बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

चले गए सरकार, अब डर काहे का

बरेली।  Updated Tue, 23 May 2017 12:47 AM IST
विज्ञापन
चले गए सरकार, अब डर काहे का
चले गए सरकार, अब डर काहे का - फोटो : चले गए सरकार, अब डर काहे का

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
मुख्यमंत्री चले गए। कई दिन से सभी विभागों के अफसर भाग दौड़ में लगे थे कि सरकार के सामने कोई चूक न दिखे। रविवार को देर शाम तक मुस्तैद रहना पड़ा सोमवार सबके लिए रिलैक्स होने का दिन था। सड़कों पर फिर वही अतिक्रमण । सेटेलाइट, शहामतगंज, शहदाना चौराहों पर जाम लगने लगा। सीएम दौर से पहले एयरफोर्स स्टेशन से पीलीभीत बाईपास होते हुए सैटेलाइट और सर्किट हाउस तक जो सड़क चौड़ी दिख रही थी, वह मुख्यमंत्री के जाते ही उसी ढर्रे पर आ गई। कुछ सरकारी दफ्तरों में अफसर और कर्मचारी काम निपटाते दिखे, लेकिन कुछ दफ्तरों में अफसर और कर्मचारियों की कुर्सियां खाली थीं। 
विज्ञापन

अतिक्रमण और जाम : 
सड़क पर अतिक्रमण का हाल सोमवार को फिर पहले जैसा ही हो गया। अयूब खां चौराहे से लेकर जिला अस्पताल तक  रविवार को  ठेले सड़क पर नहीं खडे़ थे, लेकिन सोमवार को फिर इनका कब्जा हो गया। नावल्टी के आसपास जाम की स्थिति बनती रही। जिला अस्पताल के बाहर और इंद्रा मार्केट में फिर दुकानदाराें ने अवैध रूप से दुकान सजा ली।  नगर निगम के सामने डलाव घर में रविवार को कूड़ा सड़क पर नहीं था, जबकि सोमवार को यह सड़क पर आ गया। 

डॉक्टर ऐप्रन घर भूल आए  
मुख्यमंत्री के दौरे के दिन यानि रविवार को डॉक्टर सतर्कता के साथ ऐप्रन (सफेद कोट) पहने रहे थे। कुछ ने जल्दबाजी में ऑफिस में आकर उसे प्रेस कराया। कुछ डाक्टरों ने नए ऐप्रन और नई नेम प्लेट बनवाकर लगाई। सोमवार को  कोई भी डॉक्टर ऐप्रन में नहीं था। कुच ऐप्रन कुर्सी पर टंगे हुए थे। नर्स और वार्ड ब्वाय जरूर सफेद ड्रेस में दिखे। डॉक्टराें ने बताया कि  जिला अस्पताल की ओपीडी में कूलर तक नहीं चल रहे हैं, ऐसे में ऐप्रन पहनने पर पसीने से बैठना मुश्किल हो जाता है। सफाई कर्मी जुटे रहे। पूरे परिसर में दो बार झाडू़ लगाई गई। 
विकास भवन   
सीडीओ सत्येंद्र कुमार रोजाना की तरह दफ्तर में पेंडिंग फाइलें आगे बढ़ाने में व्यस्त रहे। मुख्यमंत्री की समीक्षा में दिए गए बिंदुओं पर काम तेज करने के लिए उन्होंने संबंधित उपजिलाधिकारी और अन्य अफसरों से बात की। सांसद आदर्श योजना में चयनित गांवों में विकास तेज करने के लिए रणनीति बनाई। डीडीओ राम रक्षपाल, एआर कोआपरेटिव वीर विक्रम सिंह, सीवीओ डा. विनोद कुमार समेत तमाम अफसर सुबह नौ बजे ही दफ्तर आ गए और 11 बजे तक मौजूद रहे। हालांकि कृषि, कृषि रक्षा, अर्थ संख्या, पंचायत राज, समाज कल्याण, आरईएस, डीआरडीए में कई कर्मचारी अपनी सीट से नदारद थे। सफाई व्यवस्था चुस्त थी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us