पुलिस ने मोहन सिंह को उठाया, भाजपाई भड़के

Bareilly Updated Wed, 19 Sep 2012 12:00 PM IST
बहेड़ी/देवरनियां। दमखोदा ब्लाक प्रमुख की कुर्सी को लेकर शुरू हुई राजनीतिक ‘जंग’ तेज हो गई है। रात पुलिस ने भाजपा नेता मोहन सिंह को उठा लिया। उन पर एक बीडीसी सदस्य को उठाए जाने का आरोप है। उधर भाजपा ने सत्ताधारी दल पर राजनीतिक पराजय से बचने को पुलिसिया दबाव बनाने का आरोप लगाया है। पूर्व विधायक छत्रपाल सिंह के नेतृत्व में मंगलवार को सुबह भाजपाइयों ने देवरनियां थाना घेर लिया, जिसके बाद दोपहर को पुलिस ने मोहन सिंह को रिहा कर दिया। हालांकि पुलिस ने उन्हें अपहृत महिला को ढूंढने के लिए सुपुर्दगी में दिए जाने की बात कही है।
दमखोदा ब्लाक प्रमुख मीना कुमारी समाजवादी पार्टी से जुड़ी हैं। पिछले कुछ दिनों से उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की मुहिम चल रही है। बहेड़ी ब्लाक की पूर्व प्रमुख मंजू देवी के पति भाजपा नेता मोहन सिंह इस मुहिम की अगुवाई कर रहे हैं। पिछले दिनों बहेड़ी थाने में मोहन सिंह के खिलाफ प्रमुख के पति धर्मपाल ने रंगदारी मांगने का मुकदमा कायम कराया था। कल उनके खिलाफ गांव जाफरा की बीडीसी सदस्य रामवती को उठाने के आरोप में थाना देवरनियां में एनसीआर दर्ज की गई। इस मामले में रामवती के पति पूरनलाल ने मोहनसिंह और 3 अन्य के खिलाफ तहरीर दी थी। थाना देवरनियां पुलिस ने रात 11 बजे के करीब मोहन सिंह को उनई मकरूका में उनके घर से उठाकर ले गई।
उधर, खबर लगते ही पूर्व विधायक छत्रपाल सिंह रात को ही थाना देवरनियां पहुंच गए और उनकी गिरफ्तारी का विरोध किया लेकिन पुलिस ने मोहनसिंह को नहीं छोड़ा। मंगलवार की सुबह पूर्व विधायक के नेतृत्व में तमाम भाजपाई देवरनियां थाने पहुंच गए। पूर्व केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने एसएसपी से फोन पर मोहनसिंह की गिरफ्तारी पर नाराजगी जताई। तमाम दबावों के चलते दोपहर 1:30 बजे के करीब पुलिस ने मोहन सिंह को छोड़ दिया।
मंगलवार को तहसील दिवस में ब्लाक प्रमुख मीना कुमारी के पति धर्मपाल ने एक प्रार्थना पत्र डीएम को दिया, जिसमें मोहन सिंह पर बीडीसी सदस्य रामवती को उठाने का आरोप लगाया गया था। धर्मपाल ने अपनी पत्नी ब्लाक प्रमुख की छवि खराब करने के लिए अविश्वास प्रस्ताव लाने के चक्कर में बीडीसी सदस्य को उठाने का आरोप मोहनसिंह व उनके साथियों पर लगाया है।
‘अविश्वास प्रस्ताव को रोकने के लिए झूठी तहरीर दिलाकर पुलिस से मेरा उत्पीड़न कराया जा रहा है। जाफरा गांव की बीडीसी सदस्य के अपहरण का आरोप मुझ पर लगाया गया, जबकि मैं कभी उस गांव में गया ही नहीं। इस मामले के साथ बहेड़ी से लगी एक विवादित जमीन का भी सत्तापक्ष के लोगों ने बैनामा कराया है, जिसमें हम लोग एक पक्ष की पैरवी कर रहे हैं। पुलिस के जरिए हमको उस मामले में भी हटाने का यह प्रयास है।’ -मोहन सिंह, भाजपा नेता
‘सत्तारूढ़ दल के लोग अपनी पार्टी के ब्लाक प्रमुख के खिलाफ आ रहे अविश्वास प्रस्ताव को लेकर भयभीत हो गए हैं और वह हतोत्साहित करने के लिए पुलिस का सहारा ले रहे हैं।’ -छत्रपाल सिंह, पूर्व विधायक
‘मोहन सिंह को रिहा नहीं किया गया है। उन्हें बीडीसी सदस्य को ढूंढने के लिए सुपुर्दगी में छोड़ा गया है।’
विजय पाल सिंह एसओ देवरनियां

Spotlight

Most Read

Shimla

वन भूमि से 416 पेड़ काटने के मामले में आरोपी गिरफ्तार

वन भूमि से 416 पेड़ काटने के मामले में आरोपी गिरफ्तार

20 जनवरी 2018

Related Videos

शाहजहांपुर के अटसलिया गांव में नहीं हो रही लड़कों की शादी, ये है वजह

केंद्र सरकार खुले में शौच से मुक्ति दिलाने के लिए स्वच्छ भारत मिशन के तहत करोड़ों रुपये खर्च कर रही है, लेकिन यूपी के शाहजहांपुर जिले में एक गांव ऐसा है जहां महिलाओं को आज भी खुले में शौच जाना पड़ता है।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper