... कैसे सुरक्षित रहेंगी बेटियां

Bareilly Updated Wed, 26 Dec 2012 05:30 AM IST
बरेली। शहर में लचर कानून व्यवस्था के चलते महिलाओं के साथ लूटपाट, छीनाझपटी जैसी वारदातों में तो इजाफा तो हो ही रहा है। लेकिन यहां बेटियां भी सुरक्षित नहीं हैं। आज उन बेटियों ने साहस का परिचय नहीं दिया होता तो दरिंदे न जाने किया हश्र करते। इसकी दहशत तीनों छात्रों के चेहेरों पर साफ साफ झलक रही थी। उनकी आंखों से आंसू रुकने का नाम नहीं ले रहे थे। यह दशा उन छात्राओं की थी जो गुंडोें के पंजों से बचकर आप बीती सुना रही थीं। बार-बार उनका एक सवाल था, क्या लड़कियां पढ़ना छोड़ दें? शहर में कैसे सुरक्षित रहेंगी बेटियां।
करीब साढ़े तीन बजे थे। स्टेडियम रोड पर स्टेडियम गेट के सामने काफी लोगों की भीड़ जमा थी। नजदीक में ही पजेरो कार खड़ी थी, उसमें चार युवक बैठे थे। सभी युवक शराब के नशे में धुत थे। पुलिस ने गाड़ी को चारों ओर से घेर रखा था। भीड़ के बीच खड़ी तीनों छात्राओं ने रोते हुए पुलिस को आप बीती सुनाई। उन्होंने बताया तीनों बहनें तथा छोटा भाई आपस में बातें करते हुए पैदल घर जा रहे थे। अचानक एक युवक ने आवाज दी। उन्होंने पीछे मुड़कर देखा तो युवक हाथ से रुकने का इशारा किया। जब वह नहीं रुकीं तो पीछे-पीछे आने लगा। उसकी आंखें लाल हो रही थीं। उसके तीन साथी कार में आ रहे थे। कार से आवाज आ रही थी कि पकड़कर कार में बैठा लो। बस इतना सुना था कि तीनों लड़कियां भय से कांपने लगी। साहस का परिचय देते हुए छात्राओं ने भागना शुरू कर दिया और पिज्जा हट के अंदर जा छिपी।
लड़कियों ने बताया कि वह स्कूल से आ रहीं थीं। अगर बदमाश ऐसे लड़कियों के पीछे पड़े रहें तो पढ़ाई कैसे हो सकती है। मां बाप तो हर रोज स्कूल छोड़ने नहीं जा सकते। आखिर लड़कियां क्या करें? पढ़ना लिखना छोड़ दें। अपने घरों में कैद हो जाएं। इस शहर में बेटियां कैसे सुरिक्षत रहेगीं। यही सवाल उन्होंने थाना बारादरी में पुलिस के सामने किए।

दिल्ली हो रही बरेली
घटना के बाद थाने के बाहर लोग एकत्रित होने शुरू हो गए। लोगों का कहना था कि दिल्ली रेप कांड का मामला अभी शांत भी नहीं है कि बरेली में भी गुंडों ने हद पार कर दी। दिनदहाड़े ऐसी वारदातें होने लगी हैं। जैसे जैसे शहर के लोगों को इस घटना की जानकारी होती जा रही थी बारादरी थाने में लोगों की भीड़ बढ़ती जा रही थी। बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल द्विवेदी, छात्राओं के परिजन और रिश्तेदारों समेत तमाम लोगों की भीड़ जमा हो गई। सीओ सिटी तृतीय ओमप्रकाश यादव समेत कई अफसरों ने थाने पहुंचकर आरोपियों से पूछताछ की।

पिज्जा हट कर्मियों ने दिखाया दम
पिज्जा हट के मैनेजर और कर्मचारियों ने साहस का परिचय दिया। लड़कियों को बदहवास देख पीछे किचिन में छिपा दिया। युवक ने पहुंच छात्राओं को चारों ओर तलाश किया। मैनेजर से समझदारी का परिचय देते हुए बदमाश से न भिड़कर चुपके से बारादरी इंस्पेक्टर सत्यप्रकाश शर्मा को फोन कर दिया, जिससे आरोपी मौके पर ही सभी आरोपी पकड़े गए।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

हरियाणाः यमुनानगर में 12वीं के छात्र ने लेडी प्रिंसिपल को मारी तीन गोलियां, मौत

हरियाणा के यमुनानगर में आज स्कूल में घुसकर प्रिंसिपल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। मामले में 12वीं के एक छात्र को गिरफ्तार किया गया है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

शाहजहांपुर के अटसलिया गांव में नहीं हो रही लड़कों की शादी, ये है वजह

केंद्र सरकार खुले में शौच से मुक्ति दिलाने के लिए स्वच्छ भारत मिशन के तहत करोड़ों रुपये खर्च कर रही है, लेकिन यूपी के शाहजहांपुर जिले में एक गांव ऐसा है जहां महिलाओं को आज भी खुले में शौच जाना पड़ता है।

20 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper