परसाखेड़ा: आवासीय कॉलोनी पर काम फिर शुरू

Bareilly Updated Mon, 08 Oct 2012 12:00 PM IST
बरेली। परसाखेड़ा के पास आवास एवं विकास परिषद की आवासीय कॉलोनी बनने की उम्मीद एक बार फिर बनती दिख रही है। नई भूमि अधिग्रहण नीति बनने के बाद इस योजना पर काम रुक गया था, लेकिन अब परिषद ने दोबारा कवायद शुरू की है। किसानों से आपत्तियां ले ली गई हैं। अगले महीने आपत्तियों के निस्तारण के बाद काम तेजी से बढ़ने की उम्मीद है।
परसाखेड़ा और नरियावल में आवासीय योजना प्रस्तावित हैं। ये दोनों कॉलोनी बड़े बाईपास के छोर पर बनाई जा रही हैं। परसाखेड़ा को प्राथमिकता देते हुए परिषद ने वहां अधिग्रहण की कार्रवाई शुरू की तो उसी दौरान भट्ठा पारसोल में बवाल खड़ा हो गया था। इसके बाद पूरे प्रदेश में अधिग्रहण नीति में परिवर्तन कर दिया गया था। नई नीति के तहत पहले किसानों से सहमति लेकर उनसे आपसी समझौते के तहत जमीन लेने का प्रयास किया जाना था। इस कारण यह योजना ठंडी पड़ गई थी। सहमति से बात नहीं बनी तो पिछले दिनों धारा 29 के तहत नोटिस देते हुए आपत्ति मांगी गईं।
अधिशासी अभियंता चंद्रमा राम ने बताया कि लगभग सभी किसानों से आपत्तियां आ गई हैं। नियोजन समिति अगले महीने इन आपत्तियों का निस्तारण कर जमीन अधिग्रहण की अगली कार्रवाई शुरू करेगी। उन्होंने बताया कि कुल 1386 एकड़ जमीन अधिग्रहीत की जानी है। इसमें 20 हजार से ज्यादा आवास बनेंगे। वहीं नरियावल में ढाई एकड़ में कॉलोनी बनेगी, वहां नोटिस देने से पहले धारा 28 की कार्यवाही जल्द शुरू होगी।

Spotlight

Most Read

Dehradun

आरटीओ में गोलमाल, जांच शुरू

आरटीओ में गोलमाल, जांच शुरू

21 जनवरी 2018

Related Videos

शाहजहांपुर के अटसलिया गांव में नहीं हो रही लड़कों की शादी, ये है वजह

केंद्र सरकार खुले में शौच से मुक्ति दिलाने के लिए स्वच्छ भारत मिशन के तहत करोड़ों रुपये खर्च कर रही है, लेकिन यूपी के शाहजहांपुर जिले में एक गांव ऐसा है जहां महिलाओं को आज भी खुले में शौच जाना पड़ता है।

20 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper