विज्ञापन
विज्ञापन

व्हाइट हाउस तक पहुंचा बरेली की चाकूबाजी का विवाद

Bareily Bureauबरेली ब्यूरो Updated Mon, 27 May 2019 01:58 AM IST
ख़बर सुनें
बरेली। संपत्ति विवाद में बरेली के मूल निवासी वैज्ञानिक डॉ. आफताब आलम पर चाकू से हमला करने के बारादरी में दर्ज मामले की अब थाना बिथरी से विवेचना कराई जा रही है। बारादरी पुलिस के खेल को बिथरी पुलिस ने काफी हद तक पकड़ लिया है और आरोपियों पर चार्जशीट लगने की संभावना है। वहीं, इस मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी न होने से आहत एनआरआई ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ट्वीट करके मामले में हस्तक्षेप करने की मांग की है।
विज्ञापन
विज्ञापन
डॉ. आफताब और उनकी पत्नी अजमत न्यूयार्क में रहते हैं। डॉ. आफताब आलम कृषि वैज्ञानिक हैं और संयुक्त राष्ट्र में सलाहकार भी रह चुके हैं। डॉ. आफताब के मुताबिक वे बारादरी में पुराना शहर के निवासी हैं और अपना मकान बहन को रहने के लिए दे दिया था। माता-पिता की मृत्यु के बाद मकान खाली करने को कहने पर बहन झगड़ा करने लगीं। आरोप है कि वर्ष 2017 में वे न्यूयार्क से रिश्तेदार की शादी में शामिल होने बरेली आए तो बहन के परिवारवालों ने उन पर चाकू से हमला कर दिया। उनके गले और सीने में चाकू लगे। बारादरी थाने में रिपोर्ट कराकर वह चले गए। मगर विवेचक ने दूसरे पक्ष से सांठगांठ कर मामले में एफआर लगा दी। उन्हें पता लगा तो एडीजी से शिकायत की। तत्कालीन एडीजी प्रेमप्रकाश ने एफआर निरस्त कर बिथरी चैनपुर पुलिस को दोबारा विवेचना के निर्देश दिए। तब से मामले की विवेचना एसएसआई मनोज वर्मा कर रहे हैं। सूत्रों की मानें तो उन्हें विवेचना में कुछ नए तथ्य मिले हैं। पांच आरोपियों पर चार्जशीट लगाई जा सकती है। मगर पुलिस की शिथिलता को देख डॉ. आफताब ने अब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मदद मांगी है। माना जा रहा है कि यह मामला विदेश मंत्रालय के जरिये फिर बरेली पुलिस तक आएगा।
 
बिना साक्ष्य लगाई थी एफआर
एनआरआई को चाकू मारने के मामले में बारादरी पुलिस ने खेल कर दिया था। विवेचक ने उस मेडिकल रिपोर्ट को भी दरकिनार कर दिया था जिसमें डॉ. आफताब को लगे चाकू से हुए घाव को गंभीर माना था। प्रत्यक्षदर्शियों की गवाही भी नहीं ली गई। हालांकि अब गवाहों ने बयान दर्ज करा दिए हैं।
 
 एनआरआई डॉ. आफताब आलम ने मुझे भी इस प्रकरण में मेसेज किए थे। मैंने विवेचक को तलब कर सच्चाई सामने लाने और दोषियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए थे। अब वादी कहां और किससे शिकायत कर रहे हैं। यह मेरे संज्ञान में नहीं हैं। नियमानुसार विवेचना तो विवेचक ही करेंगे। उसी आधार पर कार्रवाई होगी। - राजेश कुमार पांडेय, डीआईजी रेंज

Recommended

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए
Lovely Professional University

एलपीयू ही बेस्ट च्वॉइस क्यों है इंजीनियरिंग और अन्य कोर्सों के लिए

लाख प्रयास के बावजूद  नहीं मिल रही नौकरी? कराएं शनि-केतु शांति पूजा- 29 जून 2019
Astrology

लाख प्रयास के बावजूद नहीं मिल रही नौकरी? कराएं शनि-केतु शांति पूजा- 29 जून 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Bareilly

बदायूं पुलिस बंदूक के बल पर कर रही वाहन चेकिंग, जेब में तलाश रहे हेलमेट, वीडियो वारयल

उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले के वजीरगंज में चेंकिग के दौरान मोटर साइकिल सवार पर सिपाहियों ने बंदूक तान दी। मोटर साइकिल सवार हाथ ऊपर कर खड़ा रहा और इस दौरान एक सिपाही बाइक सवार की जांच करने लगा।

24 जून 2019

विज्ञापन

पीएम मोदी ने गालिब के जिक्र के साथ सुनाया जो शेर वो गालिब का है ही नहीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर चर्चा का जवाब दिया। राज्यसभा में पीएम मोदी का शायराना अंदाज देखने को मिला।

26 जून 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
सबसे तेज अनुभव के लिए
अमर उजाला लाइट ऐप चुनें
Add to Home Screen
Election