कालीबाड़ी के लोगों ने निकाली भड़ास

Bareilly Updated Sat, 01 Sep 2012 12:00 PM IST
बरेली। कालीबाड़ी के लोगों ने प्रशासन के साथ हुई मीटिंग में जमकर भड़ास निकाली। उन्होंने कहा कि प्रशासन निष्पक्ष होकर काम नहीं कर रहा है। मोहल्ले के निर्दोष लोगों को गिरफ्तार किया गया। लोगों के घरों का सामान फेंक दिया और दरवाजे तोड़ दिए गए। पुलिस ने अत्याचार किया है। निर्दोष लोगों को छोड़ा जाए और उनके मुकदमे वापस लिए जाएं। यह पीड़ा कालीबाड़ी के लोगों ने प्रशासन के साथ हुई बैठक में रखी।
लोगों ने प्रशासन पर एकपक्षीय होकर कार्रवाई करने का आरोप भी लगाया। लोगों की बात सुनने के बाद डीएम अभिषेक प्रकाश ने कहा कि यह सच है कि कर्फ्यू को लागू कराने के लिए सख्ती करनी पड़ी और उपद्रवियों को गिरफ्तार करने के लिए कड़ी कार्रवाई की गई। मगर यह सब कुछ आप लोगों की सुरक्षा और शहर में बिगड़ते माहौल को ठीक करने के लिए जरूरी था। अब शहर में स्थितियां सही हैं और हम सबको मिलकर प्रगति और विकास के बारे में सोचना होगा। एसएसपी सत्येंद्रवीर सिंह ने कहा कि बरेली कॉलेज मुख्य गेट चौराहे पर पुलिस की गाड़ी किसने फूंकी और बलवा करने वालों के नाम पूछे। उन्होंने कहा कि शहर की शांति भंग करने वालों के नाम बताओ। एडीएम सिटी ने प्रशासन के 10 निर्णयों के बारे बताया और कहा कि अब सबको पूरा सहयोग करना होगा। एडीएम एफआर शिशिर ने कहा कि वक्त आ गया है कि शहर की फिजा को बदला जाए और इसमें लोगों की भागीदारी बेहद आवश्यक है। कार्यक्रम में एसपी सिटी शिवसागर सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट शीलधर यादव, एसीएम वंदिता श्रीवास्तव और मोहल्ले के तमाम लोग मौजूद रहे। प्रशासन के अधिकारियों और लोगों ने कार्यक्रम के पहले कालीबाड़ी मंदिर में माता काली की पूजा अर्चना भी की।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

प्रेम में बदनामी के डर से नाबालिग ने खुद को फूंका

शाहजहांपुर में एक नाबालिग लड़की ने बदनामी के डर से आग लगाकर जान दे दी। लड़की के प्रेमी ने लड़की के घर फोन करके दोनों के प्रेम प्रसंग की बात कही। जिसके बाद लड़की ने बदनामी से बचने के लिए ये कदम उठाया।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls