विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
मनचाहा जीवनसाथी  पाने के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा - 24 अगस्त 2019
Astrology Services

मनचाहा जीवनसाथी पाने के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा - 24 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

योगी मंत्रिमंडल का पहला विस्तार आज, इन विधायकों की खुल सकती है किस्मत

योगी आदित्यनाथ मंत्रिपरिषद का पहला बहुप्रतीक्षित विस्तार और फेरबदल बुधवार को होगा। विस्तार में टीम योगी में एक दर्जन से अधिक नए चेहरे शामिल किए जाएंगे।

21 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन

बरेली

बुधवार, 21 अगस्त 2019

पत्नी से मांगा रुपया, न देने पर दिया तीन तलाक

बरेली। तीन तलाक को लेकर मुस्लिम महिलाओं के उत्पीड़न का एक और मामला सामने आया। अब कोतवाली क्षेत्र की जरदोजी का काम करने वाली एक महिला ने पति के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है। महिला के मुताबिक वह जरदोजी का काम करती है। जुआ और नशे के लती पति ने खर्च के लिए रुपये न देने पर उन्हें तीन तलाक दे दिया। इसके बाद पीटकर घर से बाहर कर दिया। एसपी क्राइम के आदेश पर आरोपी के खिलाफ कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज की गई है।
कोतवाली क्षेत्र के बिहारीपुर मेमरान निवासी बेबी नाज (44) जरदोजी का काम करके घर चलाती हैं। करीब 17 वर्ष पहले उनकी शादी बारादरी क्षेत्र के कांकरटोला निवासी मोहम्मद आदिल (58) से हुई थी। उन्होंने बताया कि पति शुरू से ही कोई काम नहीं करता था। अक्सर दहेज की मांग को लेेकर मारपीट करता था। विवाह के बाद उसकी हरकतों के चलते ससुरालियों ने उन्हें घर से निकाल दिया था। फिर वह पति के साथ अपने मायके लौट आईं। जरदोजी का काम शुरू किया तो वह जबरन मारपीट कर रुपये छीन लेता था। आरोप है कि 15 मई को रुपये मांगने पर पति को मना किया तो वह मारपीट करने लगा। इसके बाद उन्हें तीन तलाक दे दिया और पीटते हुए घर से निकाल दिया। बताया कि वह कई बार एनडीपीएस में जेल भी जा चुका है। ... और पढ़ें

पीलीभीत डिपो की बस ने मोटरसाइकिल सवार को मारा, बाद में हुई दुर्घटनाग्रस्त

बरेली। पीलीभीत से कौशांबी जा रही शताब्दी बस सेवा ने जोया में एक मोटरसाइकिल सवार को मार दिया। इसके बाद वह भी दुर्घटनाग्रस्त हो गई। बाद में गुस्साई भीड़ ने बस की तोड़फोड़ कर दी। इसमें बस में बैठी सवारियां घबरा गई और चीख पुकार मच गई। चालक को नशे में बताया गया है।
इस बस में बरेली की सवारियां भी बैठी थीं। उन्होंने दुर्घटना के बाद फोन कर के प्रेस को जानकारी दी। उनका बताना है कि रास्ते में डेड बॉडी जा थी। चालक बस लेकर पहले वहां घुस पड़ा, उसके बाद ही वहां से बचा कर एक मोटरसाईकिल सवार को रौंद दिया। इसके बाद वहां से वह बस लेकर जैसे भागा सड़क के कई वाहनों से टकराता हुआ आगे जाकर किसी बड़े वाहन से टकरा कर वहीं रुक गया। इससे बस का अगला हिस्सा टूट फूट गया और फिर पीछे से आई भीड़ ने बस को घेर कर तोड़ फोड़ कर दी। उन्होंने कहा कि चालक शराब पिए था और बुरी तरह नशें था। मौके पर जोया पुलिस भी पहुंच गई थी और चालक को हिरासत में ले लिया। बस भी पुलिस ने रोक लिया है। इस घटना के बाद दूसरी बस से सवारियों को आगे रवाना किया गया। इधर फोन पर हुई बात चीत में एआरएम पीलीभीत विनोद गंगवार का कहना यह अनुबंधित बस है। चालक बस मालिक का होता है। बस भी पुलिस के कब्जे में है। छूटने के बाद विभाग कोई एक्शन लेगा। ... और पढ़ें

सिपाही दंपती के क्वार्टर में दिनदहाड़े चोरों ने किया हाथ साफ

बरेली। चोरों-अपराधियों के मन में पुलिस का कितना खौफ है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि चोर पुलिस वालों के घर भी नहीं छोड़ रहे। रविवार रात चोरों ने पुलिस लाइन में सेंध लगा दी। यहां एक सिपाही दंपति के क्वार्टर में चोरों ने दिनदहाड़े हाथ साफ कर लिया। दंपति के मुताबिक चोर नकदी और जेवर समेत लाखों का सामान ले गए। महिला सिपाही की शिकायत पर कोतवाली में चोरी की रिपोर्ट दर्ज की गई है।
कोतवाली क्षेत्र में पुलिस लाइन में तैनात महिला सिपाही मंजू अपने सिपाही पति के साथ एक क्वार्टर में रहती हैं। मंजू रविवार को पति के साथ अपने घर मुरादाबाद पहुंची हुई थी। बताया कि सोमवार को उनके पड़ोसी ने उन्हें क्वार्टर के ताले टूटे होने की सूचना दी थी। उन्होंने घर लौटकर देखा तो सारा बिखरा पड़ा था। उनके मुताबिक चोर अलमारी में रखी नकदी, सोने के जेवर समेत लाखों का सामान चुरा ले गए।
पत्नी की अस्थियां सिराने गए व्यक्ति के कारखाने में चोरी
सीबीगंज। पत्नी की अस्थियां विसर्जित करने हरिद्वार गए एक व्यक्ति के कारखाने में चोरों ने हाथ साफ कर दिया था। पुलिस ने घटना के दो हफ्ते बाद मुकदमा दर्ज किया है।
सीबीगंज की लेबर कॉलोनी निवासी रमाशंकर शर्मा का जौहरपुर फाटक के पास कारखाना है। बीते दिनों उनकी पत्नी का निधन हो गया था। जिसका अस्थि विसर्जन करने दो हफ्ते पहले रमाशंकर हरिद्वार गए हुए थे। तभी 7 अगस्त की रात कारखाने की टीन काटकर घुसे चोरों ने लोहे के एंगल, गैस कटर समेत हजारों का माल साफ कर दिया था। घटना की तहरीर पुलिस को दो हफ्ते पहले ही सौंप दी गई थी। ... और पढ़ें

पत्नी को इस चीज के लिए जुए में दांव पर लगाकर हार गया पति, महिला ने खूब काटा हंगामा

महाभारत में धर्मराज युधिष्ठिर के पत्नी द्रौपदी को जुए में दुर्योधन से हारने की बात तो सुनी होगी। मगर, कलयुगी पति ने महज एक बाइक के लिए पत्नी को जुए में दांव पर लगा दिया और हार गया। इसके बाद उसने जीतने वाले को पत्नी को सौंप भी दिया।

पति के इस दुस्साहस पर महिला ने हंगामा कर दिया और किसी तरह छूटकर मायके पहुंच गई। बाद में मायके से बाइक मिलने के भरोसे पर पति ने उसे घर में रख तो लिया, मगर वादा पूरा न होने पर उसे घर से निकाल दिया।

ये भी पढ़ें- सत्याग्रह एक्सप्रेस के पहियों से उठी चिंगारी, रुकते ही ट्रेन से कूदकर बाहर भागे यात्री

थाना पसगवां के गांव शंकरपुर में रहने वाले प्रकाश ने बेटी की शादी दो साल पहले कंधरापुर के विपिन के साथ की थी। दहेज में बाइक न मिलने से पति नाराज था। इस इच्छा को पूरा करने के लिए कुछ दिन पहले पति ने अपनी पत्नी को जुए में दांव पर लगा दिया और हार गया। फिर पत्नी को विपिन ने जुए में जीते हुए व्यक्ति के साथ जाने को कहा। बरखेड़ा का यह व्यक्ति महिला को जबरदस्ती अपने साथ ले जाने लगा।

महिला ने हंगामा किया तो उसका हाथ छोड़ा। इसके बाद वह मायके पहुंची और पिता को पूरी बात बताई। पिता ने ससुराल वालों से बेटी को रखने की खुशामद की। बाइक मिलने की शर्त पर ससुराल वालों ने उसे घर में रख लिया। जब पिता बाइक नहीं दे पाया तो पति ने उसे पीटा और एक दिन पहले घर से निकाल दिया। महिला गर्भवती है, परेशान हाल में मंगलवार को वह तहसील में एसडीएम से शिकायत करने पहुंची।
... और पढ़ें
पत्नी को जुए पर हारा पति (सांकेतिक तस्वीर) पत्नी को जुए पर हारा पति (सांकेतिक तस्वीर)

कांग्रेसियों ने मनाया राजीव गांधी का जन्मदिन

बरेली। भारतरत्न पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के 75वें जन्म दिवस पर कांग्रेसियों ने शहर में रक्तदान और गोष्ठियों जैसे कार्यक्रम आयोजित किए। महानगर कांग्रेस कमेटी की गोष्ठी में जिला कोआर्डिनेटर पीयूष रंजन यादव ने कहा कि राजीव गांधी प्रधानमंत्री रहते हुए संचार क्रांति लाए। 18 वर्षीय युवाओं को मताधिकार देने और पंजायती राज व्यवस्था को कायम किया। पूर्व मेयर सुप्रिया ऐरन और महानगर अध्यक्ष चौधरी असलम ने कहा कि राजीव गांधी ने आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ते हुए अपने प्राण की आहुति दे दी। उन्होंने शिक्षा, स्वास्थ्य एवं विकास की योजनाएं बनाईं, परंतु भाजपा और संघ उन पर झूठे आरोप मढ़कर देश को गुमराह कर रही है। प्रांतीय महामंत्री अजय शुक्ला, पूर्व प्रोफेसर अलाउद्दीन खां, इंजीनियर अनीस अहमद खां, ब्रह्मस्वरूप सागर आदि ने भी राजीव गांधी के बलिदान को याद किया। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी की योजनाओं को भाजपा सरकार खत्म करके युवा, किसान और पिछड़े वर्ग का उत्पीड़न कर रही है। इस दौरान अंजुन गंगवार, अवनीश बख्शी, डा. सरवत हुसैन हाशमी, अधिवक्ता दिनेश द्ददा, मुकेश वाल्मीकि, आदित्य कुमार सिंह आदि मौजूद रहे।
यूथ कांग्रेस के लोकसभा अध्यक्ष महेंद्र सिंह के नेतृत्व में आईएमए ब्लड बैंक में रक्तदान किया गया। महेंद्र सिंह ने राजीव गांधी के जीवन और उनके कार्यों पर चर्चा की। इस दौरान अशफाक सकलैनी, जुनेद हसन, किरन सहगल, वसीम सिद्दीकी, मुदित प्रताप सिंह आदि मौजूद रहे। ... और पढ़ें

निदा की अर्जी , बकाया गुजारा भत्ता दिलाया जाए


बरेली। निदा की ओर से आज परिवार न्यायालय में अर्जी देकर कहा गया कि कोर्ट के आदेश से तय किए गए गुजारे भत्ते की बकाया रकम शीरान से दिलाई जाए। शीरान के वकील ने इस पर समय मांगा तो सुनवाई अगली तारीख तक मुल्तवी कर दी गई।
निदा खान की ओर से दी गई अर्जी में कहा गया कि कोर्ट ने अपने आदेश में शीरान को बारह हजार रूपए माहवार बतौर गुजारा भत्ता देने का आदेश दिया था। इस आदेश के बाद से शीरान पर अब तक 48 हजार रूपए बकाया है जिसे उसको दिलाया जाए। शीरान आज कोर्ट में हाजिर नहीं हुए। उनकी ओर से उनके वकील ने अदालत से पैसा जमा करने के लिए समय मांगा जिसे अदालत ने मंजूर करते हुए 31 अगस्त की तारीख तय की है। ... और पढ़ें

22 सितंबर को होंगे आईएमए चुनाव

बरेली। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की बरेली शाखा के अध्यक्ष (2020-21) और सचिव (2019-20) पद के लिए 22 सितंबर को आईएमए परिसर में चुनाव होंगे। मंगलवार की देर शाम आईएमए पदाधिकारियों की बैठक के बाद चुनाव की तिथि निर्धारित की गई है। पूर्व में डॉ. रवि खन्ना को मुख्य चुनाव अधिकारी नियुक्त किया जाना प्रस्तावित था, लेकिन डॉ. खन्ना ने इससे इंकार कर दिया है, ऐसे में डॉ. रविश को मुख्य चुनाव अधिकारी नियुक्त किया गया है।
बताया जाता है कि चुनाव की तिथि घोषित होने के साथ ही, अध्यक्ष पद के लिए दो डॉक्टरों ने दावेदारी पेश कर दी है। इसमें एक दावेदार पूर्व में हुए चुनाव में अध्यक्ष पद के लिए दावेदारी भी कर चुके हैं। हालांकि, इनमें से एक भी तोमर गुट से नहीं है। सूत्रों के मुताबिक तोमर गुट में से किसी ने भी दावेदारी पेश नहीं की है। माना जा रहा है कि चुनाव तिथि घोषित होने के बाद अब सितंबर के पहले हफ्ते में अध्यक्ष पद के लिए तोमर गुट से किसी बड़े नाम से दावेदारी की जा सकती है। वहीं, सचिव पद के लिए भी दो डॉक्टरों ने दावेदारी पेश कर दी है लेकिन नामांकन होने तक इसमें बदलाव की आशंका जताई जा रही है। ... और पढ़ें

बरेली में शहला के गुर्गे के घर से बरामद हुईं 70 फाइलें


नवाबगंज। पुलिस ने शहला के गुर्गे अरशद के बरेली स्थित आवास से नवाबगंज नगर पालिका की 70 से ज्यादा फाइलें बरामद की हैं। यह सभी फाइलें वित्तीय लेनदेन से संबंधित है। यह फाइलें शहला के कहने पर ही बरेली से नवाबगंज लाई जाती थी। इसके बाद फिर वापस बरेली पहुंचा दी जाती थीं। पुलिस ने फाइलों को सील कर कोर्ट में पेश करने के लिए सुरक्षित रख दिया है। वहीं आरोपी अरशद को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया।
नगर पालिका अध्यक्ष शहला ताहिर के वित्तीय अधिकार सीज होने के बाद सोमवार को पालिका कार्यालय में अवैध रूप से कार्य कर रहे मोहम्मद अरशद को रिपोर्ट दर्ज होने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया था। अरशद ने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया कि कुछ फाइलें उसके बरेली स्थित आवास पर हैं। इसके बाद पुलिस उसे लेकर बरेली पहुंची और अलमारी खोलकर देखी तो उसमें से 70 से ज्यादा फाइलें बरामद हुईं। पुलिस इन फाइलों को नवाबगंज थाने ले आई। फिर गिनती कराकर इन्हें एक बोरे में सील कर दिया। पुलिस इन फाइलों को साक्ष्य के तौर पर कोर्ट में पेश करेगी। बाद में पुलिस ने अरशद को कोर्ट में पेश किया। जहां से उसे जेल भेज दिया गया।
अरशद को आखिरी तक नहीं लगने दी जेल भेजे जाने की भनक
पुलिस अरशद को आखिर तक यही दिलासा देती रही कि यदि वह जांच में सहयोग करेगा तो उसे छोड़ दिया जाएगा। नवाबगंज से जब पुलिस अरशद को बरेली लेकर आई और उसके घर से फाइलें बरामद की तब तक अरशद इसी भ्रम में था कि पुलिस उसे अभिलेख बरामद होने के बाद छोड़ देगी। बाद में पुलिस उसे जीप में बैठाकर कोर्ट लेकर चली तब भी उसे इस बात का पता नहीं लगने दिया।
फाइलों से खुल सकते हैं और कई घोटाले
अरशद के घर से पुलिस ने जो फाइलें बरामद की है वे सभी निर्माण कार्य, वेतन, प्रकाश व्यवस्था, पेंशन, सफाई उपकरण खरीदने आदि वित्तीय लेनदेन से संबंधित हैं। अरशद के मुताबिक यह फाइलें शहला के कहने पर ही पालिका कार्यालय लाई जाती थीं। इसके बाद फिर वापस इन्हें ले जाकर घर में अलमारी में बंद कर दिया जाता था। ईओ या फिर कई बार शिकायत होने पर जांच के दौरान फाइलें मांगी गईं तो इन्हें किसी भी अधिकारी के समक्ष पेश नहीं किया गया। बताते हैं इसी के चलते ईओ और शहला के बीच घमासान मचा रहता था। इसके चलते कोई भी ईओ यहां टिकना नहीं चाहता था। सूत्रों के मुताबिक इन फाइलों की जांच में कई बड़े घोटाले खुलने की उम्मीद है।
इतनी ही फाइलें और मिलने की उम्मीद
सूत्रों के मुताबिक अरशद की पालिका कार्यालय में भी जहां वह बैठता था निजी अलमारी है। इस अलमारी को अब तक खोलकर नहीं देखा गया है। उम्मीद जताई जा रही है इस अलमारी में भी 70 के करीब फाइलें निकल सकती हैं।
अब भी ऊंचे ओहदों पर बैठे कई फर्जी कर्मचारी
सूत्रों की माने तो नगर पालिका में अभी और फर्जी कर्मचारी है, जो पालिका में ऊंचे ओहदों पर बैठकर कामकाज देख रहे हैं। इसके अलावा कई ऐसे हैं जो सफाई कर्मी के पद पर तैनात है, लेकिन पालिकाध्यक्ष के करीबी होने के चलते लिपिक और अन्य पदों पर काबिज हैं।
प्रमुख सचिव के आने के सूचना पर चाक चौबंद हुई सफाई व्यवस्था
पालिकाध्यक्ष पर 47 लाख रुपये के गबन के आरोप की जांच करने के लिए बुधवार को प्रमुख सचिव नवाबगंज पहुंचने की सूचना पर मंगलवार को प्रशासन अलर्ट हो गया। प्रशासन ने नगर के गंगवार कॉलोनी, मुख्यमार्ग, पुराना ब्लॉक और बाईपास मार्ग पर जमकर साफ सफाई कराई। सूत्रों की माने तो प्रमुख सचिव मौके पर जाकर विकास कार्यों की जांच करेंगे।
पालिका कार्यालय की सुरक्षा कड़ी, बाहरी व्यक्ति का प्रवेश वर्जित
मामले की जांच चलने तक प्रशासन ने नगर पालिका में बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर रोक लगा दी हैं। इस दौरान वहीं व्यक्ति नगर पालिका में प्रवेश कर सकेगा जिसे पालिका से संबंधित कोई काम कराना होगा। उनका भी दायरा निश्चित रहेगा, वे उसी स्थान तक जा सकेंगे जो उसके काम से संबंधित होगा।
वर्जन
बरेली में मोहम्मद अरशद के घर से पुलिस ने अलमारी में रखीं नवाबगंज नगर पालिका की फाइलें बरामद की हैं। बरामद फाइलें सीज कर कोर्ट में पेश कर दी गईं हैं। जांच के बाद आरोपी अरशद को जेल भेज दिया गया है। गौरव सिंह, नवाबगंज ... और पढ़ें

बहेड़ी में अवैध खनन पर एक और इंस्पेक्टर की कुर्सी गई


बहेड़ी। नेताओं के दबाव में अवैध खनन कराने वालों का साथ देने के मामले में पुलिस की वर्दी पर लगा दाग और गहरा हो गया है। मंगलवार को एसएसपी ने अवैध खनन के मामले में इंस्पेक्टर राजेश कुमार को भी लाइन हाजिर कर दिया। उनके स्थान पर अब क्राइम ब्रांच की इन्वेस्टिगेशन विंग के रामअवतार सिंह को बहेड़ी का चार्ज दिया गया है। इससे पहले अवैध खनन के मामले में इलाके के कद्दावर नेता से रार होने के बाद इंस्पेक्टर धनंजय सिंह को भी लाइन हाजिर किया गया था।
बहेड़ी में अवैध खनन को लेकर दो बड़े नेताओं के स्वार्थ टकराने के बाद विवाद शुरू हुआ था। इनमें एक नेता इलाके का ही था जबकि दूसरा बदायूं का था। पुलिस ने बदायूं के नेता के दबाव में जब बहेड़ी के नेता के करीबी लोगों पर शिकंजा कसा तो बहेड़ी के नेता ने इंस्पेक्टर के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। इसके बाद अवैध खनन का सारा खेल खुलकर सामने आ गया। पता चला कि बहेड़ी में खनन के दो पट्टों पर रायल्टी का भुगतान किए बगैर नियम-शर्तों के खिलाफ बड़े पैमाने पर अवैध खनन किया जा रहा था। मामला शासन तक पहुंचने के बाद आला अफसरों को तत्कालीन इंस्पेक्टर धनंजय सिंह को लाइन हाजिर करने को मजबूर होना पड़ा था।
इंस्पेक्टर धनंजय सिंह को हटाए जाने के बाद बहेड़ी थाने का चार्ज थाने में ही तैनात अतिरिक्त इंस्पेक्टर राजेश कुमार को दे दिया गया था, लेकिन वह भी धनंजय सिंह के रास्ते पर ही चल पड़े। बेहद खामोशी के साथ इलाके में अवैध खनन फिर शुरू हो गया। इसकी शिकायतें आईं तो राजेश कुमार ने उन्हें भी हवा में उड़ा दिया। यहां तक किए एसडीएम के आदेश तक की अनदेखी कर अवैध खनन पर कार्रवाई करने जा रही राजस्व टीम के साथ पुलिसबल नहीं भेजा। एसडीएम ने इसकी शिकायत एसएसपी से की थी। इन सबका खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ा और एसएसपी मुनिराज जी. ने उन्हें लाइन हाजिर कर दिया। ब्यूरो ... और पढ़ें

चोटी कटवा भेजा गया जेल

बरेली। ऊलजलूल फतवा जारी करने और भड़काऊ बयान देने के आरोपी मोइन सिद्दीकी उर्फ चोटी कटवा को किला पुलिस ने मंगलवार को कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने उसे न्यायिक हिरासत में 14 दिन के लिए जेल भेज दिया। जेल जाने से पहले आरोपी ने फरहत नकवी और निदा खान का नाम लिए बगैर फिर निशाना साधा। बोला- बयानबाजी करने वालों को वक्त आने पर बताऊंगा।
रविवार को मेरा हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी ने महिलाओं के साथ किला थाने का घेराव कर धरना दिया था। उन्होंने आरोप लगाया था कि उनके खिलाफ फतवा जारी करने वाले मोईन उर्फ चोटी कटवा ने तीन दिन पहले नया फतवा जारी कर उन्हें तीन दिन में देश से निकालने का अल्टीमेटम दिया था। पुलिस पर आरोप लगाया कि भड़काऊ बयान और माहौल बिगाड़ने की साजिश के बाद भी आरोपी मोईन को नहीं पकड़ा जा रहा है। रविवार को फरहत की ओर से आईपीसी की धारा 506 के तहत थाना किला में मोईन सिद्दीकी के खिलाफ एक और रिपोर्ट दर्ज की गई। पुलिस ने सोमवार की शाम आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।
मंगलवार दोपहर करीब 12:30 बजे कोर्ट में पेश करने से पहले आरोपी मोईन सिद्दीकी को मेडिकल परीक्षण के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया। वहां मीडिया के बातचीत करने पर मोईन सिद्दीकी उर्फ चोटी कटवा बोला- मेरे खिलाफ जो बयानबाजी की जा रही है सब एकदम झूठ है। जेल से निकलने के बाद बयानबाजी करने वालों को वक्त आने पर बताऊंगा। वह बोला मेरे खिलाफ तरह-तरह की चर्चाएं हो रही हैं। इसलिए दूरी बनाने के लिए भाई व परिवार के अन्य लोग इस तरह की बातें कर रहे हैं। मेडिकल परीक्षण के बाद आरोपी को कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेजने का आदेश पारित किया।
आरोपी के खिलाफ धारा 506 का मुकदमा दर्ज है। ऐसी धमकी जिससे किसी के जीवन को खतरा हो उसमें बाहर से जमानत का प्रावधान नहीं है। इसमें दस वर्ष तक की सजा हो सकती है। - डीसी शर्मा, किला इंस्पेक्टर
मिलीभगत के चलते हुई मोईन की गिरफ्तारी
मंगलवार दोपहर आला हजरत हेल्पिंग सोसाइटी की अध्यक्ष निदा खान एसएसपी कार्यालय पहुंची। हालांकि उस वक्त एसएसपी अपने दफ्तर में मौजूद नहीं थे। वहां मीडिया के सवालों के जवाब में निदा खान ने कहा कि मोईन ने फतवा नहीं प्रेस नोट जारी किया था। फतवा दारुल इफ्ता की ओर से जारी किया गया था। मोईन बयान तो किसी के खिलाफ भी दे सकता है। निदा का कहना है कि उन्होंने मोईन के खिलाफ डेढ़ साल पहले रिपोर्ट दर्ज कराई थी। तब उसे गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया? जबकि उसे गिरफ्तार करने को डीएम ने भी आदेश दिया था। अब अचानक कहां से मिल गया। फिर फतवा जारी करने वाले खुर्शीद आलम को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया? निदा का कहना है कि पुलिस ने अपनी नाकामी छिपाने और मिलीभगत के चलते मोईन को गिरफ्तार किया गया है। मिलीभगत करने वालों में सीरान भी हो सकते हैं। ... और पढ़ें

फुटबाल लीग :  हार्ट और स्टेडियम के आगे विरोधी हुए पस्त

बरेली। स्पोर्ट स्टेडियम में चल रही जिला फुटबाल लीग के चौथे दिन दो मुकाबले हुए। हार्ट क्लब और फ्लाइंग टीमों के बीच हुए मुकाबले में हार्ट क्लब और स्टेडियम ब्वॉयज और वीएमजी के मैच में स्टेडियम विजेता बना। रोमांचक मुकाबले को देखने के मंगलवार को काफी तादाद में खेल प्रेमी भी स्टेडियम पहुंचे थे।
स्पोर्ट्स स्टेडियम में चल रही जिला फुटबाल लीग में मंगलवार को पहला मैच हार्ट क्लब और फ्लाइंग के बीच हुआ। हार्ट के अनुभवी खिलाड़ियों के प्रदर्शन के आगे विरोधी टीम पस्त रही। हार्ट के चिन्मय ने गोल कर खाता खोला और आखिर में 5-0 से हार्ट विजेता बना। इसके बाद स्टेडियम और वीएमजी टीम के बीच मुकाबला शुरू हुआ। स्टेडियम ने मुकाबले में शुरू से ही पकड़ बना ली। खेल शुरू होते ही अदनान ने 25 गज से गोल किया लेकिन विरोधी टीम के गोलकीपर उसे बचाने में कामयाब रहा। 20वें मिनट में अदनान ने गोल कर खाता खोला। इसके बाद एक एक गोल कर 8-1 के भारी अंतर से स्टेडियम ने जीत दर्ज कर ली। इस दौरान नजीर सिद्दीकी, अविनाश शर्मा, मून रॉबिन्सन, अभिषेक सेन व अन्य मौजूद रहे। ... और पढ़ें

अपराजिता बनना है तो पहले खुद पर भरोसा होना जरूरी

बरेली। अमर उजाला ‘100 मिलियन स्माइल्स’ मुहिम के तहत मंगलवार को सिटी स्टेशन रोड स्थित जीजीआईसी में ‘21वीं सदी में महिला सुरक्षा’ विषय पर भाषण प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। प्रतिभागियों ने बेबाकी से अपनी बात रखी। कहा, नारी कमजोर नहीं बल्कि सशक्त है। बेटियां कार से लेकर हवाई जहाज तक उड़ा रही हैं। लेकिन बरसों पुरानी थोपे गए रीति रिवाज और रूढ़ियों से वे खुद को आजाद न कर पाने की वजह से कैद में हैं। उन्होंने महिलाओं से अपने भाषण के जरिए अपील की कि अपराजिता बनना है तो पहले खुद पर भरोसा जरूरी है।
भाषण प्रतियोगिता में जीजीआईसी की छात्राओं ने बढ़चढ़कर प्रतिभाग किया। छात्राओं ने बताया कि 21वीं सदी में महिला उत्पीड़न पर रोक नहीं लग रही है। इसकी मुख्य वजह कानून का सख्ती से लागू नहीं किए जाने समेत उत्पीड़न पर खामोश रहने वाली महिलाएं दोनों ही जिम्मेदार हैं। सरकार ने छेड़छाड़ या घरेलू हिंसा समेत अन्य महिला अपराधों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं लेकिन महिलाएं उनके प्रति जागरूक नहीं हैं या जानकर भी अनजान बनी हैं। इसकी वजह से वे आज भी दहलीज के अंदर कैद हैं। कहा किताबों में महिला सशक्तिकरण का पाठ पढ़ने या उस पर विचार विमर्श का तब तक सकारात्मक पहल नहीं होगी जब तक महिलाएं खुद अपने हक के लिए आवाजा नहीं उठाएंगी। इस दौरान प्रिंसिपल अनु पराशरी ने छात्राओं को महिला सशक्तिकरण समेत पढ़ लिखकर समाज के विकास में योगदान देने को प्रोत्साहित किया।
सम्मानित हुए विजेता
भाषण प्रतियोगिता में 12वीं की कीर्तिका अग्निहोत्री प्रथम, 11वीं की सृष्टि शर्मा द्वितीय, 11वीं की प्रिंसी शर्मा तृतीय, 11वीं की शिवानी गुप्ता चतुर्थ और 9वीं की राधा शर्मा पांचवें स्थान पर रहीं। इसके अलावा एक अन्य छात्रा 12वीं की शेफाली शर्मा के बेहतर प्रदर्शन को देखते हुए कंसोलेशन प्रमाण पत्र प्रदान किय गया। इसके बाद सभी ने अपराजिता की शपथ ली। यहां अर्चना राजपूत, ममता कुमारी, करुणा चौधरी, प्रवीणा श्रीवास्तव, सुमिता गोला, आबदा खानुम, शालिनी यादव व अन्य शिक्षिका मौजूद रहीं। ... और पढ़ें

बरेली कॉलेज : पढ़ाने को कहा तो गुरु जी बुरा मान गए


बरेली। पांच विभागाध्यक्षों को प्राचार्य की ओर से यूजीसी के नियमों का हवाला देते हुए रोजाना न्यूनतम पांच घंटे शिक्षण कार्य करने के लिए नोटिस दिए जाने के बाद बरेली कॉलेज के माहौल में नई हलचल शुरू हो गई है। उप प्राचार्य समेत जिन वरिष्ठ शिक्षकों को यह नोटिस दिया गया है, वे कॉलेज में चल रही राजनीति को इसकी वजह करार दे रहे हैं। उनका कहना है कि यह इससे भी जाहिर है कि यूजीसी के नियम कॉलेज के सभी शिक्षकों पर लागू होते हैं, लेकिन नोटिस सिर्फ पांच वरिष्ठ शिक्षकों को दिया गया है। अंदरखाने सुगबुगाहट है कि नोटिस जारी कर तीन दिन के अवकाश पर निकले प्राचार्य के बृहस्पतिवार को लौटने के बाद यह मुद्दा कॉलेज का माहौल और गरमा सकता है।
बरेली कॉलेज के प्राचार्य डॉ. अजय कुमार शर्मा की ओर से शनिवार को उप प्राचार्य व अंग्रेजी की विभागाध्यक्ष डॉ. पूर्णिमा अनिल, हिंदी के विभागाध्यक्ष डॉ. एसपी मौर्य, इतिहास की डॉ. संध्या मिश्रा, कॉमर्स के डॉ. पीके अग्रवाल और ललितकला की डॉ. मंजू सिंह को नोटिस जारी किए गए थे। नोटिस में इन पांचों विभागाध्यक्षों के यूजीसी के मानकों के अनुसार कॉलेज में प्रतिदिन पांच घंटे शिक्षण कार्य न करने और इसकी वजह से कॉलेज में पठन-पाठन का माहौल बाधित होने की बात कही गई थी। विभागाध्यक्षों को सोमवार को यह नोटिस मिला तो इस पर विरोध शुरू हो गया। सोमवार से ही प्राचार्य तीन दिन के अवकाश पर चले गए लिहाजा नोटिस पाने वाले शिक्षक उनके समक्ष विरोध भी दर्ज नहीं करा सके। अब उनके लौटने का इंतजार किया जा रहा है।
जिन शिक्षकों को नोटिस दिया गया है, वे प्राचार्य पर कॉलेज की राजनीति में शामिल होने की बात कह रहे हैं। अनाधिकारिक रूप से उनका कहना है कि कॉलेज के तमाम शिक्षक यूजीसी के नियमों के मुताबिक पांच घंटे शिक्षण कार्य नहीं करते, लेकिन नोटिस फिर भी सिर्फ पांच शिक्षकों को दिया गया है। प्राचार्य के अवकाश पर होने के कारण फिलहाल कोई कुछ खुलकर नहीं कह रहा है, लेकिन माना जा रहा है कि बृहस्पतिवार को प्राचार्य के छुट्टी से लौटने पर यह विरोध खुलकर सामने आ सकता है। हालांकि कुछ शिक्षक इसे शिक्षण व्यवस्था सुधारने की दिशा में प्राचार्य का बेहतर निर्णय भी बता रहे हैं।
शिक्षक संघ भी विरोध में
इस मामले को लेकर मंगलवार को शिक्षक संघ ने भी बैठक की। शिक्षक संघ ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण और शिक्षकों को बदनाम करने वाला कृत्य करार दिया है। संघ के महामंत्री डॉ. वीपी सिंह ने इस पर रोष व्यक्त करते हुए कहा है कि प्राचार्य के छुट्टी से लौटने पर प्रतिनिधिमंडल उनसे मुलाकात करेगा। उनका कहना है कि इससे कॉलेज की छवि धूमिल हुई है। ... और पढ़ें

एमएड की काउंसलिंग पूरी, खाली रह गईं 382 सीटें


बरेली। रुहेलखंड विश्वविद्यालय में चल रही एमएड की काउंसलिंग मंगलवार को पूरी हो गई, लेकिन 382 सीटें अब भी खाली रह गई हैं। माना जा रहा है कि इन्हें भरने के विश्वविद्यालय एक बार फिर काउंसलिंग कर सकता है।
एमएड पाठ्यक्रम संचालित करने वाले रुहेलखंड विश्वविद्यालय से संबद्ध करीब 20 कॉलेजों में 900 सीटों के लिए रविवार को काउंसलिंग प्रक्रिया शुरू की गई थी। स्पोर्ट्स स्टेडियम के टेबल टेनिस हॉल में तीन दिन चली काउंसलिंग में कुल 518 छात्र-छात्राओं ने एडमिशन के लिए प्रक्रिया पूरी कराई। मंगलवार को अंतिम दिन 173 छात्र-छात्राओं ने काउंसलिंग कराई। इसके बावजूद एमएड में 382 सीटें खाली रह गई हैं। सूत्रों का कहना है कि इन सीटों पर एडमिशन के लिए रुहेलखंड विश्वविद्यालय काउंसलिंग का एक और मौका दे सकता है। ब्यूरो ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree