'My Result Plus
'My Result Plus

छात्राओं के अपहरण की कोशिश करने वाले गए जेल

Bareilly Updated Thu, 27 Dec 2012 05:30 AM IST
ख़बर सुनें

बरेली। तीन बहनों को दिनदहाड़े चलती सड़क पर अगवा करने की कोशिश के आरोप में गिरफ्तार किए गए चारों अभियुक्तों को बुधवार को जेल भेज दिया गया।
मंगलवार को स्टेडियम रोड पर तीन बहनों को अगवा करने की कोशिश गई थी। तीनों छात्राएं सेंट फ्रांसिस स्कूल से क्रिसमस कार्यक्रम देखकर घर लौट रहीं थीं। उनके शोर मचाने पर छत्रपाल सिंह, अनुज मिश्रा, रोहित और अमजद खां समेत चारों आरोपियों को पुलिस ने घटनास्थल पर ही गिरफ्तार कर लिया था। आज पुलिस ने चारों अभियुक्तों को कोर्ट में पेश किया। कोर्ट के आदेश पर उन्हें जेल भेज दिया गया।

इस गुंडा पार्टी के नाम से कांपते हैं लोग

सिटी रिपोर्टर
बरेली। तीन बहनों को दिनदहाड़े अगवा करने की कोशिश करने वाली गुंडा पार्टी शहर भर में मशहूर है। जो इस गुंडा पार्टी के कारनामों को जानते हैं, वे इसके नाम से ही कांपते हैं। इनमें एक गुंडई के लिए बदनाम है। दूसरा हिस्ट्रीशीटर है और तीसरे पर तो हत्या का मुकदमा तक चल रहा है।
छत्रपाल सिंह: मूलरूप से इज्जतनगर इलाके के मोहरनियां गांव का निवासी। एक मकान डेलापीर के पास आनंद विहार कॉलोनी में भी। विश्वविद्यालय से बीटेक करने के साथ छात्रसंघ का महामंत्री रह चुका है। पिता तिलक इंटर कॉलेज में शिक्षक और बड़ा भाई मानसिक अस्पताल में डॉक्टर है। पुलिस के मुताबिक छत्रपाल जानलेवा हमला करने, रंगदारी वसूलने और गुंडा एक्ट जैसे मामलों में जेल जा चुका है।
अनुज मिश्रा: बीसलपुर (पीलीभीत) के मिघौना गांव का मूल निवासी। लूट और जानलेवा हमले के कई मुकदमे चल रहे हैं। थाना बारादरी में हिस्ट्रीशीट। 16 नवंबर को ही जमानत पर जेल से छूटा था।
रोहित: ब्राह्मपुरा मोहल्ले का मूल निवासी। एक और मकान सैनिक कॉलोनी में भी। पिता ओमकार हत्या के आरोप में वर्ष 2009 से जेल में हैं। खुद भी हत्या के मुकदमे में जेल गया था और जमानत पर है। छत्रपाल की कार चलाता है।
अमजद खां: हजियापुर में मॉडल टाउन चौकी के सामने पुराने टायरों की दुकान। तीनों बहनों को दौड़कर कोशिश करने वाला अमजद ही था और पिज्जा हट के अंदर भी घुस गया था।
-----------

छत्रपाल और उसके साथियों पर एक और मुकदमा
नौ दिन पहले कारोबारी के बेटे से मांगी थी रंगदारी
सिटी रिपोर्टर
बरेली। छात्राओं को अगवा करने की कोशिश करने वाले छत्रपाल सिंह तथा उसके तीनों साथियों खिलाफ बुधवार को कालीबाड़ी के एक कारोबारी ने थाना बारादरी में रंगदारी मांगने का मुकदमा दर्ज कराया है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि बीते 17 दिसंबर की शाम कालीबाड़ी निवासी कारोबारी वागेश शर्मा का बेटा अमित शर्मा उर्फ दीपू पुराना शहर जोगी नवादा गया था। शाम करीब साढ़े सात बजे घर लौटते समय कांकर टोला में छात्रपाल तथा उसके तीन साथियों ने दीपू को जबरन रोक लिया। पुलिस के मुताबिक चारो युवक दीपू को गली के अंदर ले गए। उससे बीस हजार रुपये मांगे। मना करने पर उसकी स्कूटी लूटकर भागने लगे लेकिन लोगों के शोर मचाने पर स्कूटी छोड़कर फरार हो गए थे। बुधवार को अखबारों में फोटो छपी देखकर दीपू ने चारो युवकों को पहचान लिया। आज थाना बारादरी में चारों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज करा दिया।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Dehradun

तार-तार हुए रिश्ते, मामूली विवाद में बड़े भाई ने छोटे के पेट में घोंपा चाकू

मामूली विवाद में बड़े भाई ने छोटे भाई के पेट में चाकू घोंपकर घायल कर दिया। उसे एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 

24 अप्रैल 2018

Related Videos

एटीएम से निकला ‘चूरन लेबल’ का पांच सौ रुपये का नोट

अब अगर आप एटीएम से पैसे निकालें तो नोट को जांच जरूर लें। बरेली में सुभाषनगर इलाके में यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया के एटीएम में नकली नोट निकले हैं। एक ग्राहक को पांच-पांच सौ रुपये के चूरन लेबल के नोट मिले। ग्राहक ने इस मामले में शिकायत दर्ज करा दी है।

24 अप्रैल 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen