों की सूचना पर पहुंची दमकल टीम ने कुछ ही देर में आग पर काबू पा लिया। गनीमत रही कि ट्रांसफार्मर नहीं फुंका। शाम करीब छह बजे सप्लाई सुचारू करा दी गई।

ट्रिपिंग क्यों हो रही है, इसकी जांच कराएंगे, क्योंकि ओवरलोडिंग की कोई समस्या नहीं है। पुराना बस अड्डे के सामने गली में लगे ट्रांसफार्मर की केबल में आग लग गई थी, लेकिन ट्रांसफार्मर सही है, जिसे शाम छह बजे शुरू करा दिया गया है।

- तारिक जलील, एसई
... और पढ़ें

2409 घरों का किया सर्वे, आठ सैंपल लिए गए

सर्वे में शामिल रहीं 26 टीमें, निगेटिव रहा स्वालेनगर निवासी कोरोना संदिग्ध युवक का सैंपल

बरेली। कोरोना संक्रमित परिवार को आइसोलेट किए जाने के बाद चल रही स्क्रीनिंग के दौरान सुभाषनगर में रविवार को 26 टीमों ने 2409 घरों का सर्वे किया। इस दौरान तीन संदिग्ध मामले मिलने पर सभी को क्वारंटीन कर दिया गया। इसी के साथ अब तक 16 हजार से ज्यादा घरों का सर्वे कार्य पूरा हो चुका है।
रविवार को सुभाषनगर में मिले आठ संदिग्ध मामलों के सैंपल जांच के लिए केजीएमयू भेजे गए हैं। सुभाषगनर में कुछ लोग क्वारंटीन किए जाने के बाद भी घरों से बाहर निकलकर घूमते मिलने पर उन्हें चेेतावनी देकर घर पहुंचाया गया। डॉ. मीसम अब्बास ने बताया कि सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में चल रही स्क्रीनिंग में रविवार को दो टीमों ने 52 संदिग्ध मरीजों की काउंसलिंग की और जरूरत के मुताबिक परामर्श दिया। इसके अलावा रविवार को सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल में सैंपल भी लेने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। बताया कि देर रात स्वालेनगर के रहने वाले एक युवक का सैंपल जांच के लिए केजीएमयू भेजा गया था। जिसकी रिपोर्ट देर रात निगेटिव आई है। ब्यूरो
... और पढ़ें

राशन कम मिलने से हजारों कार्डधारक परेशान, बगैर बताए काट दी गईं यूूनिट

लॉकडाउन में गरीबों का बढ़ा दर्द, पूर्ति विभाग का कहना है कि रिपीट नाम ही काटे गए

बरेली। लॉकडाउन में खाली हाथ बैठे हजारों गरीब परिवार कोटे पर राशन कम मिलने से परेशान हैं। उपभोक्ताओं को पता भी नहीं चल रहा और उनके कार्डों से यूनिट कम कर दी गई हैं। ऐसे में दो वक्त की रोटी के लिए मोहताज परिवारों का दर्द और बढ़ गया है। हालांकि पूर्ति विभाग का कहना है कि एक व्यक्ति के दो नाम अलग-अलग जगहों पर दर्ज थे। ऐसे रिपीट नामों को ही हटाया गया है।
एक अप्रैल से कोटे की दुकानों पर अंत्योदय और पात्र गृहस्थी के तहत करीब नौ लाख कार्डधारकों को राशन का वितरण किया जा रहा है। इसमें तमाम जगहों से कार्डधारकों ने यह शिकायत की है कि जब वह कोटे पर राशन लेने गए तो उन्हें पता चला कि उनके कार्ड से कई यूनिट काट दी गई है। इस वजह से मिलने वाले राशन में भी काफी कटौती कर दी गई है। कार्डधारकों की शिकायतें है कि कोटेदार पहले ही दो-तीन किलो राशन कम देता था। अब यूनिट कटने से राशन की मात्रा और भी कम हो गई है। बाकरगंज, बारीनगला, किला, सुभाषनगर, संजयनगर सहित कोटे की कई दुकानों के उपभोक्ताओं ने इसकी शिकायत पूर्ति और प्रशासन के अधिकारियों से की है। हालांकि सप्लाई विभाग के अधिकारियों का कहना है कि जिले में 99 हजार अंत्योदय और करीब आठ लाख पात्र गृहस्थी के राशनकार्ड हैं। हाल में इन राशनकार्डों की जांच कराई गई थी, जिनमें करीब 7000 हजार नाम ऐसे मिले थे, उनके दो जगहों राशनकार्डों में अलग-अलग नाम दर्ज थे। ऐसे लोगों को चिह्नित करके उनके नाम हटाए गए हैं।
अब काफी हद तक अप्रैल का राशन वितरित हो चुका है। जहां तक कार्डों से यूनिट कम होने की बात है तो जिनके नाम दो जगहों पर दर्ज थी, उन्हें ही हटाया गया है। -सीमा त्रिपाठी, जिला पूर्ति अधिकारी

महिलाओं ने शिकायत की.. कार्ड से मेरे बच्चों के नाम काट दिए

बाकरगंज में रेलवे फाटक के पास कोटेदार के यहां मौजूद लोगों ने कार्ड से कई यूनिट काटने की शिकायत की। महिला जागृति मंच की अध्यक्ष मनु नीरज के पहुंचने पर कार्डधारकों ने इसकी लिखित आपत्ति भी दी है। विमलादेवी ने बताया कि कार्ड से उनके दोनों बच्चों के नाम काट दिए गए हैं। मल्लो देवी, कमलेश ने भी कार्ड में कई सदस्यों के नाम हटा देने की शिकायतें की। मनु नीरज ने बताया कि उन्होंने इस बारे में कोटेदार बलवीर सिंह से पूछा लेकिन वह संतोषजनक जवाब नहीं दे सके। उनका कहना है कि वह जल्द ही इस बारे में डीएम और डीएसओ से भी बात करेंगी।

ऑनलाइन आवेदन करने वाले 2000 लोगों को भी मिलेगा राशन

राशनकार्ड के लिए शासन की वेबसाइट पर करीब दो हजार लोगों ने ऑनलाइन आवेदन किया था। लॉकडाउन में राहत देते हुए पूर्ति विभाग ने इन्हें राशन देने का फैसला लिया है। डीएसओ सीमा त्रिपाठी ने बताया कि इन्हें पर्ची पर राशन दिया जाएगा। इनके लिए कार्ड शासन से बाद में आएंगे।

किला छावनी से भी राशन कम देने की शिकायतें

किला छावनी से भी कई कार्डधारकों ने अधिकारियों से शिकायत की है कि उन्हें कम राशन दिया जा रहा है। पहले एक यूनिट पर तीन किलो गेहूं और दो किलो चावल मिलता था, उनकी मात्रा भी घटाकर दी जा रही है।

भीड़ कम हुई लेकिन खतरा अभी बरकरार

एक अप्रैल से कोटे की दुकानों पर राशन वितरण हो रहा है। इसलिए कोटे की दुकानों पर पहले के मुकाबले भीड़ छंटने तो लगी है, लेकिन कई और जगहों पर लोगों से एक-दूसरे के बीच पर्याप्त दूरी न बनाए रखने पर संक्रमण का खतरा अभी भी बना है। बाकरगंज, ईदगाह, बारीनगला, संजयनगर सहित कई जगहों पर अभी भी सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन हो रहा है।

कालीबाड़ी की महिलाओं ने राशन न मिलने की शिकायत की

कालाबाड़ी की प्रीतम, मुन्नी देव, मनषादेवी सहित कई महिलाओं ने शिकायत की कि कोटेदार उन्हें राशन नहीं दे दहा है। कई दिनों से चक्कर काट रही हैं लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही।
... और पढ़ें

कम्युनिटी किचन से हर दिन बांटे जाएंगे 2000 खाने के पैकेट

बरेली। लॉकडाउन के दौरान गरीब और जरूरतमंदों के लिए सदर तहसील में बनाए गए कम्युनिटी किचन में अब रोजाना दो हजार खाने के पैकेट बनाकर बांटे जाएंगे। एसडीएम सदर ईशान प्रताप सिंह ने इतनी बड़ी मात्रा में लोगों को हर दिन खाने की व्यवस्था करने के निर्देश तहसील के स्टाफ को दिए हैं।
लॉकडाउन में पब्लिक की दिक्कत को देखते हुए शासन ने भी तहसीलों में कम्युनिटी सहित अन्य व्यवस्थाओं के लिए करीब 16 करोड़ का बजट स्वीकृत किया है। डीएम नितीश कुमार ने सभी तहसीलों को पहली किस्त के तौर पर 25-25 लाख रुपये का बजट भी आवंटित कर दिया है। इस धनराशि से सदर तहसील में भी कम्युनिटी किचन की शुरूआत हुई है। पहले यहां हर दिन दो से ढाई सौ ही भोजन के पैकेट तैयार हो रहे थे, लेकिन एसडीएम ईशान प्रताप सिंह ने इसकी मात्रा बढ़ाते हुए तहसीलदार आशुतोष गुप्ता से हर दिन दो हजार भोजन के पैकेट भिजवाने के निर्देश दिए हैं।
रविवार को यहां से हरूनगला शेल्टर होम में 150, वीर सावरकर नगर और डेलापीर के पास 200, सदर तहसील में 235 सहित सुभाषनगर, कटरा चांद खां, नवादा शेखान सहित कई जगहों पर खाने के पैकेट भिजवाए गए हैं। सभी लेखपालों को राशन व भोजन वितरण के फोटोग्राफ भेजने के भी निर्देश हैं।

मदद और शिकायत के लिए यहां करें फोन

सदर तहसील - 0581-2510385, 9454417203, 9454418005, बहेड़ी तहसील- 05822-221042, 9454417204, 9454418006, आंवला तहसील- 05823-222444, 9454417999, 9454418007, नवाबगंज तहसील- 05825-226027, 9454418001, 9454418008, फरीदपुर तहसील- 05821-224501, 9454418002, 9454418009, मीरगंज तहसील-8077509403, 9454418003, 9454418010
... और पढ़ें

कोरोना से जंग लड़ने को शहरवासियों ने जलाए दीये: सिटी

दीयों की रौशनी से जगमगाया शहर, मोहल्ले की हर गली और कॉलोनियों में दिखा देशप्रेम

बरेली। कोरोना वायरस से चल रही जंग में लाइट फॉर यूनिटी का संदेश देने के लिए शहरवासियों ने बढ़चढ़कर अपना योगदान दिया। कहीं चराग तो कहीं दीये जलाकर गंगा जमुनी तहजीब और सांप्रदायिक सौहार्द का परिचय दिया। इस दौरान जय श्री राम और भारत माता की जय के गगनभेदी जयघोष से शहर गुंजायमान हो उठा। लोगों ने लाइट फॉर यूनिटी में अपनी हिस्सेदारी की तस्वीरें क्लिक कर उन्हें सोशल मीडिया पर वायरल कर खूब तारीफें भी बटोरीं।
रविवार को सुबह से ही रात नौ बजने का इंतजार शहरवासियों को था। रात नौ बजने से पहले ही घरों में दीयों को रौशन करने को लेकर चहल पहल शुरू हो गई। नौ बजते ही घर मंदिर बन गया और शहर में दीपावली जैसा नजारा दिखाई देने लगा। पीलीभीत बाईपास स्थित कॉलोनियों में लोगों ने घरों की छतों पर मोमबत्ती और दीये जलाए। सतीपुर के शिव मंदिर को दीयों से बेहद ही खूबसूरत तरीके से सजाया गया था। सुरेश शर्मा नगर में लोग थालियां और घंटी भी बजा रहे थे। कांकरटोला पुलिस चौकी भी गुलजार थी। इसके अलावा मॉडल टाउन, सनसिटी विस्तार, नॉर्थ सिटी, नॉर्थ सिटी एक्सटेंशन, महानगर, सिविल लाइंस, संजय नगर, पवन विहार, भरतौल, हरुनगला शेल्टर होम, कांकरटोला, कुर्मांचल नगर, स्वालेनगर आदि सभी इलाके दीये की रौशनी से गुलजार रहे।

कोरोना भगाओ, देश बचाओं का संदेश

कांकरटोला थाना क्षेत्र में एक महिला ने दीयों के जरिए कोरोना भगाओ, देश बचाओ लिखकर बेहद आकर्षक तरीके से लाइट फॉर यूनिटी का हिस्सा बनीं। हरुनगला शेल्टर होम, अनाथालय आदि में रह रहे बेसहारों ने भी पीएम मोदी के अभियान में शामिल होने का संदेश दिया। भरतौल में भारत के आकार से सजावट कर दीये जलाए तो मानो पूरा भारत जगमग हो गया। कमोवेश ऐसा ही नजारा शहर के हर इलाके का रहा। बच्चे, बुजुर्ग, नौजवान सभी ने अपनी भागेदारी दी।

दीपावली सा रहा नजारा, पटाखे भी जले

लाइट फॉर यूनिटी में दीये, मोमबत्ती, मोबाइल की फ्लैश लाइट या टॉर्च से रौशन करने की अपील थी। मगर, इससे एक कदम आगे जाकर लोगों ने दीपावली ही मना ली। दीयों से घर जगमग करने के बाद पटाखे भी जलाए। पटाखे जलाने पर बीसीबी के एमिरेट प्रोफेसर डॉ. डीके सक्सेना का कहना है कि खुशियों को अपने तरीके से लोगों ने जाहिर किया। बताया कि दीपावली की अपेक्षा एक फीसद भी पटाखे नहीं जले हैं। ऐसे में प्रदूषण के स्तर में कोई खास बढ़त नहीं दर्ज होगी।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us