बरेली सफाई के मामले में मुरादाबाद से काफी पीछे

Bareilly Updated Sun, 02 Dec 2012 05:30 AM IST
बरेली। सफाई और दूसरी मूलभूत सुविधाओं के मामले में बरेली पड़ोसी शहर मुरादाबाद से भी काफी पिछड़ गया है। दरअसल यह दावा केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के आंकड़ों का है, जिसके बारे में हैदराबाद से बरेली के सेनिटेशन प्लान का सर्वे करने आई एक टीम ने शनिवार को नगर निगम में ऑन लाइन प्रेजेंटेशन दिया।
हैदराबाद के एडमिनिस्ट्रेटिव स्टाफ कॉलेज के रिसर्च एसोसिएट्स केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय के लिए सर्वे कर रहे हैं। यूपी में उन्हें दस शहरों के सर्वे का जिम्मा दिया गया है। सीनियर रिसर्च एसोसिएट राजरतन और श्वेता ने तीन दिन पहले यहां सर्वे शुरू किया था। शनिवार को उन्होंने नगर निगम कार्यालय में मेयर डॉ. आईएस तोमर और नगर आयुक्त उमेश प्रताप सिंह की मौजूदगी में इस सर्वे का प्रेजेंटेशन किया। आंकड़ों से पता चला कि दस शहरों में सफाई और दूसरी मूलभूत सुविधाओं के मामले में मुरादाबाद का नंबर 138 और बरेली का 187 है। यह रैंकिंग देश के 440 शहरों के लिए की गई है। इसके मानक कूड़ा निस्तारण, पेयजल आपूर्ति, जलभराव आदि की स्थिति है।
रिसर्च एसोसिएट्स ने बताया कि यह सर्वे शहर को चार जोन में बांटकर किया गया। अभी यहां सिर्फ 40 प्रतिशत हिस्से में सीवर की व्यवस्था है। मार्केट में जहां शौचालच बने भी हैं, लोग उनका इस्तेमाल नहीं करते। सामुदायिक शौचालय बन जाते हैं तो उनका रखरखाव नहीं होता। सर्वे टीम ने शहर में डेरियों से निकलने वाले गोबर का सही इस्तेमाल न होने के बारे में कोई जानकारी नहीं जुटाई थी। मेयर ने इस बिंदु को भी शामिल करने के बाद ही रिपोर्ट मंत्रालय को देने के लिए कहा। टीम ने स्पष्ट किया कि उसकी सर्वे रिपोर्ट के आधार पर यदि प्रदेश सरकार केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय से मांग करे तो शहर के विकास के लिए अच्छी रकम स्वीकृत हो सकती है। ऐसा कुछ शहरोें में हुआ भी है।

सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट ने बनाया मुरादाबाद को बेहतर
सर्वे टीम ने प्रेजेंटेशन के दौरान बताया कि सफाई के मामले में मुरादाबाद की स्थिति बरेली से बेहतर होने के पीछे वहां सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट का चालू होना एक बड़ा कारण है। इस प्लांट की वजह से ही वहां अब गलियों-सड़कों में कहीं कूड़े का ढेर नहीं दिखाई देता। जबकि सर्वे में पाया गया कि बरेली शहर में जहां-तहां कूड़ा डंप हो रहा है। टीम ने बताया कि बरेली, मुरादाबाद समेत नौ शहर ब्लैक जोन में हैं, जबकि इलाहाबाद रेड जोन में है।

Spotlight

Most Read

National

मौजूदा हवा सेहत के लिए सही है या नहीं, जान सकेंगे आप

दिल्ली के फिलहाल 50 ट्रैफिक सिग्नल पर वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) डिस्पले वाले एलईडी पैनल पर यह जानकारी प्रदर्शित किए जाने की कवायद हो रही है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: बरेली के अस्पताल के ICU में लगी आग, दो महिला मरीजों की मौत

बरेली के एक प्राइवेट अस्पताल में आग लगने से दो महिला मरीजों की मौत हो गई। जबकि एक मरीज गंभीर रूप से घायल हो गया। आग आईसीयू में लगी थी और बताया जा रहा है मरीजों की मौत दम घुटने से हुई है। हालांकि आग की वजह अभी साफ नहीं हुई है।

16 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper